scorecardresearch
 

चुनाव में मध्य प्रदेश भाजपा के नए प्रमुख की होगी अग्नि परीक्षा

अब राकेश सिंह के इस पद पर आने से पता चलता है कि महत्वपूर्ण चुनावी वर्ष में भगवा नेतृत्व कोई भी जोखिम लेने को तैयार नहीं है. उनका चयन इसलिए भी मायने रखता है क्योंकि इस पद के लिए राज्य के करीब आधा दर्जन नेता लॉबिइंग कर रहे थे.

परीक्षा की घड़ी  भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान परीक्षा की घड़ी भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

जबलपुर लोकसभा क्षेत्र के सांसद राकेश सिंह को 18 अप्रैल को भाजपा का नया प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया तो यह साफ हो गया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान दिल्ली स्थित पार्टी आलाकमान से अपनी बात मनवाने में सफल हो गए हैं.

राज्य के पूर्व पार्टी प्रमुख नंदकुमार सिंह चौहान का जाना तभी "तय लगने'' लगा था, जब हाल में मुंगावली और कोलारास के विधानसभा उपचुनावों में पार्टी को हार का सामना करना पड़ा. अब राकेश सिंह के इस पद पर आने से पता चलता है कि महत्वपूर्ण चुनावी वर्ष में भगवा नेतृत्व कोई भी जोखिम लेने को तैयार नहीं है.

उनका चयन इसलिए भी मायने रखता है क्योंकि इस पद के लिए राज्य के करीब आधा दर्जन नेता लॉबिइंग कर रहे थे, जिनमें राज्य के मंत्री नरोत्तम मिश्र और लाल सिंह आर्य तथ पूर्व केंद्रीय मंत्री फगन सिंह कुलस्ते शामिल थे.

इनके अलावा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल भी दौड़ में थे, लेकिन मुख्यमंत्री से तल्ख रिश्तों की वजह से इन लोगों के नाम पर विचार करना संभव ही नहीं था. इससे भी पता चलता है कि पार्टी आलाकमान फिलहाल मुख्यमंत्री को कितनी तवज्जो दे रहा है.

बताया जाता है कि मुख्यमंत्री चौहान नरेंद्र सिंह तोमर को तीसरी बार इस पद पर लाने के इच्छुक थे. तोमर-चौहान की जोड़ी 2008 और 2013 के दो चुनावों में विजयी रही थी. तोमर फिलहाल केंद्र में ग्रामीण विकास, पंचायती राज और खनन विभाग के मंत्री हैं और सत्ता के गलियारों में चर्चा है कि उन्होंने इसके लिए मना कर दिया.

लेकिन मुख्यमंत्री उन्हें खोना नहीं चाहते थे. सो, उन्होंने यह आश्वस्त किया कि भाजपा की राज्य चुनाव कमेटी में तोमर भी एक संयोजक के रूप में बने रहें और अपनी सलाह से पार्टी की संभावनाओं को मजबूत बनाते रहे.

पार्टी के नए अध्यक्ष राकेश सिंह को पहला बड़ा ब्रेक उमा भारती ने अपने मुख्यमंत्री कार्यकाल के दौरान दिया था. उन्होंने 2004 में जबलपुर लोकसभा सीट से उनकी उम्मीदवारी का समर्थन किया था. राकेश सिंह पूर्व केंद्रीय मंत्री तथा दमोह से सांसद प्रह्लाद पटेल के भी करीबी माने जाते हैं. दोनों ने छात्र राजनीति में एक साथ प्रवेश किया था और काफी काम साथ-साथ किया है.

हालांकि राकेश सिंह के आलोचकों का कहना है कि चुनाव के महज कुछ महीने पहले उन्हें लाए जाने का कोई मतलब नहीं है, क्योंकि अब काफी देर हो चुकी है. यह भी कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र भाजपा के सह-प्रभारी की पारी के अलावा राकेश सिंह का और कोई खास संगठनात्मक अनुभव नहीं है. फिर प्रदेश में पार्टी में जितने धड़े हो गए हैं, उन्हें एकजुट रख पाना आसान नहीं होगा.

इसलिए उनके लिए कई लक्ष्य तैयार हैं, जिनमें पहला होगा ऐसी सीटों की पहचान करना जिनके मौजूदा विधायकों का पत्ता काटना है. नए प्रदेश भाजपा मुखिया को इस मामले में थोड़ी सक्रियता दिखानी होगी ताकि इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनावों के टिकट वितरण में कम से कम बगावत हो. नए अध्यक्ष को कुछ आजाद तरीके से काम करना सीखना होगा, बजाए मुख्यमंत्री के "भोंपू'' बन जाने के.

उन्होंने बाबूलाल गौर और सरताज सिंह जैसे वरिष्ठों का ख्याल रखा है. यह संकेत देते हुए कि वे जानते हैं कि उन्हें क्या करना है. कार्यभार ग्रहण करते समय राकेश सिंह ने कहा, "मैं सरताज सिंह जी से मिला...भाजपा के सभी कार्यकर्ता अगले चुनावों के लिए मिलकर काम करेंगे.''

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें