scorecardresearch
 

बच्चों का खेल

खेल के मैदानों को ऐसा होना होना चाहिए जो बच्चों को सीखने के भरपूर अवसर प्रदान करें और उनके निर्णय लेने तथा जोखिम उठाने के कौशल को सुधारने में मददगार साबित हों.

किड जोन अग्रवाल (दाएं) और मेनन किड जोन अग्रवाल (दाएं) और मेनन

मृणि देवनानी

अदिति अग्रवाल, 30 वर्ष, और अंजलि मेनन, 29 वर्ष

सह-संस्थापक, गुदगुदी, मुंबई

www.gudgudee.in

यह सब 2011 में शुरू हुआ जब गुदगुदी की सह-संस्थापक अदिति अग्रवाल और अंजलि मेनन एनआइडी (नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन), अहमदाबाद में औद्योगिक डिजाइन की पढ़ाई कर रही थीं और उन्होंने एक प्रोजेक्ट के लिए ब्लाइंड पीपुल्स एसोसिएशन (बीपीए) का दौरा किया.

वे यह जानकर सन्न रह गईं कि विशेष आवश्यकताओं वाले बच्चे सामाजिक उपहास और खेलने की जगहों के सुरक्षित न होने के भय से खेलने के लिए कभी बाहर ही नहीं जाते. दोनों ने इसके लिए कुछ करने की सोची. दोनों ने बीपीए परिसर में एक समावेशी खेल क्षेत्र बनाकर शुरुआत की. इस परियोजना के लिए उन्हें साल 2013 में हैम्बर्ग में आइएफ डिजाइन अवॉर्ड मिला.

नई पहल 

अग्रवाल और मेनन ने 2014 में गुदगुदी की शुरुआत की. इसके तहत इन लोगों ने खेल के मैदानों को पारंपरिक झूलों और स्लाइडों से परे जाकर एक नए तरीके से बनाना शुरू किया जो सभी के लिए उपयोगी हों. मेनन बताती हैं, ''खेलते समय, बच्चे मोटर स्किल और संतुलन विकसित करते हैं, और संवाद करना सीखते हैं. खेल के मैदानों को ऐसा होना होना चाहिए जो बच्चों को सीखने के भरपूर अवसर प्रदान करें और उनके निर्णय लेने तथा जोखिम उठाने के कौशल को सुधारने में मददगार साबित हों.'' 

आगे की राह 

उपभोक्ताओं को शिक्षित करना चुनौती थी, क्योंकि लोग आमतौर पर झूले और स्लाइड ही खरीदते हैं. यह सुनिश्चित करने के लिए कि खेल में ध्वनियों, गंध, स्पर्श और दृश्य संवाद, सबका अच्छा संयोजन बना रहे, दोनों ने अपने प्रोजेक्ट के लिए शारीरिक गतिविधियों और सामाजिक कौशल का एक मिश्रण तैयार किया. अग्रवाल कहती हैं, ''मुझे लगता है कि हमारे सार्वजनिक स्थलों को डिजाइन के विषय पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है.'' 

खास सबक 

आंत्रप्रन्योर को धैर्य और इच्छाशक्ति की जरूरत होती है

कारोबार में नफा-नुक्सान दोनों के लिए तैयार रहें 

किसी 'जरूरत' को बिजनेस आइडिया में बदल दें.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें