scorecardresearch
 

राजस्थान: आम आदमी के रंग में रंगी रानी

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने रोड शो को अंजाम देकर विधानसभा चुनाव का बिगुल फूंक दिया है, जिसकी लोकप्रियता ने सत्तारूढ़ कांग्रेस के भीतर भी अपनी यात्रा निकालने की बेचैनी पैदा कर दी है.

उनकी एयरकंडीशंड बस में दो सीट वाला सोफा है, कुछ कुर्सियां, टीवी, छोटा-सा वाशरूम है और छोटी-सी लिफ्ट भी, जो उन्हें बस की छत पर लेकर जाती है. वहां से वे रास्ते में जुटने वाली जनता को संबोधित करती हैं. इस यात्रा में वे रह-रहकर नींबू पानी और पुदीने वाली छाछ पीती हैं, बीच-बीच में स्थानीय भोजन ले लेती हैं. रोज दो विधानसभा क्षेत्रों में एक-एक रैली करती हैं. इस तरह रोजाना दो रैलियों को संबोधित करती हैं. उनका लक्ष्य राज्य के सभी 200 विधानसभा ह्नेत्रों में रैली करना है. रास्ते में वे 30 जगहों पर बने ''वेलकम हॉल्ट्स” पर रुकती हैं जहां वे मौजूदा सरकार के कामकाज के बारे में राय लेती हैं.vasundhara

राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश बीजेपी की अध्यक्ष वसुंधरा राजे ने दिसंबर, 2013 में होने वाले विधानसभा चुनाव के प्रचार का बिगुल फूंक दिया है. उनके अभियान का नाम है 'सुराज संकल्प’ यानी सुशासन के लिए अभियान, जो राज्य में 13,000 किमी की यात्रा पर 4 अप्रैल को निकला है और इसका समापन 21 जुलाई को होगा. इस यात्रा ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत समेत समूची कांग्रेस में बेचैनी पैदा कर दी है और वे भी अब अपनी यात्रा निकालने को छटपटा रहे हैं, लेकिन पहले यात्रा निकाल कर राजे ने बाजी मार ली है.

वसुंधरा की यात्रा को अच्छा-खासा समर्थन मिल रहा है. इस यात्रा की शुरुआत उदयपुर अंचल के एक प्रमुख धार्मिक केंद्र चारभुजा से हुई, जहां समर्थकों का जबरदस्त हुजूम जुटा. इसमें ज्यादातर युवा और महिलाएं थीं. इतना भारी समर्थन था कि रैली के रास्ते में गाडिय़ों का जाम लग गया. पार्टी का दावा है कि जयपुर में जब यह यात्रा खत्म होगी, तो इससे भी बड़ी रैली वहां देखने को मिलेगी.

इस यात्रा की तैयारी में राजे की टीम पिछले दो महीनों से जुटी हुई थी. इसका पहला चरण 16 अप्रैल को आदिवासी इलाके मेवाड़ में खत्म होगा. इस इलाके में बीजेपी के संगठनकर्ता और विधानसभा में विपक्ष के नेता गुलाबचंद कटारिया पिछले साल मई में खुद एक यात्रा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के समर्थन से निकालना चाहते थे, जिसकी वजह से वसुंधरा ने नाराज होकर पार्टी छोड़ देने की धमकी दे डाली थी. कटारिया उसके बाद से अनुशासित हो गए हैं. अब वे चाहते हैं कि वसुंधरा खुद इलाके में नेतृत्व करें और जनता को बताएं कि कैसे गहलोत ने मेवाड़ की उपेक्षा की है और आदिवासियों को मिलने वाले लाभ उन्हें नहीं मिल सके हैं.

राजे को पहली बार 2003 में राज्य की राजनीति में भैरोंसिंह शेखावत ने अपने विरोधियों को नीचा दिखाने के लिए उतारा था. राजे अचानक लोकप्रिय हो गई थीं, जिसकी वजह से पार्टी ने शेखावत के विकल्प के तौर पर उन्हें अपना लिया. तब तक शेखावत भारत के उपराष्ट्रपति बन चुके थे. शेखावत की छाया से खुद को उबारते हुए राजे ने 2003 में बीजेपी को रिकॉर्ड 120 सीटें दिलवाई थीं.

जब वे मुख्यमंत्री थीं, उस दौरान उन्होंने मेवाड़ के आदिवासियों को निचले पदों वाली नौकरियों में आरक्षण दिलवाया था. उन्होंने आदिवासियों के खिलाफ दर्ज शराब पीकर झंगड़ा करने और नकली शराब बनाने से जुड़े 25,000 मामले भी यह कहते हुए वापस ले लिए थे कि वे पारंपरिक रूप से अपनी शराब खुद बनाते आ रहे हैं. इतना कुछ करने के बावजूद मेवाड़ में बीजेपी को खास फायदा नहीं हुआ और वे 2003 की 29 में से 23 सीटों के मुकाबले 2008 में सिर्फ 6 सीटें जीत सकीं और राज्य में सत्ता से बाहर हो गईं.

हालांकि इस बार राजे आत्मविश्वास से लबरेज हैं क्योंकि उनकी रैलियों में भारी भीड़ जुट रही है. उनका यह उत्साह पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच भी देखा जा सकता है. उन्होंने इस बार अपनी शाही छवि को तोड़ दिया है. पोस्टरों में वे मुस्कराती हुई और भीड़ का अभिवादन करती एक नेता जैसी दिखती हैं, जिसमें उन्होंने शिफॉन की साधारण साड़ी पहनी हुई है. उनकी कोर टीम भी बदल चुकी है. राज्यसभा सांसद और सुप्रीम कोर्ट के वकील भूपेंद्र यादव टीम के संयोजक हैं. वे भी उनके साथ बस में घूम रहे हैं. अहम बात यह है कि संघ परिवार के दो प्रमुख चेहरे कप्तान सिंह सोलंकी और सौदान सिंह भी राज्य में वसुंधरा के साथ खड़े हैं. माना जा रहा है कि इस यात्रा के अंत में या फिर उसके बाद होने वाले चुनाव प्रचार अभियान के दौरान गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी भी वसुंधरा का प्रचार करने आएंगे.

बीजेपी की पृष्ठभूमि से आने वाले राजे के प्रतिद्वंद्वियों को भी उनकी इस यात्रा की कामयाबी का अंदाजा था इसलिए उन्होंने भी अपनी-अपनी यात्राएं शुरू कर दी हैं ताकि चुनाव के वक्त वे अपनी बढ़ी हुई ताकत का मोलभाव कर सकें. बीजेपी को 2003 में अलविदा कह चुके और 2008 में आधा दर्जन सीटों में सेंध मारने वाले निर्दलीय सांसद किरोड़ीलाल मीणा राज्य भर में हेलीकॉप्टर से यात्रा कर रहे हैं. उन्होंने नेशनल पीपुल्स पार्टी के साथ गठजोड़ कर लिया है.

2003 में राजे के चुनाव प्रचार के अहम सदस्य रहे और अब जेडी (यू) में जा चुके चंदराज सिंघवी भ्रष्टाचार के खिलाफ यात्रा पर निकले हैं तो बीजेपी के असंतुष्ट घनश्याम तिवाड़ी ने राज्य के हिंदू तीर्थों की परिक्रमा 'देव दर्शन यात्रा’ के नाम से शुरू कर दी है. बीजेपी से निकाले गए और अब कांग्रेसी बन चुके गुर्जर नेता अतर सिंह भडाना अपने समुदाय के लिए पांच फीसदी आरक्षण के नाम पर सड़क पर उतरे हुए हैं. याद रहे कि राजे के पिछले कार्यकाल में गुर्जरों ने उन्हें कुछ सीटों का नुकसान पहुंचाया था.

यात्राओं का ऐसा असर हुआ है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तक राज्य कांग्रेस अध्यक्ष चंद्रभान के साथ मिलकर जल्दबाजी में दो दिन का रोडशो दौसा और करौली में 30 और 31 मार्च को कर चुके हैं, हालांकि कुछ सौ श्रोता ही उन्हें नसीब हुए. उनमें भी कुछ ने तो गहलोत के खिलाफ ही नारेबाजी कर डाली. अब वे तीन दिन के रोडशो की योजना बना रहे हैं. गंगानगर-हनुमानगढ़ में तीन दिन की उनकी संदेश यात्रा वसुंधरा पर घिसे-पिटे आरोपों का सरकारी दौरा बनकर रह गई है.

गहलोत ने केंद्रीय योजनाओं में कुछ पैसा राज्य का लगा कर इन्हें अपनी योजनाओं के तौर पर खूब प्रचारित किया है. इनमें सरकारी अस्पतालों में मिलने वाली मुफ्त दवा और अस्पतालों में होने वाले प्रसव में सरकारी मदद की योजना शामिल है. उन्हें उम्मीद है कि चुनाव से पहले जयपुर की मेट्रो का काम पूरा हो जाएगा.

उन्होंने बाड़मेर में एक रिफाइनरी लगाने की भी घोषणा की है. इन दोनों पर 60,000 करोड़ रु. की लागत आएगी जबकि राज्य की बिजली वितरण कंपनियां गहलोत के राज में पहले ही गले तक कर्ज में डूब चुकी हैं. इन तीनों को मिला लिया जाए, जो पूरी तरह राज्य के पैसे से चलाई जानी हैं, तो कुल रकम राज्य के 40,000 करोड़ रु. के सालाना योजना व्यय का तीन गुना बैठती है. जानकारों का कहना है कि इससे राज्य दिवालिया हो जाएगा. जाहिर है, वसुंधरा अपनी यात्रा के आगामी चरणों में इस तथ्य से जनता को वाकिफ कराने में नहीं चूकेंगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें