scorecardresearch
 

बिहारः लौटती रंगत

दशकों बाद कांग्रेस राज्य में पहली बार उत्साहित नजर आ रही. पार्टी के नेता और कार्यकर्ताओं में इतना जोश है कि वे राहुल की रैली को सफल बनाने के लिए दिन-रात जुटे हुए हैं.

हम एक हैंः पटना में बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल (बीच में) और प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झ हम एक हैंः पटना में बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल (बीच में) और प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झ

पटना में कांग्रेस मुख्यालय सदाकत आश्रम में काफी गहमागहमी है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा के नेतृत्व में पार्टी के नेता 3 फरवरी को राहुल गांधी की जनआकांक्षा रैली की तैयारी में जुटे हुए हैं. पटना में वर्षों बाद कांग्रेस की यह अपनी अलग जनसभा है. इस जनसभा में ज्यादा से ज्यादा भीड़ जुटाने के लिए 95 पर्यवेक्षक बिहार के 38 जिलों में फैले हुए हैं. छत्तीसगढ़ के प्रभारी एआइसीसी के महासचिव चंदन यादव, जो पटना रैली की तैयारी में मदद कर रहे हैं, कहते हैं, ''राहुल ने एनडीए के साथ ही नरेंद्र मोदी की कलई खोल दी है जो अपने बड़े-बड़े वादों को पूरा करने में पूरी तरह असफल रहे हैं. प्रधानमंत्री के विकास का वादा कहीं गायब हो गया है और उसकी जगह अब हिंदू राष्ट्रवाद ने ले ली है.''

दिसंबर में भारतीय जनता पार्टी के हाथों से तीन हिंदीभाषी राज्य छीन लेने के बाद से बिहार में कांग्रेस में उत्साह का माहौल है. पार्टी के एक वरिष्ठ नेता कहते हैं, ''और अब तो हमारे पास प्रियंका गांधी भी हैं. राजनीति में उनके औपचारिक रूप से प्रवेश करने से बिहार में बहुत ज्यादा असर पड़ेगा. विधानसभा चुनावों में जीत के बाद यह पार्टी को ताकत देगा.''

अचानक ही कांग्रेस की ओर लोगों का झुकाव बढ़ा है. जद (यू) के पूर्व बाहुबली नेता अनंत सिंह समेत कई नेता आगामी लोकसभा के लिए कांग्रेस से टिकट पाने की उम्मीद पाले हैं. वे कहते हैं, ''वे (कांग्रेस) भले ही हमें टिकट दें या न दें लेकिन मैं कांग्रेस का समर्थन करूंगा. और जीतूंगा भी.'' एक अन्य बाहुबली नेता राजेश रंजन यादव उर्फ पप्पू यादव भी चाहते हैं कि कांग्रेस मधेपुरा से उनकी उम्मीदवारी का समर्थन करे. उनकी पत्नी रंजीता रंजन सुपौल से कांग्रेस सांसद हैं. कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता मानते हैं कि जिस तरह से लोग पार्टी से टिकट पाने की लाइन में लग गए हैं, वह इस बात का सबूत है कि बिहार में कांग्रेस की स्थिति मजबूत हो रही है. माना जा रहा है कि केवल बाहुबली नेता ही नहीं, शत्रुघ्न सिन्हा जैसे भाजपा के कई असंतुष्ट नेता भी कांग्रेस से टिकट की आस लगाए हैं.

लेकिन बिहार में समस्या यह है कि पार्टी राजनैतिक हैसियत के पदानुक्रम में काफी नीचे है. यहां बड़ा असर डालने के लिए पार्टी को लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के समर्थन की जरूरत होगी. जरा इस पर नजर डालेंरू 2014 के लोकसभा चुनावों में जब भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए को राज्य की 40 में से 31 सीटों पर जीत मिली थी तो राजद को करीब 18 प्रतिशत वोट मिले थे. कांग्रेस और राजद के वोटों को मिला दें तो उनके पास 29 प्रतिशत वोट हो जाते हैं. लेकिन यह भी 2014 में नीतीश कुमार के जद(यू), राम विलास पासवान की लोजपा और भाजपा को मिले वोटों से कम है. बहरहाल, कांग्रेस नेताओं का कहना है कि यह हिसाब सही नहीं है. राज्य में पार्टी के एक नेता कहते हैं, ''बिहार और देश के अन्य हिस्सों में इस बार 'मोदी लहर' खत्म हो चुकी है. इसलिए भाजपा को दोबारा उतने वोट नहीं मिलने वाले.''

पार्टी के नेता और कार्यकर्ताओं में इतना जोश है कि वे राहुल की रैली को सफल बनाने के लिए दिन-रात जुटे हुए हैं और राज्य में हर जगह उसकी चर्चा सुनाई दे रही है. लोग मानते हैं कि अगर रैली सफल रही तो कांग्रेस अगड़ी जातियों के वोट भाजपा से अपनी तरफ खींच सकती है. 1990 तक कांग्रेस के पास दलित और मुस्लिम वोटों का एक बड़ा हिस्सा हुआ करता था. हालांकि राजद के साथ कांग्रेस का मैत्रीपूर्ण गठबंधन है लेकिन अब वह अपनी खोई हुई राजैतिक जमीन दोबारा वापस पाने की कोशिश करेगी. झा की पिछले साल सितंबर में नियुक्ति हुई है जो 1991 में जगन्नाथ मिश्र के बाद पहली बार राज्य इकाई के प्रमुख के तौर पर किसी ब्राह्मण की नियुक्ति है. इसे कांग्रेस की सोची-समझी चाल के रूप में देखा जा रहा है.

हालांकि बिहार में अगड़ी जातियों की संख्या मात्र 11-12 प्रतिशत है लेकिन वे राजद, जद (यू), उपेंद्र कुशवाहा की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (आरएलएसपी) और अन्य पार्टियों के बीच दूसरी जातियों के वोटों के बंट जाने से चुनावों का नतीजा बदल देने की क्षमता रखती हैं. कांग्रेस के नेताओं का आरोप है कि भाजपा ने इसीलिए आखिरी क्षणों में आर्थिक रूप से कमजोर सवर्णों के लिए नौकरियों में 10 प्रतिशत आरक्षण देने की चाल चली है. सवर्णों के भाजपा से मोहभंग का पहला संकेत 2015 के विधानसभा चुनावों में देखने को मिला था जब कांग्रेस ने 27 सीटें जीत ली थीं. पार्टी की ओर से मैदान में उतारे गए अगड़ी जाति के 16 उम्मीदवारों में से 12 चुनाव जीत गए थे. इस बार कांग्रेस पुराने सहयोगियों और आरएलएसपी, जीतन राम माझी के हिंदुस्तान अवाम मोर्चा और मुकेश साहनी की वीआइपी जैसी नई पार्टियों के साथ बड़ी जीत हासिल करने की ताक में है. राहुल की जनआकांक्षा रैली इस बात का संकेत होगी कि बिहार में कांग्रेस का भविष्य कैसा होने वाला है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें