scorecardresearch
 

जनादेश-2019-सिंधिया के गढ़ में गुना के सांसद को मिला वॉकओवर

शिवपुरी जिले के माला गणेशखेड़ी गांव में उन्होंने किसानों को भरोसा दिलाते हुए कहा, ''तकरीबन 20 लाख किसानों के कर्ज बट्टे खाते में डाले जा चुके हैं और बाकी के कर्ज भी खत्म कर दिए जाएंगे.''

ज्योतिरादित्य सिंधिया ज्योतिरादित्य सिंधिया

अमित शाह ने पिछले पांच साल में भोपाल में जितनी भी बैठकों को संबोधित किया, हरेक में वादा किया था कि वे गुना और छिंदवाड़ा में कांग्रेस को कड़ी टक्कर देंगे—यही वे दो सीटें हैं जहां कांग्रेस ने 2014 के चुनाव में जीत हासिल की थी. भाजपा अध्यक्ष जबरदस्त रणनीति बनाने के लिए जाने जाते हैं, मगर मतदान के एक हफ्ते पहले गुना में वह रणनीति कहीं दिखाई नहीं देती.

जाहिरा तौर पर भाजपा ने यहां कमजोर उम्मीदवार के.पी. यादव को उतारा है जो हाल ही में कांग्रेस छोड़कर आए हैं. ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री और मौजूदा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया 23 मई को आसानी से जीत हासिल कर लेंगे.

अलबत्ता गुना से—यानी उस सीट से जिसकी नुमाइंदगी कभी उनके पिता और दादी ने की थी और जिसके वजूद के 67 वर्षों में 52 साल कोई न कोई सिंधिया इसका नुमाइंदा रहा है—अपना पांचवां चुनाव लड़ते हुए सिंधिया कोई जोखिम नहीं उठा रहे हैं. पार्टी ने जब उन्हें पश्चिमी उत्तर प्रदेश का प्रभारी महासचिव बना दिया, उन्होंने अपने सबसे अहम दिन इस पड़ोसी राज्य में चुनाव की तैयारी में लगाए.

मगर अब वे अपने निर्वाचन क्षेत्र में लौट आए हैं और पिछले दिनों की अपनी गैर-मौजूदगी की भरपाई करने के लिए जबरदस्त दौरे कर रहे हैं. चिलचिलाती गर्मी के मद्देनजर उन्होंने अपनी रणनीति बदली और छोटी-छोटी सभाएं करने का फैसला लिया.

शिवपुरी जिले के माला गणेशखेड़ी गांव में उन्होंने किसानों को भरोसा दिलाते हुए कहा, ''तकरीबन 20 लाख किसानों के कर्ज बट्टे खाते में डाले जा चुके हैं और बाकी के कर्ज भी खत्म कर दिए जाएंगे.'' हरेक खाते में 15 लाख रुपए और दो करोड़ नौकरियों के दावों का मखौल उड़ाते हुए उन्होंने मतदाताओं को न्याय योजना, हाइवे प्रोजेक्ट, मेडिकल कॉलेज और शिवपुरी की जल सप्लाई योजना के बारे में बताया. इलाके के साथ परिवार के रिश्तों का भी बार-बार जिक्र किया गया और भीड़ अपने 'महाराज' को देखकर उत्साहित मालूम देती थी.

हरेक सभा में सिंधिया ने इकट्ठा लोगों से अपने हाथ ऊपर उठाकर समर्थन का वादा करने को कहा—ठीक उसी तरह जैसे भाजपा के शिवराज सिंह चौहान वोटरों से 'संकल्प' लेने के लिए कहते हैं.

गुना के इस चुनाव में अगर कुछ नदारद है तो वह है मजबूत टक्कर देने का भाजपा का जज्बा—जैसा उसने 2014 में सिंधिया के खिलाफ जयभान सिंह पवैया को मैदान में उतारकर दिखाया था. के.पी. यादव विधानसभा चुनाव के ठीक पहले कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए थे.

उस वक्त वे गुना लोकसभा क्षेत्र की मुंगावली विधानसभा सीट से खड़े हुए थे और हार गए थे. यादव के लिए प्रचार करने भाजपा को एक भी बड़ा नेता नहीं आया है. यहां तक कि प्रभात झा और नरोत्तम मिश्र सरीखे सिंधिया के जाने-माने विरोधियों की गैरमौजूदगी भी साफ दिखाई देती है. भाजपा के राज्य प्रवक्ता राहुल कोठारी इन रिपोर्टों को दरकिनार कर देते हैं कि पार्टी सिंधिया को कड़ी टक्कर नहीं दे रही है और कहते हैं, ''गुना के लोग नरेंद्र मोदी की अगुआई में केंद्र में मजबूत सरकार के लिए वोट देंगे.''

गुना में बसपा की मौजूदगी को कांग्रेस के लिए कभी खतरे के तौर पर नहीं देखा गया—2014 के चुनाव में उसके उम्मीदवार को 27,000 वोट मिले थे जबकि सिंधिया की जीत का अंतर ही 1.20 लाख वोट था. इस चुनाव में बसपा के उम्मीदवार लोकेंद्र सिंह राजपूत ने सिंधिया को अपने समर्थन का ऐलान कर दिया, अलबत्ता उनकी पार्टी की मुखिया मायावती को उनका यह कदम रास नहीं आया.

इस निर्वाचन क्षेत्र में कुछ इलाके हैं, खासकर शिवपुरी, अशोकनगर और गुना कस्बों के अर्ध-शहरी हिस्से, जहां भाजपा के प्रतिबद्ध वोटर हैं. भाजपा उम्मीदवार के अपने समुदाय यादवों की खासी बड़ी तादाद इस पूरे निर्वाचन क्षेत्र में है. यही नहीं, आठ में से तीन विधानसभा सीटें—गुना, कोलारस और शिवपुरी—भाजपा के पास हैं.

सिंधिया कहते हैं, ''किसानों का संकट और नौकरियों की कमी बड़े मुद्दे हैं. भाजपा ने राष्ट्रवाद का एक हौवा खड़ा किया है, क्योंकि जिन्हें मैं चुनाव के अहम मुद्दे मानता हूं, उन पर तो प्रगति के लिहाज से दिखाने के लिए उसके पास कुछ है ही नहीं.''

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें