scorecardresearch
 

फुरसतः नृत्य को समर्पित

1970’ के दशक में जब उन्होंने पहली बार नृत्य संग्रहालय की दिशा में काम शुरू किया तो कला संबंधी संग्रह से जुड़े संचालन पर कोई जानकारी उपलब्ध नहीं थी. ‘‘हमने एसटीएएस (सपोर्ट द आर्ट्स सोसाइटी) नाम से एक शुरुआती कदम उठाया जिसे आज के स्पिक-मैके का प्रणेता कह सकते हैं.

आशीष खोकर अपने पिता मोहन खोकर की अमूल्य विरासत को सहेजने और उसे देश को समर्पित करने में जुटे हैं आशीष खोकर अपने पिता मोहन खोकर की अमूल्य विरासत को सहेजने और उसे देश को समर्पित करने में जुटे हैं

उनकी उम्र महज पांच साल थी, जब उनके उत्साही नन्हे पैर मैसूर पैलेस में पहली बार मंच पर चढ़ गए थे और अपनी बालसुलभ तरंग में नाच कर उपस्थित लोगों को भावविभोर कर दिया था. उनका नाम था आशीष खोकर जो अपनी मां, महान नृत्यांगना एम.के. सरोजा के प्रदर्शन को देखकर खुद को रोक नहीं पाए और भाग कर मंच पर जा पहुंचे.  

लेकिन जो शख्स नृत्य को देश में ऊंचा मुकाम देने के समर्पित लक्ष्य में जुटा है, उसे युवावस्था के दौरान मंच पर जाने में बहुत झिझक होती थी. शायद यही वजह है कि उन्होंने नृत्य के संरक्षण का मार्ग चुना और वे शास्त्रीय नृत्य पर संग्रहालय बनाना चाहते हैं.  

उनके जीवन में उल्लेखनीय मोड़ तब आया जब उनके पिता और उत्तर के कलाक्षेत्र के पहले छात्र तथा शास्त्रीय नृत्य शैली के अग्रणी अध्येता मोहन खोकर ने कहा कि आशीष देशभर के सैकड़ों स्मारकों और संग्रहालयों को संरक्षित करने में जुटे हैं, तो क्यों न घर से शुरुआत की जाए?

आशीष कहते हैं, ‘‘उनके कहने का मतलब नृत्य शैलियों पर आधारित उनके विशाल संग्रह से था जो उन्होंने दशकों में इकट्ठा किया था. वह बदलाव का पल था.’’

उसके बाद आशीष बड़े शहर के ‘विलासितापूर्ण’ जीवन को छोड़ अपने माता-पिता की सेवा करने के लिए मद्रास के पास एक गांव चले आए. उनका मकसद मोहन खोकर नृत्य संग्रहालय खोलना था. इस सितंबर में अपने पिता की जयंती मनाने के दौरान उन्होंने बताया कि उनके पिता ने भारतीय नृत्य पर कई भाषाओं में 5,000 से अधिक किताबें इकट्ठी की हैं. उनके पिता ने करीब 1,00,000 तस्वीरें खींचीं, जबकि उस समय फिल्म-रोल की कीमत बहुत ज्यादा होती थी. 1910 से 2010 तक की अवधि में उन्होंने अखबारों और पत्रिकाओं की करीब 1,08,000 कतरनों को सहेजा, 1,000 से अधिक कलाकृतियों को खरीदा और इकट्ठा किया. इसके अलावा वेशभूषा, मुखौटे, गुडिय़ा, डाक टिकट, चोल और कैलेंडर कलाकृतियों का भी बड़ा संग्रह तैयार किया.  

आशीष कहते हैं, ‘‘अब ये सब प्रतिष्ठित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (आइजीएनसीए) में बनने वाले भारत के पहले नृत्य अभिलेखागार—संग्रहालय में दिखाई देंगे. उस परिवार के लिए इससे बेहतर जगह नहीं हो सकती जिसके पास 40 साल दिल्ली में रहने के बाद भी अपना घर नहीं है और जिसे देश की समृद्ध नृत्य विरासत और इतिहास के अमूल्य कोश के संरक्षण के लिए पंजाब और चेन्नै में अपने दो पुश्तैनी मकान बेचने पड़े.’’ आशीष ही संग्रहालय के संरक्षक और क्यूरेटर होंगे.

आशीष ने अपने पिता की आवाज को 100 घंटे से ज्यादा समय तक रिकॉर्ड किया था, जब वे चेन्नै में कैंसर का इलाज करा रहे थे. वे कहते हैं, ‘‘मुझे उम्मीद है कि मोहन खोकर नृत्य अभिलेखागार-संग्रहालय साल 2020 में खुल जाएगा.’’

खोकर का सफर बेहद दिलचस्प रहा है. दिल्ली में भारतीय विद्या भवन से स्कूल की पढ़ाई खत्म करने के बाद उन्होंने 1976 में सेंट स्टीफेंस कॉलेज से इतिहास में बी.ए किया, लेकिन बाद में वे हिंदू कॉलेज चले गए और वहीं वे थिएटर से जुड़े.

उन दिनों को याद करते हुए आशीष कहते हैं, ‘‘मैंने अमीर खुसरो का किरदार निभाया था जिसे सिप्पी की फिल्मों के कैमरामैन, मनमोहन सिंह ने देखा था. उन्होंने मुझे हिंदी फिल्म में काम करने के लिए कहा. मैं समझा कि मैं हीरो बन जाऊंगा, इसलिए मैंने कॉलेज जाना बंद कर दिया और रीगल, रिवोली और प्लाजा में सुबह से शाम तक फिल्में देखने लगा.’’ आशीष अपने करियर के बारे में सही रास्ता नहीं चुन पा रहे थे, इसी बीच उनकी प्रेमिका ने उन्हें छोड़ दिया. वे कहते हैं, ''नृत्य ही मेरी प्रेमिका बन गया.’’

अपने पिता के नृत्य संस्मरणों को एक सार्थक रूप देने के लक्ष्य के बारे में उनका कहना है कि यह शायद उनके जन्म के साथ उनके दिल में बस चुका था. 29 फरवरी, 1960 को बड़ौदा की उनका जन्म हुआ, उनके माता-पिता बड़ौदा के महाराजा सयाजी राव विश्वविद्यालय में नृत्य सिखाते थे.

आशीष कहते हैं, ‘‘मैं सचमुच नृत्य के लिए जन्मा था. पर मुझे मंच से डर लगता था. इसके अलावा, मेरे घर में कई बड़ी हस्तियों का आना-जाना था. कुछ हमारे यहां ठहरते भी थे. (तब तक हम दिल्ली आ चुके थे, जो सबके मिलने-जुलने का केंद्र था और आज भी है.) मसलन, राम गोपाल, उदय शंकर, सचिन शंकर, गुल बर्धन, नटराज-शकुंलता, नल नाजन, इंद्राणी, विदेशी मेहमान (60 और 70 के दशक में यह बड़ी बात थी) शंभू महाराज, माया राव, राजकुमारी बिनोदिनी देवी, सरायकेला महाराजा, गुरु गोपीनाथ... मेरा स्मृति कोश खुशियों से भरा है कि ऐसे महान लोग मेरा खाना परोस देते थे या स्टेशन से ले आते थे, या रात के खाने पर उनके साथ बातचीत होती थी, वे मेरे स्कूल के काम में मदद कर देते थे. उनकी विराट शख्सियत के सामने मुझे अपनी प्रतिभा शून्य नजर आती.’’

1970’ के दशक में जब उन्होंने पहली बार नृत्य संग्रहालय की दिशा में काम शुरू किया तो कला संबंधी संग्रह से जुड़े संचालन पर कोई जानकारी उपलब्ध नहीं थी. ‘‘हमने एसटीएएस (सपोर्ट द आर्ट्स सोसाइटी) नाम से एक शुरुआती कदम उठाया जिसे आज के स्पिक-मैके का प्रणेता कह सकते हैं. इसने प्रस्तुति के क्षेत्र में क्रांति ला दी. मेरे पहले पासपोर्ट में पेशे के कॉलम में यही अंकित था. अक्सर इमिग्रेशन डेस्क पर वे पूछते ‘इसका क्या अर्थ है’? मैं कहता, ‘प्रभावित करना’ ! (अन्य लोगों को भारतीय संस्कृति के बारे में).’’

वे बताते हैं कि अपने कॉलेज की फीस भरने के लिए वे भूमिका नाम के एक नृत्य-थिएटर समूह में शामिल हो गए थे जिसमें उन्हें प्रतिमाह 500 रुपये मिलते थे. वे याद करते हैं, 1980 के दशक की शुरुआत में यूनिवर्सिटी की फीस 200 रु. प्रति माह थी, मासिक बस पास 12 रु और चाय मात्र 50 पैसे.

उस दल के प्रबंधक के रूप में उन्होंने यूरोप की यात्रा की और बाद में 1985 में स्वीडन में छात्रवृत्ति हासिल की.

वापस आने पर उन्हें 1,675 रु. के वेतन पर दिल्ली राज्य अकादमी के उप निदेशक के पद की पेशकश की गई. 1986 से खोकर फ्रांस, स्वीडन, जर्मनी और चीन में भारत महोत्सव का आयोजन करा रहे हैं. 29 वर्ष की आयु में वे इनटैक के निदेशक पद पर नियुक्त हुए. वे कहते हैं, ‘‘हमने संग्रहालयों, महलों को फिर से संवारा है. जगह-जगह प्रदर्शनियां लगाईं. वे मेरे सबसे अच्छे दिन थे. वह काम नहीं मनोरंजक खेल जैसा था. मेरे लिए भारत एक बेहद दिलचस्प देश है: इसकी मासूमियत, मूर्खता, बेतरतीबी सब मुझे पसंद है. इन्हीं के साथ सामंजस्य बैठाने के दौरान उम्मीद की किरण फूटती है.’’

नृत्य संग्रहालय की तैयारी में व्यस्त खोकर के अनुसार, वे इसे दिल्ली में ही खोलना चाहते थे. संबंधित ऐतिहासिकता के प्रमाण के तौर पर वे किताबों और अखबारों की कतरनों को प्रस्तुत करेंगे.  

वे बताते हैं, ‘‘एक सदी के दौरान ली गई करीब एक लाख तस्वीरें दिखाती हैं कि वेशभूषा और सामाजिक दृष्टिकोणों में कैसे बदलाव आए. नृत्य को समाज में या विज्ञापनों, पोस्टरों, पेंटिंग, फिल्मों में क्या जगह मिली. मुखौटों, वेशभूषा, कलाकृतियों, यहां तक कि डाक टिकटों में भी! पुराने ग्रामोफोन रिकॉर्ड, रेडियो क्लिप आदि. पुराने गुरुओं की रिकार्ड की गई आवाजें जो आज नहीं हैं. क्या आप जानते हैं कि भारतीय नृत्य पर पहला डाक टिकट सिंगापुर ने बनाया था, भारत ने नहीं? लॉटरी टिकट, घी टिन, लोक कलाकृतियां, गणतंत्र दिवस की परेड ने कैसे इन्हें प्रभावित किया? कांस्य, प्लास्टिक, कैलेंडर कला में नटराज की विभिन्न आकृतियां आदि.’’

मोहन खोकर नृत्य संग्रह पिछले 200 वर्षों के दौरान अभिव्यक्त समस्त भारतीय नृत्य शैलियों को प्रमाण के साथ पेश कर रहा है. खोकर ने नृत्य, आध्यात्मिकता और इस तरह के विषयों पर 25 किताबें लिखी हैं.

इसके अलावा, वे पिछले दो दशकों से नृत्य पर देश की एकमात्र वार्षिक पुस्तक एटनडांस का संपादन और प्रकाशन कर रहे हैं.

‘‘मैंने मुख्यधारा के मीडिया में 3,000 से अधिक लेख लिखे हैं. यूजीसी की ई-पाठशाला के एम.ए. पाठ्यक्रम के लिए करीब 85 मॉड्यूल तैयार किए. 7 फिल्में बनाई. 800 नर्तकों ने हमारे अकादमिक डांस डिस्कोर्स के माध्यम से प्रस्तुति दी. ‘पुरुष’ दौरे (यूएसए, फ्रांस, इटली) के जरिए पुरुष एकल नृत्य को पुनर्जीवित करने में मदद की. विश्व नृत्य दिवस पर मैंने भारत की ओर से 185 नर्तकियों की सबसे बड़ी प्रस्तुति पेश की.’’

वे मानते हैं कि एटनडांस पुरस्कार नृत्य के क्षेत्र में युवा पुरुषों और महिलाओं को रोल मॉडल के तौर पर पेश करने का शानदार जरिया है. अब तक वे करीब 40 लोगों को पुरस्कृत कर चुके हैं.

वे कहते हैं, ‘‘मेरे मन में विचार आया है कि क्यों न देश में उपेक्षा के शिकार वृद्ध लोगों के साथ भारत के युवाओं को जोड़ कर एक समारोह आयोजित किया जाए.’’

नृत्य संग्रह के बारे में उनका कहना है कि यह इंदिरा गांधी कला केंद्र को दान किया जा रहा है और वे मोहन खोकर नृत्य संग्रह और अभिलेखागार को क्यूरेट और डिजिटाइज करने में मदद कर रहे हैं.

उनका कहना है, ‘‘यह देश के लिए हमारा उपहार है,’’ संग्रह में उनके पसंदीदा सरायकेला के छऊ मुखौटे और राम गोपाल के जूते हैं.

वे कहते हैं, ‘‘मैंने उन्हें पहनने की कोशिश की, पर वे मेरे पैर के लिए बहुत बड़े थे.’’

गुजरते वर्षों में दर्द के स्याह बादलों ने भी कई बार घेरा, पर वे हमेशा उक्वमीद की डोर थाम उबरते रहे. उनकी पत्नी एलिजाबेथ ने सही जीवनसंगिनी का फर्ज निभाते हुए तीन दशकों तक नौकरी करते हुए उनके इस जुनूनी लक्ष्य को पूरा करने में अमूल्य सहयोग दिया. संग्रहालय तैयार करने के जुनूनी लक्ष्य को पूरा करने के लिए उन्हें चंडीगढ़ और चेन्नै के अपने दो घर बेचने पड़े.

वे कहते हैं, ‘‘उम्मीद बेशकीमती निधि है. 30 साल बिना नौकरी या सरकार या किसी कॉर्पोरेट संस्थान के सहयोग के बगैर अस्तित्व बरकरार रखने का सामथ्र्य उक्वमीद से ही मिलती रहा है.’’

मोहन खोकर की संग्रह की गई अमूल्य चीजें आइजीएनसीए में बनने वाले पहले नृत्य अभिलेखागार में नजर आएंगी.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें