scorecardresearch
 

ताकतवर-रसूखदारः खनिज खजाने के धनी

खनिज से लेकर पेट्रोलियम और पावर तक फैला है कारोबार. तूतीकोरिन और सिलवासा में तांबे के कारखाने, राजस्थान में जस्ता और तेल के ब्लॉक्स, छत्तीसगढ़ में बॉक्साइट के कारखाने के साथ देश के हर कोने में उनके कारोबार का डंका बजता है.

अनिल अग्रवाल अनिल अग्रवाल

अनिल अग्रवाल

65 वर्ष संस्थापक और चेयरमैन वेदांता रिसोर्सेज लिमिटेड

क्योंकि पटना में पैदा हुए अग्रवाल छोटी-सी शुरुआत से पहुंचे ऊंचाई तक. स्क्रैप मेटल ट्रेडिंग से व्यवसाय शुरू करके भारत के सबसे धनी उद्योगपतियों में शामिल. मुश्किल में फंसी कंपनी को खरीदकर उभारने में महारत हासिल

क्योंकि खनिज से लेकर पेट्रोलियम और पावर तक फैला है कारोबार. तूतीकोरिन और सिलवासा में तांबे के कारखाने, राजस्थान में जस्ता और तेल के ब्लॉक्स, छत्तीसगढ़ में बॉक्साइट के कारखाने के साथ देश के हर कोने में उनके कारोबार का डंका बजता है

क्योंकि देश में लगाई पहली निजी कॉपर स्मेल्टर और रिफाइनिंग. वेदांता रिसोर्सेज पीएलसी थी पहली भारतीय कंपनी जो लंदन स्टॉक एक्सचेंज में हुई सूचीबद्ध

क्योंकि स्टार्ट-अप को सहयोग देने के लिए 1 अरब डॉलर के वेंचर कैपिटल फंड की शुरुआत की योजना.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें