scorecardresearch
 

बेहद असामान्य हालात

दक्षिणी कश्मीर में पुलवामा के चांदगाम गांव के नौजवान या तो घरों में दुबके हुए हैं ताकि वे किसी की निगाह में नहीं आएं, या फिर सेना के जवानों के हाथ में पडऩे से बचने के लिए अपने घरों से भाग गए हैं

एजाज हुसेन/एपी एजाज हुसेन/एपी

मोअज्जम मोहम्मद

कश्मीर के पुलवामा के अरिहल गांव में अपने घर में चटाई पर बैठा और दर्द से कराहता वह नौजवान कहता है, ''मेहरबानी करके मेरा नाम मत लिखिए वरना वे आएंगे और मुझे मार डालेंगे.'' बाहर सेब के पेड़ गुलजार हैं. मगर लंबे वक्त से उग्रवादी गतिविधियों का केंद्र माने जाने वाले दक्षिण कश्मीर के पुलवामा और शोपियां जिलों के आसपास के गांवों में नौजवान और उनके परिवार कह रहे हैं कि उनके साथ हिंदुस्तानी सैनिकों ने हिंसा की है और यातनाएं दी हैं.

कुछ ने अंतरराष्ट्रीय प्रेस को भारी मारपीट और यहां तक कि बिजली के झटके देने के बारे में ऑन रिकॉर्ड बताया है. तथ्यों का पता लगाने वाली महिलाओं की एक टीम सितंबर में यहां आई थी. उसने आरोप लगाया कि करीब 13,000 लड़कों को, जिनमें से कइयों की उम्र करीब 14 साल ही है, उन्हें हफ्तों से कैद में रखा गया है. इन आंकड़ों की कोई आधिकारिक तस्दीक नहीं हुई है, पर सरकार ने सुप्रीम कोर्ट की बनाई कमेटी के सामने माना कि 5 अगस्त के बाद से 144 लड़कों को पत्थर फेंकने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है, जिनमें कुछ की उम्र करीब 9 साल है.

मगर अरिहल के इस नौजवान का, जो उम्र के बीसवें साल में है, कहना है कि वह 28 सितंबर को अपनी बीवी के साथ अपने धान के खेत में काम कर रहा था, तभी जवानों ने उस पर धावा बोल दिया. वह आरोप लगाता है कि 'तीन जवानों ने मुझे पकड़कर गिरा दिया.' उन्होंने उसका मुंह बांध दिया ताकि चिल्ला न सके और फिर ''एक जवान खून निकलने तक मुक्के बरसाता रहा.'' दूसरे दो जवानों ने ''मेरे शरीर और पैरों पर बुरी तरह मारा और मुझे गालियां दीं.'' वह कहता है, ''फिर उन्होंने मुझसे धूप में झुकने और अपना सिर घुटनों के बीच रखने के लिए कहा, जबकि मेरी नाक और मुंह से खून टपक रहा था.''

मारपीट के बाद कुछ ही देर में यह नौजवान बेहोश हो गया. जब होश आया तो उसने खुद को पुलवामा के सरकारी अस्पताल में पाया, जहां डॉक्टरों ने उसका मामला 'कथित हमले' के तौर पर दर्ज किया. वह बताता है कि सेना जानना चाहती थी कि जुम्मे के दिन उसके गांव की एक मस्जिद में बोलने के लिए 'मौलवी' को किसने बुलाया था. उस दोपहर हम पत्रकार जब उसके घर से बाहर निकल रहे थे, काली लड़ाकू वर्दी में जवानों की टुकड़ी आसपास दिखी जिसमें करीब आधा दर्जन जवान होंगे.

पुलवामा के चांदगाम गांव में, जहां 2,000 से कुछ ज्यादा घर होंगे, सड़कों पर केवल बुजुर्ग दिखाई देते हैं. वे या तो बंद दुकानों के शटर के पीछे गपशप कर रहे होते हैं या सवारी के लिए गुजरती हुई कारों को रोकने की कोशिश कर रहे होते हैं. नौजवान या तो घरों में दुबके हैं, इस डर से कि वे निगाह में न आ जाएं, या जवानों के हाथ में पडऩे से बचने के लिए अपने घरों से भाग गए हैं.

नौजवानों की गिरक्रतारी और उनके ऊपर हिंसा की कई रिपोर्टों के बावजूद सेना ने यातनाएं देने के आरोपों से इनकार किया है. पुलवामा के पुलिस अधीक्षक चंदन कोहली कहते हैं कि यातनाएं देने या परेशान करने की भी कोई शिकायत नहीं मिली है. वे कहते हैं, ''गांव वालों को मेरे पास आना चाहिए, पर जीरो कंप्लेंट हैं.''

श्रीनगर में सेना के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया भी यातनाएं देने की बात को सिरे से खारिज कर देते हैं. मगर पुलवामा के अस्पताल के वरिष्ठ डॉक्टर इलाजरत नौजवानों के साथ हो रहे बर्ताव की खौफनाक कहानियां बयान करते हैं कि किस तरह उन नौजवानों पर ऐसे हमलों और यातना के स्पष्ट निशान हैं. एक डॉक्टर ने कहा कि उसने पांच आदमियों का इलाज किया, जिनके कान के पर्दों पर गंभीर चोटें आई थीं. एक अन्य शख्स के कूल्हे भारी पिटाई से सूज और नीले पड़ गए थे. अलगाववादी धड़े हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी की सुरक्षा बलों के हाथों मौत के बाद महीनों चली अशांति की ओर इशारा करते हुए वे कहते हैं, ''2016 में हमने पैलेट गन से घायल ढेरों नौजवानों का इलाज किया. मगर पिछले दो महीनों में पिटाई से घायल लोग आ रहे हैं.''

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने विभिन्न साक्षात्कारों में यह कहा है कि अगर कोई भी 'प्रताडि़त शख्स' यातनाएं देने का आरोप लेकर आगे आता है, तो वे 'खुद उसकी पूरी जांच का आदेश' देंगे. लेकिन, उन्होंने यह भी कहा कि ''मगर मैं यकीन के साथ कह सकता हूं कि ऐसी कोई कार्रवाई नहीं हुई है.'' पुलवामा पुलिस सेना के हाथों यातनाएं दिए जाने के एक आरोप की जांच कर रही है. चांदगाम के 15 साल के यावर अहमद भट ने 17 सितंबर को जहर पी लिया था. उसके दो दिन बाद अस्पताल में उसकी मौत हो गई. उसके परिवार का कहना है कि भट के जहर पीने के एक दिन पहले जवानों ने हिरासत में लेकर उसकी पिटाई की थी.

भट के वालिद कहते हैं, ''पिछले साल उसने स्कूल छोड़ दिया था. उसके साथ-साथ उसी की क्लास में पढऩे वाला उसका कजि़न पेलेट गन से घायल हुआ था. वह एक ऑटो वर्कशॉप में काम कर रहा था, मगर इस साल दोनों इम्तिहान में बैठने वाले थे.'' भट के परिवार का कहना है कि 'चुपचाप' चल रही उसकी वर्कशॉप में एक कार का काम हो रहा था जिसके लिए वह पेंट लेने जा रहा था, तभी रास्ते में सिपाहियों ने उसे पकड़ लिया, क्योंकि कारोबारी दफ्तर और दुकानें 5 अगस्त को अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही बंद थीं. भट को मारा-पीटा गया, उसका पहचान पत्र ले लिया गया और अगली सुबह नजदीकी कैंप में आने के लिए कहा गया. उसके वालिद कहते हैं कि वह डर गया कि कैंप में उसके साथ क्या होगा और इसी डर से उसने खुदकुशी कर ली. पुलिस अधीक्षक चंदन कोहली कहते हैं कि भट की खुदकुशी के मामले की जांच अभी शुरुआती दौर में है, मगर सेना ने परिवार के दावों को पहले ही 'बेबुनियाद' बता दिया है.

तथ्यों का पता लगाने वाली महिलाओं की टीम ने अपनी रिपोर्ट जारी करने के बाद यातनाओं के आरोपों की जांच की मांग की. मगर भट के वालिद पूरी तरह मायूस हैं. वे कहते हैं, ''मैं इस 'जांच' की खातिर ऑटोप्सी के लिए अपने बेटे की लाश को कब्र से नहीं निकालने दूंगा. मैं जानता हूं, इंसाफ तो होना नहीं है.''

इंसाफ की बात करें, तो सुप्रीम कोर्ट ने अनुच्छेद 370 को हटाने के फैसले की संवैधानिकता को लेकर दायर की गई याचिकाओं के जवाब में हलफनामा दाखिल करने के लिए सरकार को चार हफ्तों का वक्त दे दिया है. अदालत में 14 नवंबर से सुनवाई शुरू होगी. उसके दो-एक हक्रतों बाद जम्मू और कश्मीर में ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल के चुनाव करवाए जाएंगे. ये चुनाव पार्टी लाइन पर होंगे, बावजूद इसके कि मुख्यधारा के सैकड़ों कश्मीरी राजनीतिक अब भी गिरफ्तार या नजरबंद हैं. यह सब क्या 'सामान्य हालात' के अफसाने का हिस्सा है?

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें