scorecardresearch
 

सूचकांकः ईरानी उलझन...

ईरान के प्रमुख जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या का असर कच्चे तेल और सोने की कीमतों पर पड़ा और इसने दुनियाभर के बाजारों को हिलाकर रख दिया

इलस्ट्रेशनः तन्मय चक्रवर्ती इलस्ट्रेशनः तन्मय चक्रवर्ती

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आदेश पर ईरान के प्रमुख जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या का असर कच्चे तेल और सोने की कीमतों पर पड़ा और इसने दुनियाभर के बाजारों को हिलाकर रख दिया. ईरान में शोक मनाने लोग सड़कों पर उतरे, लेकिन पूरे अमेरिका में दर्जनों युद्ध-विरोधी प्रदर्शन हुए. ट्रंप गुस्से का सामना कर रहे हैं.

ईरानी ठिकानों पर और हमलों की धमकी दी जा रही है, जिसमें सांस्कृतिक महत्व के स्थल भी शामिल हैं. अमेरिकी सैनिकों को हटाने के लिए वोट करने वाले इराक को भी आर्थिक प्रतिबंधों की चेतावनी दी गई है. राजनैतिक विश्लेषक कहते हैं, युद्ध की आशंका तो नहीं है, पर स्थितियां कब कैसी हो जाएं, कहा नहीं जा सकता. यह अस्थिरता सोने और तेल की कीमतों और दुनियाभर के शेयर बाजारों में दिखी है. परमाणु अप्रसार को स्थगित कर दिया गया है. ईरान को बाहर रखते हुए यूरेनियम संवर्धन पर कोई बाधा नहीं है. दोनों देशों से संयम बनाए रखने का आह्वान करते हुए, संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि फिलहाल भू-राजनैतिक तनाव इस सदी में अपने उच्चतम स्तर पर दिखता है.

70.7 डॉलर

ब्रेंट कच्चे तेल की कीमत सुलेमानी की मौत के बाद. यह सितंबर में सऊदी तेलकुओं पर हुए हमले, जिससे दुनियाभर में तेल उत्पादन पर 5 फीसद का असर पड़ा था, के बाद उच्चतम है.

233.9

पॉइंट या 0.6 फीसद कीमत गिरी न्यूयॉर्क के डाऊ स्टॉक एक्सचेंज की सुलेमानी की मौत के बाद. यह एक महीने में किसी एक दिन हुआ सबसे बड़ा घाटा था. बॉक्वबे सेंसेक्स 788 अंक नीचे गिरा.

10

लोग, सुलेमानी समेत बकौल ईरान, अमेरिकी ड्रोन हमले में मारे गए. अमेरिका के मुताबिक, सुलेमानी और ईरानी समर्थित मिलिशिया की वजह से इराक में 603 अमेरिकी फौजी मारे गए.

55 पैसे

प्रति लीटर की बढ़ोतरी पेट्रोल की कीमतों में लगातार 5 दिनों में भारत में हुई (1-5 जन.). डीजल की कीमतों में 72 पैसे/ली. की वृद्धि दर्ज. सुलेमानी 3 जन. को मारा गया.

2.1 करोड़

बैरल तेल रोजाना होमरुज जलसंधि से गुजरने का अनुमान है, जो ईरान और ओम्मान की समुद्री सीमा में है. यह दुनिया भर के तेल का 20 फीसद है.

52

ईरानी स्थल, सांस्कृतिक महत्व की जगहें भी हैं, ईरान की तरफ से प्रतिरोध पर हमला होगा, यह धमकी ट्रंप ने दी है. 1979 में ईरान ने 52 अमेरिकियों को 444 दिनों तक बंधक रखा था.

1,579.5 डॉलर

आउंस सोने की कीमत सुलेमानी की मौत के बाद. यह उछलकर करीबन 1,600 डॉलर  तक पहुंचा, जो 2013 के बाद उच्चतम है. अमेरिका-चीन ट्रेड वॉर के मद्देनजर सोने की कीमतें पहले ही चढ़ी थीं.

5,000

अमेरिकी सैनिक इराक में मौजूद हैं, ऐसा अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोक्वपेयो ने जनवरी, 2019 में बताया. 45,000-50,000 सैनिक अफगानिस्तान और पश्चिम एशिया में हैं.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें