scorecardresearch
 

राजस्‍थान में मदेरणा को मोहने की तैयारी

चुनाव से पहले मदेरणा परिवार फिर राजनीति का केंद्र बना. बीजेपी-एनपीपी ने लगाया जोर, कांग्रेस सहमी.

एक धमाका तो कर दिया है, दूसरा अक्तूबर में करूंगा.’’ भंवरी देवी  सेक्स स्कैंडल और हत्याकांड के आरोप में जेल में बंद अशोक गहलोत सरकार के पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा ने जोधपुर के सहकारी बैंक के हाल ही के चुनावों में परिवार की जीत के बाद कुछ इस तरह खम ठोका, तो सूबे की जाट राजनीति के करवट लेने का संकेत दे दिया.

महिपाल मदेरणा की पत्नी लीला मदेरणा इस चुनाव में अध्यक्ष तो जेल में बैठे महिपाल उपाध्यक्ष चुने गए. इस परिवार की अगुआई में पूरा संचालक मंडल निर्विरोध चुना गया. सत्ता के गठन में निर्णायक जाट वोट के महत्व ने सियासी दलों में हलचल मचा दी. हाशिए पर जा पहुंचा  मदेरणा परिवार असल में प्रदेश का एक बड़ा राजनैतिक घराना है, जो 1952 से ही प्रदेश की राजनीति में सक्रिय है. इसकी रिश्तेदारियां भी अपनी ही कदकाठी जैसे घरानों में हैं, जिनकी पहुंच कांग्रेस आलाकमान तक है. भंवरी देवी प्रकरण में मदेरणा की गिरफ्तारी के वक्त भी सड़कों पर उतरे समर्थकों के हुजूम ने जाट राजनीति पर इस परिवार की पकड़ की अहमियत जतला दी थी.

ऐसे परिवार का सियासी फायदा कौन नहीं उठाना चाहेगा? खासकर जब राज्य में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं. दौसा के सांसद और पी.ए. संगमा की नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. किरोड़ीलाल मीणा तो मदेरणा परिवार से कई मुलाकातें कर चुके हैं. लेकिन महिपाल के जेल में होने की वजह से लीला अभी पत्ते नहीं खोल रहीं. वे इन मुलाकातों को औपचारिकता का जामा पहनाती हैं.

जबकि मीणा खुलकर बताते हैं, ‘‘महिपालजी तो जेल में हैं, लेकिन उनके परिवार का हमारी पार्टी में स्वागत है.’’ बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और वर्तमान में उपाध्यक्ष अरुण चतुर्वेदी सहित वरिष्ठ नेता राजेंद्रसिंह राठौड़ भी मदेरणा और उनके परिवार से मुलाकात कर चुके हैं. क्या मदेरणा के लिए बीजेपी के दरवाजे खुले है? जवाब में चतुर्वेदी बताते हैं, ‘‘इस बारे में पार्टी ने अभी तक सोचा नहीं है. मै तो शिष्टाचार के नाते मिलने गया था.’’

बीजेपी दांव उलटा पडऩे के डर से पत्ते नहीं खोलना चाहती, क्योंकि भंवरी देवी से जुड़े समुदाय खफा हो सकते हैं. हालांकि दारासिंह प्रकरण में गिरफ्तारी के बाद राठौड़ जेल में  मदेरणा वाली सेल में ही रहे. दोनों ने एक साथ खाना खाने से लेकर बतियाते हुए कई दिन साथ गुजारे. जेल से बाहर आने के बाद राठौड़ लगातार मदेरणा परिवार के संपर्क में रहे. भले बीजेपी इन मुलाकातों को शिष्टाचार भेंट बता रही है, लेकिन राजनीति में एक मशहूर कहावत है, दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है. राठौड़-मदेरणा को एक ही ‘‘जादूगर’’ (राज्य में अशोक गहलोत को मिली उपाधि) से पीड़ित माना जाता है.

मदेरणा परिवार की बीजेपी से बढ़ती पींगों की एक अहम वजह यह है कि जब भंवरी देवी प्रकरण के समय महिपाल अपनी ही पार्टी कांग्रेस में अलग-थलग कर दिए गए थे, उस वक्त विपक्षी दल बीजेपी ने उन्हें निशाना नहीं बनाकर गहलोत सरकार को घेरा था. भविष्य की रणनीति के तहत पार्टी ने ऐसा कोई कदम नहीं उठाया जो मदेरणा और उसके परिवार को चुभे. यही वजह है कि बीजेपी और मदेरणा की कदमताल की संभावना बनने लगी है.

हालांकि कांग्रेस चाहती है कि मदेरणा परिवार का किसी दूसरे दल के साथ गठजोड़ न होने पाए क्योंकि इस परिवार का प्रभाव पूरे प्रदेश में है. खासकर जाट बाहुल्य सीटों पर सीधा. इसलिए कांग्रेस ने अंदरूनी रिपोर्ट के आधार पर पाली लोकसभा सीट से चुनाव के लिए दिव्या मदेरणा का नाम उम्मीदवारों के पैनल में मांगा है. लेकिन मदेरणा परिवार के अन्य दल में जाने की हलचल पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. चंद्रभान कहते हैं, ‘‘मदेरणा परिवार कांग्रेस का सच्चा सेवक है.’’ लेकिन मदेरणा की बेटी दिव्या मदेरणा बताती हैं, ‘‘हमारे खिलाफ एक राजनैतिक षड्यंत्र खेला गया. जिससे प्रदेश का किसान वर्ग कांग्रेस से नाराज है और इसका असर दूर तक जाएगा.’’

फिलहाल मदेरणा परिवार चुनावों के दो महीने पहले अपने पत्ते खोलने की बात कर रहा है. इसकी वजह भी मदेरणा का जेल में होना है. अगर इस वक्त यह परिवार कोई बड़ा कदम उठा लेता है तो शायद मदेरणा का जेल से बाहर आना और पेचीदा हो जाए. दिव्या कहती हैं, ‘‘फिलहाल हमारा पूरा ध्यान केस पर लगा हुआ है.’’

जाहिर है कि अगर चुनावों से पहले मदेरणा की जमानत हो जाती है तो इन चुनावों में उनकी भूमिका काफी अहम होगी. वहीं अगर दिव्या मदेरणा आगे की पारी खेलती हैं तो भी जेल में बैठे मदेरणा की भूमिका अहम होगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें