scorecardresearch
 

बिहार-पुत्र का उदय

बिहार में लोकजनसशक्ति पार्टी की कमान चिराग पासवान के हाथ में, मगर आगे पहाड़ सी चुनौतियां

दारोमदार दिल्ली में मीडिया से मुखातिब चिराग दारोमदार दिल्ली में मीडिया से मुखातिब चिराग

अमिताभ श्रीवास्तव

हाल में 24 सितंबर को केंद्रीय मंत्री और लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के प्रमुख राम विलास पासवान ने अपने 36 वर्षीय बेटे चिराग पासवान को अपने गृह प्रदेश, बिहार में पार्टी की कमान सौंपी तो फैसला स्वाभाविक लगा. आखिर पार्टी ने लोकसभा चुनावों में राज्य में अपनी सभी सीटों पर विजय जो हासिल की थी. दलित दिग्गज के अपने इकलौते बेटे को पार्टी की कमान सौंपने से शायद ही कोई चौंका हो. लेकिन जानकारों की मानें तो इतना भर ही काफी नहीं है.

पिछले कुछ दशक से रामविलास पासवान हमेशा जीते हुए पक्ष में रहने की गजब की काबिलियत दिखाते रहे हैं. इसी वजह से वे छह अलग-अलग प्रधानमंत्रियों के मंत्रिमंडल में जगह हासिल कर चुके हैं. लेकिन वे खुद भी 2014 में अपने राजनैतिक पुनर्जीवन और उसके बाद हासिल हुई कामयाबियों के लिए चिराग की 'दूरदृष्टि' के मुरीद हो गए हैं. वे कहते हैं कि चिराग ने ही उन्हें 2014 के लोकसभा चुनावों के ऐन पहले यूपीए के बदले एनडीए का दामन थामने को समझाया.

तब बहुत लोग लोजपा को खारिज करने लगे थे क्योंकि 2009 में वह एक भी सीट नहीं जीत पाई थी. वहीं, 2010 के बिहार विधानसभा चुनावों में पार्टी महज तीन सीटें ही जीत पाई थी. ऐसे में चिराग का आकलन सही बैठा और पार्टी 2014 में सात में से छह लोकसभा सीटें जीतने में कामयाब रही और इस साल के लोकसभा चुनावों में तो उसके सभी छह उम्मीदवार जीत गए.

चिराग को पार्टी की राज्य इकाई का जिम्मा भी अहम वक्त में दिया गया है क्योंकि अगले साल बिहार में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. चिराग यह भी दिखा चुके हैं कि वे कड़े फैसले लेने से जी नहीं चुराते. हाल में जब कुछ मुट्ठी भर भाजपा नेताओं ने राज्य में एनडीए सहयोगी जद(यू) प्रमुख और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ बगावत का झंडा उठा रखा है तो लोजपा नीतीश कुमार के पक्ष में खड़ी है. लोजपा ने खुलकर कहा है कि ''नीतीश कुमार ही बिहार में एनडीए का चेहरा हैं और रहेंगे.''

चिराग ने कहा, ''बिहार में नीतीश कुमार का कोई विकल्प नहीं है. लोजपा उन्हें राज्य में एनडीए का नेता मानती है.'' लोजपा का यह समर्थन कई मायने में खास है. चिराग ने रामविलास पासवान को राज्यसभा में भेजने के लिए नीतीश कुमार के समर्थन का एहसान भी चुकाया है. लोकसभा चुनाव के नतीजों को देखें, तो जद (यू) और लोजपा की संयुक्त वोट हिस्सेदारी अच्छी-खासी, 30 प्रतिशत है. यह पर्याप्त वजह है कि भाजपा इस व्यवस्था को गड़बड़ाना नहीं चाहेगी.

तो, क्या चिराग पार्टी की कमान अपने पिता से लेने के लिए पूरी तरह तैयार हैं? चिराग इसे सूर्य और चंद्रमा जैसा रिश्ता बताते हैं. वे कहते हैं, ''वे हमेशा मेरी ऊर्जा और अस्तित्व का स्रोत बने रहेंगे.'' लोजपा 28 नवंबर को अपने स्थापना दिवस पर एक रैली की योजना बना रही है, जिससे चिराग की ताजपोशी को कुछ और मजबूती देने की कोशिश की जाएगी.

दशकों से रामविलास पासवान अपने मजबूत 6.5 प्रतिशत वोट बैंक के साथ बिहार में दलित चेहरा बने हुए हैं. राज्य में दलितों की अच्छी-खासी आबादी है. हालांकि, चिराग भले ही आधिकारिक तौर पर अब कमान संभाल रहे हों, लेकिन उनकी यह सियासी राह इतनी आसान भी नहीं हैं. उनके पिता उनके लिए एक लंबी विरासत छोड़ रहे हैं, मगर इस युवा दलित नेता को भी लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरना होगा.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें