scorecardresearch
 

आंदोलन और राजनीति: देसी तहरीर चौक के सितारे

बलात्कार विरोधी जन सैलाब ने राजनीति के परंपरागत राजकुमार और राजकुमारियों को रिजेक्ट कर दिया. ऐसे में उभर आए नए शहरी गुरिल्ला जो ‘आइ हेट पॉलिटिक्स’ बोलने की जगह राजनीति के कीचड़ में उतर कर उसे साफ करना चाहते हैं. मनीषा पांडेय और शिवकेश ने उनमें से कुछ से मुलाकात की.

“पहली बार औरत का सवाल राजनीति का सबसे केंद्रीय सवाल बन गया है.”
कविता कृष्णन, 40 वर्ष
नेशनल सेक्रेटरी, ऑल इंडिया प्रोग्रेसिव विमेंस एसोसिएशन

इस वक्त सैकड़ों लोगों का हुजूम दिल्ली में हुए गैंग रेप के खिलाफ नारे लगाते हुए कनॉट प्लेस के सेंट्रल पार्क से जंतर-मंतर की तरफ बढ़ रहा है. सामान्य कद की एक सांवली-सी स्त्री हाथ में बैनर थामे भीड़ की अगुआई कर रही है. आंखों में और चेहरे पर लगातार कई दिनों तक ठीक से न सो पाने की थकान है, लेकिन आवाज में वही जोश. बिना माइक के उनकी पुरजोर आवाज लोगों तक पहुंच रही है, “साथियो! हमें इस लड़ाई को और आगे लेकर जाना है.” दिल्ली के पार्लियामेंट स्ट्रीट थाने में जब कविता पुलिस अधिकारी से बात कर रही थीं तो वहां मौजूद महिला पुलिसकर्मियों की आंखें भर-सी आईं, मानो कह रही हों, “मैं पुलिस की वर्दी में हूं तो क्या? हूं तो एक औरत. मैं तुम्हारी बातें समझती हूं.” 40 वर्षीया कविता कृष्णन मध्यवर्गीय दक्षिण भारतीय परिवार में पैदा हुईं. भिलाई में पली-बढ़ीं. पिता दिवंगत ए.एस. कृष्णन भिलाई स्टील प्लांट में इंजीनियर थे. मुंबई के सेंट जेवियर्स कॉलेज से ग्रेजुएशन करने के दौरान उन्होंने सोचा भी नहीं था कि एक दिन आंदोलन, लिबरेशन, धरना, जुलूस ही उनकी जिंदगी बन जाएंगे. जेएनयू आने के बाद भी शुरू-शुरू में कविता राजनीति पर कम और करियर पर ज्यादा ध्यान दे रही थीं, लेकिन तभी एक घटना ने जीवन की दिशा बदल दी. जेएनयू में ’94 के छात्रसंघ चुनावों के दौरान गंगा हॉस्टल के मेस में भारतीय विद्यार्थी सेना का एक कैंडिडेट मीटिंग कर रहा था. उसकी प्रतिक्रियावादी बातें सुनकर हॉस्टल की लड़कियां जोश में आ गईं. उन्होंने पूछा, “अगर तुम जीत गए तो जींस पहनने, सिगरेट पीने वाली हम जैसी लड़कियों के साथ क्या करोगे?” वह बोला, “बहुत-सी जेलें हैं...’’ लड़कियां भड़क गईं. उस साल कविता और साथियों ने मिलकर जान लगा दी. 1995-96 में कविता जेएनयू छात्रसंघ की जनरल सेक्रेटरी चुनी गईं. वे कहती हैं, “जैसे जीवन जीते हुए आप जीवन को समझते हैं, राजनीति करते हुए मैंने राजनीति को समझ. मुझे समझ में आया कि यह लड़ाई सिर्फ औरत नहीं, बल्कि समाज के सभी शोषित वर्गों के न्याय की लड़ाई है.” दिल्ली गैंग रेप केस एक और वजह से बहाना बन गया है कि औरत के हक से जुड़े सारे सवाल फिर से उठाए जाएं, जो कई बार आंदोलनों के भीतर भी दबा दिए जाते हैं. कविता कहती हैं, “पहली बार औरत का सवाल राजनीति का सबसे केंद्रीय सवाल बन गया है.”

“औरत में सेक्सुएलिटी कम नहीं होती, लेकिन वह बलात्कार तो नहीं करती.”
सुचेता डे, 29 वर्ष
आइसा एक्टिविस्ट और जेएनयू छात्रसंघ की पूर्व अध्यक्षSucheta Dey

पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में जन्मी 29 वर्षीया सुचेता का घर उन्हीं आम घरों जैसा था, जहां बड़ी होती लड़की को, “बलात्कार से कैसे बचा जाए” के 10 तरीके सिखाए गए, लेकिन घर के लड़कों से कभी नहीं कहा गया कि “किसी भी लड़की के साथ बलात्कार नहीं करना चाहिए.” पिता जयंत कुमार डे टेक्सटाइल इंजीनियर थे और मां हाउसवाइफ. कोलकाता के प्रेसिडेंसी कॉलेज से बीए के दौरान वामपंथी राजनीति के संपर्क में आईं, लेकिन उन्हें लगा कि सबके हक और बराबरी की लड़ाई में औरत की बराबरी कहां है? इस सवाल के साथ राजनीति जिंदगी का अहम हिस्सा हो गई. वे कहती हैं, “मणिपुर में आर्मी द्वारा मनोरमा के बलात्कार और हत्या के बाद जब औरतों ने सेना के ऑफिस के सामने नग्न होकर प्रदर्शन किया था, वह घटना बहुत निर्णायक थी.”

इन दिनों वे दिल्ली गैंग रेप के खिलाफ आंदोलन को एकजुट करने में व्यस्त हैं. सुचेता कहती हैं, “औरत में सेक्सुएलिटी कम नहीं होती, लेकिन वह बलात्कार तो नहीं करती.” ज्योग्राफी में पीएचडी कर रही और बालों को कसकर पीछे बांधी हुई चोटी वाली यह लड़की जब भाषण देने के लिए खड़ी होती है तो उसकी आंखें अनोखे आत्मविश्वास से चमकने लगती हैं. उसे दुनिया के नियमों की परवाह नहीं है. वह अपने नियम खुद गढ़ रही है. मां-पापा की एक ही रट है कि “नौकरी करो, घर बसाओ.” सुचेता हां-हां कहकर फोन रख देती हैं और फिर अपने कामों में लग जाती हैं. आइसा में सुचेता के साथी संदीप सिंह कहते हैं,  “वह कमाल की लीडर है. वे बोलती हैं तो हजारों की भीड़ को बांध लेती हैं.” फिलहाल उन्होंने अपना जीवन राजनीति को दे दिया है. नौकरी, शादी, पति जैसी चीजों के साथ समझौता कर लेंगी, लेकिन राजनीति के साथ नहीं. 

“बड़ी उपलब्धि तो तब होगी जब हम स्त्री विरोधी मानसिकता को खत्म कर पाएंगे.”
शिल्पी मारवाह, 22 वर्ष
अभिनेत्री, अस्मिता थिएटर ग्रुपAsmita Group

इसी 31 दिसंबर की ठीक आधी रात की बात है. दिल्ली के लोग जब नए साल के जश्न के सिलसिले में रॉकेट, पटाखे छोड़ रहे थे, 22 साल की एक सुघड़ अभिनेत्री शिल्पी मारवाह 40 से ज्यादा कलाकारों को लेकर छेड़छाड़ के खिलाफ दस्तक नाटक कर रही थी. जेएनयू के सामने का एक पार्क, खुला आसमान. 4 डिग्री वाली कोहरा भरी ठंड. हर संवाद भाप के गोले में तब्दील हो जाता. शिल्पी इससे पहले दोपहर में तीन घंटे जंतर-मंतर पर गैंग रेप के खिलाफ प्रदर्शन में बड़ी भीड़ को बांधे रहीं. फिर डेढ़ घंटे टीम के साथ रिहर्सल कर रात नौ बजे जेएनयू. इंडिया गेट और रायसीना हिल पर चले लंबे प्रदर्शनों में टीम के साथ लाठी खाते हुए उनकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर छाई रहीं. उन्हें सोशल एक्टिविस्ट कहा जाने लगा. उन पर रत्ती भर भी फर्क नहीं. “हमारी फिक्र सामाजिक रूढिय़ों के खिलाफ व्यापक जागरूकता पैदा करने की रही है. इस आंदोलन में भी हमने वही किया.” दिल्ली के कमला नेहरू कॉलेज की कॉमर्स ग्रेजुएट शिल्पी के लिए यह नई बात नहीं है. अस्मिता से जुड़कर पिछले छह साल से वे दिल्ली की झुग्गियों और चौराहों से लेकर बिहार के सुदूर गांवों तक में छेड़छाड़, बाल शोषण और मदिरालय बनाम पुस्तकालय सरीखे मुद्दों पर नुक्कड़ करती आ रही हैं. अस्मिता के मुखिया अरविंद गौड़ कहते हैं, “शिल्पी ने अहम मुद्दों वाले हमारे नुक्कड़ नाटकों को लोगों की रोजमर्रा की “जिंदगी का हिस्सा बना दिया है.” हजारों लड़कियों की रोल मॉडल एक अभिनेत्री ने संभ्रांत दायरे में सिमटे थिएटर को सीधे जनता के बीच ला खड़ा किया है. 

“स्त्री की मुक्ति की लड़ाई पूरे समाज की मुक्ति की लड़ाई है.”

वी. लेनिन कुमार, 25 वर्ष
एसएफआइ-जेएनयू और जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्षV lenin

महज 25 साल के वी. लेनिन कुमार पहली बार तब खबरों में आए, जब उन्होंने सीपीएम के खिलाफ विद्रोह कर दिया. जेएनयू में नया संगठन एसएफआइ-जेएनयू का गठन किया और छात्रसंघ चुनाव में रिकॉर्ड वोटों से जीते. चेन्नै में एक फैक्टरी वर्कर पिता और स्कूल कर्मचारी मां की छह संतानों में पांचवें नंबर के लेनिन स्वीकार करते हैं कि पिता भले सीपीएम के वर्कर थे, गरीबों और दलितों के लिए न्याय की बात करते थे, लेकिन “जेंडर जस्टिस” उनके और उनकी पार्टी के लिए कभी कोई मुद्दा था ही नहीं. मां पार्टी में काम करती रहीं, लेकिन अपने लिए कभी बराबरी नहीं मांगी. लेकिन लेनिन का रास्ता अलग है. इंटरनेशल स्टडीज में पीएचडी कर रहे लेनिन कहते हैं, “दिल्ली की घटना ने सबको हिला दिया है. स्त्री की मुक्ति की लड़ाई पूरे समाज की मुक्ति की लड़ाई है. आवाज उठी है, अब दूर तक जाएगी. यह औरतों की ही नहीं, हम मर्दों की भी आजादी की लड़ाई है.”          

“औरत की कोई जाति, कोई धर्म नहीं.”
लोकेश, 36 वर्ष
एनएसआइ (न्यू सोशलिस्ट एनीशिएटिव) की सक्रिय कार्यकर्ताShilpi Marwah

एक महिला दिल्ली विश्वविद्यालय में गैंग रेप के खिलाफ निकले जुलूस में सबसे ऊंची आवाज में नारे लगा रही थी, “खाप से मांगें आजादी! अपने बाप से मांगें आजादी!” यह एनएसआइ और स्त्री मुक्ति संगठन की 36 वर्षीया कार्यकर्ता लोकेश हैं. उन्होंने अपना सरनेम छोड़ दिया क्योंकि जाति और धर्म में उनका विश्वास नहीं है. वे कहती हैं,  “संसार की सारी औरतें सताई हुई हैं. औरत की कोई जाति, कोई धर्म नहीं होता.” एक सामान्य मध्यवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाली लोकेश विद्यार्थी जीवन में प्रोग्रेसिव स्टुडेंट्स यूनियन (पीएसयू) के संपर्क में आईं और वहां से उनके राजनैतिक जीवन की शुरुआत हुई. लोकेश कहती हैं, “औरत होने के कारण खुद अपने जीवन में भेदभाव झेलने वाली स्त्रियां सामाजिक न्याय के सवालों के साथ आसानी से जुड़ पाती हैं. माता-पिता पहले खुश नहीं होते, लेकिन फिर वे भी समझने लगते हैं कि राजनैतिक समझ ने कैसे हमें बेहतर इंसान बनाया.” 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें