scorecardresearch
 

हरियाणाः नए जाट नेता का उदय

उपमुख्यमंत्री का पद पाकर दुष्यंत चौटाला हरियाणा में जाट नेतृत्व का नया चेहरा बनने जा रहे हैं

गेट्टी इमेजेज गेट्टी इमेजेज

सत्ताइस अक्तूबर को हरियाणा राजभवन में झटपट आयोजित शपथ-ग्रहण समारोह में सभी की नजरें नए उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला पर टिकी थीं. इस चुनाव में 31 वर्षीय यह जाट नेता सबके लिए एक चौंकाने वाला चेहरा था. उनकी 10 महीने पुरानी पार्टी जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) ने 90 सदस्यों वाली विधानसभा में एक ही झटके में 10 सीटें जीत लीं. देवीलाल के पड़पोते, ओम प्रकाश चौटाला के पोते और अजय चौटाला के इस पुत्र ने भाजपा के साथ सरकार बनाने का फैसला किया और मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के बगल में खड़े होकर उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली.

अपने छोटे से राजनैतिक कैरियर में—दुष्यंत ने 2014 में 26 साल की उम्र में लोकसभा का चुनाव जीतकर सबसे युवा सांसद के तौर पर रिकॉर्ड बुक में अपना नाम दर्ज कराया था—चौटाला परिवार के इस वंशज ने अपनी छवि 'पहला सज्जन चौटाला' की पेश की है जो उनके खानदान की दबंग नेताओं वाली छवि के बिल्कुल विपरीत है. पब्लिक स्कूल में  पढ़े, अंग्रेजी भाषी दुष्यंत हरियाणा में जाट नेतृत्व का नया चेहरा हैं. वे परिवार में अपने से बड़ों की जाति-केंद्रित राजनीति से अलग हटकर सभी 36 बिरादरियों को साथ लेकर चलने की बात करते हैं. हालांकि मुख्य रूप से खेती करने वाली इस जाति की कुल आबादी में हिस्सेदारी करीब 26 प्रतिशत है और जेजेपी के कुल 15 प्रतिशत वोटों में सबसे ज्यादा यही हैं. जेजेपी के 10 में से 5 विधायक जाट हैं.

भाजपा को बहुमत से छह सीटें और कांग्रेस को बहुमत से 15 सीटें कम मिलने से दोनों ही पार्टियां दुष्यंत को अपनी तरफ खींचने की कोशिश कर रहे थे.

लेकिन अगले दिन जब वे अध्यापकों की भर्ती घोटाले के आरोप में तिहाड़ जेल में बंद अपने पिता अजय चौटाला और दादा ओम प्रकाश चौटाला से मिलने गए तो अजय चौटाला ने उन्हें सलाह दी कि वे भूपिंदर सिंह हुड्डा के साथ न जाएं क्योंकि ऐसा करने से उनके लिए जाटों में अपनी पकड़ मजबूत बनाने का अवसर क्षीण हो जाएगा. इस बार जाटों में खट्टर विरोधी भावनाओं का सबसे ज्यादा लाभ हुड्डा को ही मिला था. लेकिन हुड्डा अभी ईडी और सीबीआइ की जांच के मामलों में उलझे हुए हैं.

सेंटर फॉर स्टडी ऑफ डेवलपिंग सोसाइटीज में प्रोफेसर अभय दुबे कहते हैं, ''हुड्डा जितने कमजोर रहेंगे, दुष्यंत को उतना ही ज्यादा फायदा मिलेगा.

इसके अलावा उन्हें युवा होने का भी फायदा होगा.'' दूसरी तरफ भाजपा ने सरकार बनाने का दावा पेश करने से पहले दुष्यंत का इंतजार करने का फैसला किया, जबकि उसे सात निर्दलीय विधायकों, इंडियन नेशनल लोक दल के अभय चौटाला और हरियाणा लोकहित पार्टी के गोपाल गोयल कांडा का समर्थन मिल चुका था.

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह दुष्यंत का समर्थन लेने के इच्छुक थे (हालांकि भाजपा में एक वर्ग लोग इससे सहमत नहीं था) क्योंकि इससे पार्टी को अलग-थलग पड़ी जाट बिरादरी में अपनी पहुंच बनाने में मदद मिलती.

भाजपा ने दुष्यंत के साथ बातचीत के दो रास्ते खोल दिए थे—पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने 24 अक्तूबर की दोपहर को उनसे संपर्क किया था, बाद में वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने अमित शाह की ओर से उनसे बातचीत की.

अपने पिता से मिलने के बाद दुष्यंत ने ठाकुर को फोन किया और अपनी शर्तों के बारे में बताया: उपमुख्यमंत्री का पद ओर दो विधायकों के लिए कैबिनेट और राज्यमंत्री का पद.

समझौता तय हो गया. फिर ठाकुर और दुष्यंत इस सौदे को औपचारिक रूप देने के लिए अमित शाह के निवास पर गए. भाजपा के साथ गठबंधन करके दुष्यंत ने भले की राजनीतिक जोखिम उठाया है लेकिन उनके लिए यह कोई नया जोखिम नहीं है. उंचाना कलां से चुनाव लडऩे का उनका फैसला भी बहुत जोखिम भरा था.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें