scorecardresearch
 

बिहार- पद से बड़ी चुनौती

भाजपा के एक पदाधिकारी कहते हैं, ''जब महाराष्ट्र में पिछले विधानसभा चुनाव में हम शिवसेना के साथ नहीं लड़े तो भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी. बिहार में 2015 में ऐसा भले नहीं हो सका था लेकिन अब समय बदल गया है.''

और मजबूत सीएम गहलोत का सदन में बहुमत और बढ़ गया है और मजबूत सीएम गहलोत का सदन में बहुमत और बढ़ गया है

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बीते 14 सितंबर को जब सांसद संजय जायसवाल के बिहार प्रदेश भाजपा का अध्यक्ष बनाए जाने के पत्र पर हस्ताक्षर किए, उससे ठीक 4 दिन पहले पार्टी के नेता संजय पासवान का बयान आया था कि ''नीतीश कुमार को अब सीएम की कुर्सी भाजपा के लिए खाली कर देनी चाहिए.'' विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के कुछ नेताओं ने भी यह विचार व्यक्त किया कि नीतीश को दोबारा महागठबंधन में आना चाहिए.

यह संकेत है कि बिहार में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में मौजूदा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का एक साथ लडऩा और नीतीश कुमार का मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी होना अभी तय नहीं है. नवनियुक्त अध्यक्ष संजय जायसवाल इस बात को अच्छी तरह से समझते रहे हैं लिहाजा, चेहरे (राज्य में एनडीए नेता) के सवाल पर वे कहते हैं, ''सीएम पद पर फैसला संगठन का केंद्रीय नेतृत्व और पार्लियामेंट्री बोर्ड लेगा.''

जायसवाल उस अनिश्चित माहौल में बिहार भाजपा के अध्यक्ष बने हैं जहां नेतृत्व का सवाल मुंह बाए खड़ा है. पार्टी के अंदर और सहयोगी जद(यू) के लोगों में सामंजस्य बनाए रखना भी आसान नहीं है. लेकिन सबसे बड़ी चुनौती उस नैरेटिव को और बड़ा करना है जिस पर राज्य में भाजपा के लोग यह दावा कर रहे हैं, ''अब नीतीश के चेहरे पर नहीं, पीएम मोदी के चेहरे पर वोट मिलता है.''

मतलब साफ है कि अगले एक साल से भी कम समय में जायसवाल के सामने भाजपा को उस जगह पहुंचाने का लक्ष्य है जहां उसे नीतीश कुमार का साथ लेना जरूरी न हो. 2015 के विधानसभा चुनाव में भाजपा की हार की बड़ी वजह यह रही थी कि जद(यू) और राजद में गठबंधन था. ऐसे में पिछड़ा और दलित तथा महादलित वोट बैंक में भाजपा सेंध नहीं लगा सकी, पर अब ऐसा नहीं है. बिहार भाजपा के उपाध्यक्ष देवेश कुमार कहते हैं, ''2015 के चुनाव में भी भाजपा को यादवों के वोट मिले थे.

मोदी सरकार के पांच साल के कार्यकाल के दौरान दलितों और महादलितों तक केंद्र और राज्य सरकार की योजनाएं पहुंची हैं.'' देवेश अगले चुनाव के लिए सीएम चेहरे पर कोई प्रतिक्रिया तो नहीं दे रहे हैं, लेकिन यह कह रहे हैं कि भाजपा लगातार मजबूत हुई हैं. भाजपा के एक पदाधिकारी कहते हैं, ''जब महाराष्ट्र में पिछले विधानसभा चुनाव में हम शिवसेना के साथ नहीं लड़े तो भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी. बिहार में 2015 में ऐसा भले नहीं हो सका था लेकिन अब समय बदल गया है.''

भाजपा के एक वरिष्ठ महासचिव कहते हैं, ''जायसवाल को, सिर्फ नया प्रदेश अध्यक्ष चुना जाना है यह सोचकर नहीं चुना गया है. वे भी वैश्य समुदाय से हैं जो राज्य भाजपा के सबसे कद्दावर नेता और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी की भी जाति है.'' तो क्या भाजपा राज्य में सुशील मोदी के प्रभाव को कम करना चाह रही है?

इस पर बिहार भाजपा के एक नेता कहते हैं, ''ऐसा नहीं है, लेकिन पार्टी के बहुत से लोग खासकर कार्यकर्ता यह मानते हैं कि सुशील मोदी, नीतीश के हिमायती हैं. नीतीश अब 67 साल के हो गए हैं, इसलिए अपेक्षाकृत नए लोगों की जरूरत संगठन में है जो अगले 15 से 20 साल तक पार्टी को मजबूत कर सके.'' अभी उत्तर प्रदेश, राजस्थान या बिहार जहां भी अध्यक्ष चुने गए हैं उनकी उम्र 52 से 55 साल के बीच है. यहां तक कि राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बी.एल. संतोष भी 55 साल के ही हैं.

भाजपा के एक नेता कहते हैं कि जायसवाल को चुने जाने की वजह सिर्फ उनकी जाति ही महत्वपूर्ण नहीं है. वे युवा हैं, पेशे से डॉक्टर हैं, उनके दादा के समय से पूरा परिवार हिंदू महासभा, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा से जुड़ा हुआ है. जायसवाल किसी खेमे से जुड़े हुए नहीं है न ही सुशील मोदी की तरह केंद्रीय भाजपा में उनका कोई हिमायती है. वे 8 से अधिक राज्यों में किसी न किसी जिले में चुनाव प्रभारी रह चुके हैं और संसद के सत्र के अलावा या किसी कमेटी की मीटिंग के अलावा दिल्ली की बजाए अपने क्षेत्र में रहते हैं. आज का युवा वोटर, पढ़े-लिखे, अपेक्षाकृत युवा और क्षेत्र में सक्रिय रहने वाले नेताओं को तवज्जो देते हैं. और जायसवाल इस कसौटी पर फिट बैठते हैं.

मोदी से नजदीकी

संजय जायसवाल से प्रधानमंत्री मोदी का लगाव अलग ही है. मोदी जब 2010 में गुजरात के सीएम थे तब जायसवाल लोकसभा सांसद थे. मोदी ने गुजरात में सौर बिजली की शुरुआत की थी. लेकिन गुजरात के सोलर प्लांट को तत्कालीन केंद्र सरकार (मनमोहन सरकार) ने सब्सिडी नहीं दी. केंद्र सरकार सब्सिडी योजना 2012 में लेकर आई. जायसवाल ने गुजरात सरकार को सोलर प्लांट के लिए सब्सिडी की मांग संसद में उठाई थी, जिससे वे मोदी की नजर में आ गए थे.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें