scorecardresearch
 

गुजरातः हार्दिक को लगेगा का झटका या बढ़ेगा कद?

हार्दिक पटेल को सजा सुनाई गई और वे जेल भी गए मगर दो ही घंटों में जमानत में वापस आ गए. उन्होंने बाहर आते ही सत्तारूढ़ पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा, यह कुछ और नहीं हिटलशाही है. हालांकि जानकारों का कहना है कि कोर्ट से मिली सजा से राज्य में हार्दिक पटेल की हैसियत हो प्रभावित होने की संभावना है.

बुरे फंसे भोपाल में हार्दिक के स्वागत का फाइल फोटो बुरे फंसे भोपाल में हार्दिक के स्वागत का फाइल फोटो

पच्चीस जुलाई को मेहसाणा में एक अदालत ने हार्दिक पटेल और दो अन्य को 2015 के एक मामले में दो साल की जेल की सजा सुनाई, जिसमें उन पर विसनगर में सार्वजनिक हिंसा में शामिल होने का आरोप लगाया गया था. राज्य में पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान प्रारंभिक उत्साह के बाद अप्रासंगिक हो चुके पटेलों के लिए आरक्षण की मांग करने वाले नेता हार्दिक अचानक खबरों में लौट आए हैं.

कुछ ही घंटों में जमानत पर बाहर आकर हार्दिक ने इस अवसर का फायदा उठाते हुए सत्तारूढ़ भाजपा पर दोष मढ़ दिया. उन्होंने कहा, "यह और कुछ नहीं, बल्कि हिटलरशाही है. क्या किसानों, छात्रों और युवाओं के अधिकारों के लिए लड़ना अपराध है?  न्याय के लिए मेरी लड़ाई रोकने में भाजपा सफल नहीं होगी.''

पाटीदार नेता के साथ पहले की मुठभेड़ों से कुछ कठिन सबक सीख चुकी गुजरात भाजपा ने प्रतिक्रिया देने में सावधानी बरती है. वरिष्ठ नेता कोई उत्तेजक बयान देने से बच रहे हैं. पार्टी प्रवक्ता भरत पांड्या ने कहा, "यह अदालत का फैसला है.

इसके लिए भाजपा को कैसे जिम्मेदार ठहराया जा सकता है? शांति और अहिंसा गुजरात की पहचान है. मैं लोगों से उस भावना के तहत फैसले को देखने और उत्तेजक कार्यों में शामिल नहीं होने की अपील करता हूं.''

इससे पहले भाजपा के नेताओं ने हार्दिक पर आक्रामक प्रतिक्रिया दी थी, जिसने उन्हें गुजरात की सीमाओं से बाहर एक अपील के साथ राजनैतिक हस्ती बनाने में योगदान दिया. अब लगता है, उन्हें राजनैतिक रूप से अलग-थलग करने की रणनीति है.

इस बीच, यह सजा 2019 में हार्दिक के लोकसभा में प्रवेश करने की महत्वाकांक्षाओं को समाप्त कर सकती है. बताया जाता है कि वे कांग्रेस के समर्थन से चुनाव लडऩे पर विचार कर रहे हैं, जैसे दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने विधानसभा चुनाव में किया था.

2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को गुजरात से विस्थापित करने में नाकाम रहने के बाद मेवाणी और शराब विरोधी कार्यकर्ता अल्पेश ठाकोर (अब कांग्रेस विधायक) के साथ हार्दिक भाजपा विरोधी भावना पैदा करने के उपाय तलाश रहे हैं, जिसने विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ पार्टी की सीटें घटा दी थीं. लेकिन उनके द्वारा उठाए गए मुद्दे अब तक जोर नहीं पकड़ पाए हैं.

उन्होंने शिक्षा का अधिकार कानून के प्रावधानों का हवाला देते हुए स्कूलों में गरीब छात्रों के दाखिले के लिए दबाव बनाना या राज्य पुलिस के भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए अवैध शराब कारोबारियों पर छापे जैसे काम किए. बाद के उदाहरण में वे गांधीनगर के एक इलाके में एक महिला के घर पर पहुंच गए. बाद में उस घर के मालिक ने अपने घर में शराब का पाउच रखने के आरोप में उन तीनों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई.

इसके बावजूद हार्दिक और अन्य लोग फिर भी कुछ मामलों को उठाकर मीडिया का ध्यान आकर्षित कर रहे हैं. एक बार इन तीनों से झटका खाई भाजपा उन्हें भूलने के लिए तैयार नहीं है. पार्टी के एक नेता ने कहा, "हमें उनकी गतिविधियों पर करीबी नजर बनाए रखनी है.''

हार्दिक के मामले में पहले ही दंश झेल चुकी भाजपा ने कोर्ट से उन्हें सजा मिलने के मामले में चुप्पी साधे रखना ही बेहतर समझा.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें