scorecardresearch
 

विवादः फ़ैज़ के बारे में एक मूर्ख का मूल्यांकन

फैज़ का रवायतों को तोडऩा कई बार हमें उनके रूमानी झुकाव को भुलाने की कोशिश करता है

विवादः श्रीवत्स नेवतिया विवादः श्रीवत्स नेवतिया

श्रीवत्स नेवतिया

आइआइटी-कानपुर के प्रोफेसर वाशि मंत शर्मा ने जब 17 दिसंबर को संस्थान में फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की नज़्म 'हम देखेंगे' गाए जाने के खिलाफ शिकायत करने का फैसला किया तो उन्हें इस बात का जरा भी अंदाजा नहीं होगा कि उनकी झल्लाहट अनजाने में उस आंदोलन को उसका गीत दे देगी जिसे वे इतनी हिकारत से देख रहे थे. फ़ैज़ की इस नज़्म की पंक्तियां गरियाहाट में उस वक्त गूंज रही थीं जब प्रदर्शनकारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के खिलाफ जुलूस निकाल रहे थे. फिर रविवार, 5 जनवरी की रात को जेएनयू में छात्रों और प्राध्यापकों पर हमला हुआ तो मुंबई में कई लोग आधी रात को जेएनयू के प्रति एकजुटता जाहिर करने के लिए गेटवे ऑफ इंडिया पर जमा हुए. उन लोगों ने भी यह महसूस किया कि यह 'हम देखेंगे' गाने का सही वक्त है.

शर्मा की नाराजगी जितनी नासमझीपूर्ण है, उतनी ही खतरनाक भी. उन्हें यह बात नागवार गुजरी कि उनके कैंपस के छात्रों ने असंतोष जाहिर करने के लिए एक पाकिस्तानी शायर का सहारा लिया. वे चाहते हैं कि फ़ैज़ ने जहां 'अल्लाह' का जिक्र किया है वहां 'राम' का नाम होना चाहिए, लेकिन इस मामले में उनका दखल विस्तार से देखा जाए तो शैतानी ज्यादा साबित होता है.

हालांकि वेदों व उपनिषदों के भी कुछ हिस्से मूर्ति पूजा को खारिज करते हैं—''ईश्वर का कोई आकार नहीं है'' (यजुर्वेद, अध्याय 32, श्लोक 3)—लेकिन शर्मा दावा करते हैं कि फ़ैज़ ने 'जब अर्ज-ए-खुदा के काबे से, सब बुत उठवाए जाएंगे' लिखकर हिंदू विरोधी टिप्पणी की है. अपने ब्लॉग पर शर्मा लिखते हैं, ''मूर्तियों को नष्ट करने का आह्वान अधिकारियों को चुनौती दे रहा है और इस तरह के जमावड़ों में यह आम बात हो चली है, इन जमावड़ों को आतंकी जमावड़ा करार दे दिया जाना चाहिए.''

वाशि शर्मा की दिखावटी दलीलों को आसानी से खारिज किया जा सकता है लेकिन उन्होंने फ़ैज़ को भारत में सुर्खियों में डाल दिया है. फ़ैज़ का रवायतों को तोडऩा कई बार हमें उनके रूमानी झुकाव को भुलाने की कोशिश करता है. वे मानते थे कि कविता का मुख्य विषय है ''अपने प्रियजन को खोना.'' लेकिन अपने निजी क्षोभ के दरम्यान भी फ़ैज़ 'हम' के बहुवचन को डाल देते हैं. मुझसे पहली सी मोहब्बत, मेरे महबूब न मांग में एक आशिक अपनी महबूबा से कह रहा है कि उसे उस मोहब्बत की अपेक्षा नहीं करनी चाहिए जो पहले हुआ करती थी. उसने बहुत कुछ देख लिया है, जा-ब-जा बिकते हुए कूचा-ओ-बाजार में जिस्म/खाक में लिथड़े हुए खून में नहलाए हुए. अगर फ़ैज़ की शायरी में निजी को राजनैतिक बना दिया जाए तो उसका उलट उन लोगों को याद दिलाने वाला होता है जो तख्त पर बैठे हैं.

फ़ैज़ की कुछ कृतियों का अनुवाद कर चुके आगा शाहिद अली ने कहा था कि इंकलाब व मोहब्बत अक्सर अपनी जगहों की अदला-बदली कर लेते हैं. ''इंकलाब का इंतजार करना भी उतना ही पीड़ादायक व मादक हो जाता है जितना कि अपनी महबूबा का इंतजार करना.'' फ़ैज़ ने 1972 में एक साक्षात्कार में कहा, ''मैंने कभी वैयक्तिक या अवैयक्तिक में फर्क नहीं किया, कभी आप समाज पर जोर देते हैं तो कभी व्यक्ति पर.'' मानवतावादी के रूप में फ़ैज़ हम सबकी ओर से बोलते हैं. वे हमारे टूटे दिलों व टूटी हड्डियों की तकलीफों को कम कर देते हैं. उनकी सबसे लोकप्रिय नज़्म का एक शेर है—दिल ना-उम्मीद तो नहीं, नाकाम ही तो है, लंबी है गम की शाम मगर शाम ही तो है—जो एक पस्त प्रेमी और पस्त एक्टिविस्ट, दोनों के जख्मों पर मरहम लगा सकता है.

भारत के विभाजन के वक्त 1947 में लिखी एक नज़्म सुब्ह-ए-आजादी में उनकी हताशा धीमे-धीमे एक जोखिमभरी उम्मीद में तब्दील हो जाती है. शुरुआती पंक्तियों में वे कहते हैं—ये दाग दाग उजाला ये शब-गज़ीदा सहर, वो इंतिजार था जिसका ये वो सहर तो नहीं'—इस मायूसी के बाद नज्म के अंत में उम्मीद के साथ कहते हैं—चले-चलो कि वो मंजिल अभी नहीं आई.

अगस्त 1947 में फ़ैज़ 36 साल के थे. उन कई पाकिस्तानियों की तरह जो आजादी से पहले के भारत में पैदा हुए थे, फ़ैज़ की जिंदगी भी भारत-पाक सीमा के दोनों तरफ गुजरी. उनका निकाह श्रीनगर में हुआ. अपनी पहली नौकरी के सिलसिले में वे अमृतसर चले गए. दूसरे विश्व युद्ध के समय उन्होंने ब्रिटिश इंडियन आर्मी में काम किया. उनकी दोनों बेटियां सलीमा और मुनीजा यहीं पैदा हुईं. भारत के प्रति अपने लगाव के बावजूद फ़ैज़ यथार्थवादी बने रहे. वे महसूस करते थे कि उनकी शायरी हिंदुस्तानियों के लिए भी वही बोल सकती है, फिर भी उन्होंने कभी हिंदुस्तानियों के लिए बोलने का दिखावा नहीं किया.

हिंदुस्तान के साथ पाकिस्तान की जंग में फ़ैज़ ने इस तरह के बहादुराना गीत लिखने से इनकार कर दिया जिनको सुनकर पाकिस्तानी फौजें जोश से भर उठें, लेकिन उनकी नज्मों ने एक नई तरह की देशभक्ति पैदा की—जो वफादारी पर नहीं बल्कि नई तालीम पर जोर देती थी. फ़ैज़ की जेल में बीती जिंदगी ने (पाकिस्तान की अलग-अलग हुकूमतों ने उन्हें कई बार जेल में डाला) उन्हें एक बेशकीमती सबक सिखाया—कि आजादी मिल सकती है, छुटकारा नहीं.

निसार मैं तेरी गलियों के, में वह लिखते हैं, निसार मैं तेरी गलियों के ऐ वतन कि जहां, चली है रस्म कि कोई न सर उठा के चले. अगर आज फ़ैज़ उन लोगों के मुंह से बोल रहे हैं जो ज्यादा बराबरी के लिए संघर्ष कर रहे हैं, तो शायद ऐसा इसीलिए है कि वे हमेशा से ऐसा ही कहते रहे.

सुरेश नेवतिया पत्रकार और हाउ दु ट्रैवल लाइट के लेखक हैं

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें