scorecardresearch
 

मिशन बंगाल का गणित

बाकी देश में सीटों के संभावित नुक्सान की भरपाई के लिए भाजपा की नजर बंगाल पर भी, उम्मीदें मुस्लिम वोटों के बिखराव और हिंदू ध्रुवीकरण पर

शाह या मात?-पश्चिम बंगाल के मालदा में 22 जनवरी को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की रैली शाह या मात?-पश्चिम बंगाल के मालदा में 22 जनवरी को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की रैली

सियासत गुंजाइश से शुरू होती है. 22 जनवरी को जब पश्चिम बंगाल के मालदा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की रैली में ठीक-ठाक भीड़ जुट गई तो यह शायद उसी गुंजाइश की खोज थी कि भगवा पार्टी देश के मध्य और पश्चिमी इलाकों से होने वाले सीटों के संभावित नुक्सान की भरपाई नई जमीन से करना चाहती है. इस रैली की अहमियत को इसी बात से समझा जा सकता है कि मालदा पहुंचे शाह बुखार से तप रहे थे पर रैली स्थगित नहीं की गई.

इसी सभा में भाजपा नेता राहुल सिन्हा ने चीखकर कहाः लॅड़ाई सॅरासॅरी बीजेपी बनाम तृणमूले...जइखेने पद्म फूल ऐसे छे, ओइखेने छोटो-छोटो घासेर फूलेर की दॅरकार? (लड़ाई सीधे-सीधे भाजपा बनाम तृणमूल की है...जहां कमल का फूल आ चुका है, वहां अब छोटे-छोटे घास (तृण) के फूलों की क्या दरकार?) भाजपा यही चाहती भी है. वह पश्चिम बंगाल में चुनावी लड़ाई को सीधे-सीधे भाजपा बनाम तृणमूल करना चाहती है और उसकी नजर उन स्विंग वोटों पर है जो पिछले चुनावों तक कम्युनिस्टों के पाले में थे और अमूमन ममता विरोधी वोट हैं.

भाजपा को आशंका है कि राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में उसे आधी सीटों का नुक्सान हो सकता है. लिहाजा, पार्टी ने इसकी भरपाई के लिए मिशन 123 शुरू किया है. यह अभियान उन 123 लोकसभा सीटों में से अधिकतम पर जीत हासिल करने का है जिन्हें प्रचंड मोदी लहर के बावजूद पार्टी 2014 में जीत नहीं पाई थी.

पिछले साल ही, भाजपा ने इन 123 सीटों को 25 समूहों में बांटकर इनके प्रभारी नियुक्त कर दिए थे. अब, जब चुनाव बिल्कुल सिर पर हैं, पार्टी ने बूथ स्तर पर ध्यान केंद्रित कर दिया है. यह नरेंद्र मोदी-शाह की ऐसी रणनीति है जिसने पिछले साढ़े चार साल में तकरीबन सभी विधानसभा चुनावों में अच्छे नतीजे दिए हैं. इन 123 संभावनाशील संसदीय सीटों में से 77 तो सिर्फ पश्चिम बंगाल, असम और ओडिशा में हैं. इनमें से 2014 में भाजपा सिर्फ 10 पर जीत हासिल कर पाई थी.

पश्चिम बंगाल भाजपा को अगर बहुत उर्वर जमीन मालूम पड़ रही है तो यह महज खामखयाली नहीं है. पिछले पंचायत चुनाव में भगवा पार्टी ने सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस के दबदबे के बावजूद अच्छे नतीजे हासिल किए और वाम मोर्चे को पीछे छोड़कर दूसरे पायदान पर आ गई. अब भाजपा के रणनीतिकारों की नजर लगभग 22 सीटों पर है.

मौजूदा लोकसभा में पश्चिम बंगाल से भाजपा के पास महज दो सीटें—आसनसोल और दार्जिलिंग—ही हैं. पर ताजा रणनीति के तहत भाजपा का मुख्य रणक्षेत्र सूबे का जंगल महल इलाका है. भाजपा पिछले कुछ समय से इस क्षेत्र में काफी सक्रिय है. शाह ने छह महीने पहले ही, 28 जून को पुरुलिया जिले में पार्टी नेताओं के साथ बैठक करके इरादे जता दिए थे. साथ ही, प्रधानमंत्री  मोदी ने भी मिदनापुर में 'कृषि कल्याण समावेश' रैली की थी.

संकेत स्पष्ट हैं. वैसे, पुरुलिया, बांकुड़ा और पश्चिम मिदनापुर जिलों में फैला जंगल महल एक दौर में माओवादियों का मजबूत गढ़ था और यहां छह लोकसभा सीटें हैं.

इस इलाके से भाजपा के लिए हाल में अच्छी खबरें ही आई हैं. हालिया पंचायत चुनाव में तृणमूल कांग्रेस के मूल वोट बैंक आदिवासियों के समर्थन में बदलाव दिखा है, जिससे तृणमूल ने तीन जिलों में कम से कम 34 फीसद पंचायत सीटें खो दी हैं.

जंगल महल में कई सफल सरकारी योजनाओं के बावजूद तृणमूल झाडग़्राम के कुछ आदिवासी पंचायत क्षेत्रों में नामांकन दाखिल नहीं कर सकी और भाजपा को बढ़त लेने से रोक नहीं पाई. तृणमूल के सूत्र बताते हैं कि जंगल महल इलाके में सभी ताकतें ममता के खिलाफ एकजुट हो गई हैं. इन जिलों में इन ताकतों ने भाजपा को गुप्त समर्थन दिया और पार्टी ने पुरुलिया जिले की एक-तिहाई ग्राम पंचायतों में जीत हासिल की तथा झाडग़्राम जिले में तकरीबन आधी सीटें भी जीत लीं.

इसलिए, भाजपा का सारा ध्यान बालुरघाट, कूचबिहार, अलीपुर दुआर, जलपाईगुड़ी, मालदा उत्तर, पुरुलिया, झाडग़्राम, मेदिनीपुर, कृष्णानगर और हावड़ा जैसी उत्तरी बंगाल और जंगल महल के जनजातीय वर्चस्व वाले सीटों पर है. पर भाजपा का मिशन बंगाल इतना आसान भी नहीं रहने वाला. पिछले लोकसभा चुनाव में सूबे में भाजपा को दो लोकसभा सीटें हासिल हुई थीं और 16.8 फीसदी वोट मिले थे. लेकिन 2016 के विधानसभा चुनाव में भाजपा का वोट शेयर गिरकर 10.2 फीसद हो गया. असल में, भाजपा के गणित के दूसरे पहलू भी हैं. 2014 में भाजपा तीन लोकसभा सीटों पर दूसरे नंबर पर रही थी.

पिछली दफा भाजपा पहाड़ी इलाकों में गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के साथ गठबंधन में थी और इसकी वजह से दार्जिलिंग सीट उसके खाते में आई थी. पर इस बार दार्जिलिंग सीट की राह भी आसान नहीं होगी. 2014 में इस सीट से तृणमूल कांग्रेस ने मशहूर फुटबॉल खिलाड़ी बाइचुंग भूटिया को भाजपा के एस.एस. अहलूवालिया के खिलाफ उतारा था. जीजेएम की मदद और मोदी लहर के वेग से भाजपा इस चुनौती को पार कर गई थी. पर इस बार जीजेएम-भाजपा गठजोड़ टूट चुका है. ऐसे में मौजूदा सीट पर भी खतरा मंडरा रहा है.

2014 में भाजपा जिन तीन लोससभा सीटों पर दूसरे स्थान पर रही थी उनमें से दो कोलकाता के शहरी क्षेत्र में पड़ती हैं. भाजपा की चिंता है कि कोलकाता ममता का अपना इलाका है. भाजपा के दूसरे पायदान वाली तीसरी सीट मालदा दक्षिण सीट थी, जहां मुस्लिम आबादी कुल आबादी के आधे से अधिक है. पिछले विधानसभा चुनावों में जिन सात विधानसभा सीटों में भाजपा दूसरे स्थान पर रही थी, उनमें अधिकतर छितराई हुई हैं.

भाजपा चुनावी वैतरणी पार करने के लिए सूबे में कुछ स्वीकार्य चेहरों की तलाश में है. कद्दावर तृणमूल कांग्रेस नेता मुकुल रॉय पहले ही भाजपा में शामिल हो चुके हैं और सौमित्र खान के आने के बाद भाजपा अब सिर्फ रूपा गांगुली और लॉकेट चटर्जी जैसे चेहरों पर निर्भर नहीं है. पश्चिम बंगाल भाजपा के राहुल सिन्हा और दिलीप घोष जैसे जमीनी नेता संघर्ष तो कर रहे हैं पर उनका जनाधार अधिक व्यापक नहीं है. ऐसे में, पार्टी कुछ लोकप्रिय और मशहूर प्रत्याशियों की खोज में है. खान के भाजपा में आने के बाद अभिनेत्री मौसमी चटर्जी भी हाल ही में भाजपा में शामिल हो चुकी हैं. भाजपा सूत्रों का कहना है कि तृणमूल के कम से कम छह सांसद उनके संपर्क में हैं. इनमें से अधिकतर रॉय के करीबी माने जाते हैं.

पश्चिम बंगाल के चुनावों में मुस्लिम वोट बेहद फैसलाकुन साबित होते हैं. असल में, वाम का किला ढहने के पीछे की कई वजहों में एक मुस्लिम वोटों का पाला बदलकर ममता के पीछे आ खड़ा होना भी था. पर उत्तर बंगाल में अधीर रंजन चौधरी और दिवंगत एबीए गनी खान चौधरी के परिवार की सशक्त मौजूदगी की वजह से उस इलाके की कम से कम छह सीटों पर कांग्रेस मजबूत है और वहां का मुस्लिम वोटर कांग्रेस के पक्ष में है.

कांग्रेस ने 2014 में जिन चार सीटों पर जीत हासिल की थी, उनमें से सारी उत्तर बंगाल में हैं. मालदा, मुर्शिदाबाद और उत्तरी दीनाजपुर में मुस्लिम आबादी बहुसंख्यक है जबकि दक्षिणी चौबीस परगना, उत्तरी चौबीस परगना, नादिया और वीरभूम जिलों में एक-चौथाई से अधिक आबादी मुसलमानों की है. सचाई है कि बंगाल में मुसलमानों का साथ चुनाव जिताऊ साबित हुआ है.

2006 तक मुस्लिमों का साथ वाम मोर्चे को हासिल था और उसकी जीत भी उतनी ही विशाल थी. लेकिन 2009 के लोकसभा चनावों से परिदृश्य बदलना शुरू हुआ, जब तृणमूल कांग्रेस-कांग्रेस गठबंधन ने करीब साठ फीसदी मुस्लिम बहुल सीटें जीतकर कुल 26 संसदीय सीटें हथिया लीं. ऐसा ही 2011 के विधानसभा चुनाव में भी हुआ. पर 2014 में तृणमूल का कांग्रेस के साथ गठजोड़ टूट गया फिर भी ममता मुसलमानों की पसंदीदा बनी रहीं. तृणमूल को 34 सीटें हासिल हुईं.

पिछले चार चुनावों में तृणमूल ने मुस्लिम बहुल 39 फीसदी सीटों पर जीत हासिल की है. हालांकि, इस बार भाजपा का दांव है कि वाम मोर्चा का जनाधार जिन स्थानों पर छीजा है वहां उसके वोट बैंक में सेंध लगाई जाए. सूबे में ऐसी 36 विधानसभा सीटें हैं जहां मुस्लिम आबादी अपेक्षाकृत कम है, वहां तृणमूल की बाकी पार्टियों पर बढ़त घटकर 12 फीसदी हो जाती है. यहीं वे सीटें हैं जहां हिंदू वोटों को ध्रुवीकृत करके भाजपा जीत के सपने संजो सकती है.

दूसरी तरफ, कम से कम 14 लोकसभा सीटें ऐसी हैं जहां मुस्लिम आबादी 40 फीसदी तक है. यहां वोट शेयर का अंतर (वाम मोर्चा बनाम कांग्रेस बनाम तृणमूल) 10 फीसदी के आसपास है. यहां भाजपा मुस्लिम वोटों में बहुकोणीय मुकाबले से होने वाले संभावित बंटवारे और हिंदू वोटों के ध्रुवीकरण पर उम्मीदें टिका रही है. अगर, यहां मुस्लिम वोटों में बिखराव हुआ तो भाजपा की बांछें खिल सकती हैं.

पार्टी राज्य में मुस्लिम वोटों की अहमियत को समझ रही है. इसलिए पंचायत चुनाव में पार्टी ने करीब 850 मुस्लिम प्रत्याशी उतारे थे और उनमें से करीब आधे लोग जीत भी गए थे. भाजपा की रणनीति है कि बंगाल में मुस्लिम वोटों को कहीं एकमुश्त न जाने दिया जाए और उसे बहुकोणीय मुकाबले में बांटकर हिंदू वोटों को एकजुट कर लिया जाए.

हिंदू वोटों को एकजुट करने के लिए ही भाजपा ने सूबे में रथयात्रा निकालने की योजना बनाई थी. तीन चरणों में होने वाली इस यात्रा के जरिए राज्य के 77,000 मतदान केंद्रों को छुआ जाता. पर राज्य सरकार ने यात्रा को मंजूरी न देकर पार्टी के मंसूबों पर पानी फेर दिया. 22 जनवरी को मालदा की रैली में शाह ने कहा, ''ममता दीदी को डर था कि हमारी रथयात्रा निकली तो राज्य में तृणमूल सरकार की अंतिम यात्रा निकल जाएगी.''

हिंदू वोटों को एकजुट करने के लिए शाह ही नहीं, मालदा में मंच से सभी नेताओं ने एक स्वर से बांग्लादेश से होने वाली घुसपैठ, वहां से शरणार्थी बने गैर-मुसलमानों की नागरिकता का मुद्दा उठाया. शाह ने तो साफ कहा, 'दुर्गा पूजा विसर्जन हमें यहां नहीं करने दिया जाएगा तो क्या विसर्जन पाकिस्तान जाकर किया जाएगा?'' दुर्गा पूजा विसर्जन वाले मामले पर सूबे में काफी हो-हल्ला मचा था और उसकी याद दिलाकर, जाहिर है, भाजपा हिंदुओं को भावुक करना चाह रही है.

भाजपा की बंगाल में चौतरफा रणनीति में से पहली है अलग-थलग पड़े वोटों को अपने पक्ष में करना. इसके लिए भाजपा अपने सितारा प्रचारकों को मैदान में उतार रही है. मोदी और शाह के अलावा, राजनाथ सिंह, योगी आदित्यनाथ और शिवराज सिंह चौहान अगले दो महीनों में सूबे की 32 सीटों पर 100 से अधिक सभाएं करने वाले हैं.

लोकसभा चुनाव तक पार्टी ने कुल 300 सभाओं की योजना बनाई है. प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष जयप्रकाश मजूमदार कहते हैं, ''मोदी जी इस बात की तरफ ध्यान दिलाएंगे कि कैसे इस तरह के (विपक्ष के) अवसरवादी गठबंधनों की वजह से सरकारें गिरती रही हैं और बार-बार चुनाव कराने पड़े.'' जाहिर है, भाजपा की कोशिश ममता विरोधी मतों को एक पाले में लाने की है.

भाजपा सूत्रों के मुताबिक, वाम मोर्चा ने जिन 34 लोकसभा सीटों पर दूसरे पायदान पर रहकर कम से कम 3 लाख वोट हासिल किए थे, उन पर ममता विरोधी वोटों को वह अपने पाले में कर लेगी. सूबे में अपनी पैठ को अधिक सशक्त करने के लिए भाजपा बंगाल के प्रतीक पुरुषों को अपने चुनावी अभियान का हिस्सा बना रही है. मालदा में जुटी भारी भीड़ के सामने शाह कहते हैं, ''ममता ने जब ब्रिगेड ग्राउंड की रैली की, तो किसी ने भारत माता की जय या वंदे मातरम् का नारा नहीं लगाया. इन्हें मोदी के अलावा अभी कुछ नहीं सूझ रहा है.''

यह महज संयोग नहीं था कि शाह की रैली में मंच पर सुभाषचंद्र बोस का बड़ा-सा कटआउट मौजूद था और शाह ने अपने भाषण में न सिर्फ नेताजी बोस, बल्कि स्वामी विवेकानंद, रवींद्रनाथ टैगोर, रामकृष्ण परमहंस, बंकिमचंद चट्टोपाध्याय , श्यामा प्रसाद मुखर्जी, बटुकेश्वर दत्त और सूर्यसेन का कई बार जिक्र किया. अब भाजपा चुनाव घोषित होने से पहले राज्य के विभिन्न हिस्सों में मोदी की चार रैलियों की तैयारी में है. इनमें से पहली 8 फरवरी को कोलकाता में होनी थी, लेकिन ममता की विशाल रैली के बाद इसे कुछ दिनों के लिए स्थगित कर दिया गया है. अब भाजपा अपनी रैली में भारी भीड़ दिखाने के लिए तैयारी करना चाहती है.

भाजपा अब ममता पर पूरी तरह हमलावर हो सकती है क्योंकि अब उसे जीएसटी पर समर्थन की आस में नरम रुख अपनाने की कोई मजबूरी नहीं है. भाजपा के आक्रामक रवैए से ममता भी काफी चौकन्नी हो चुकी हैं. उन्होंने तृणमूल के नेताओं को अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों में बने रहने के निर्देश जारी कर दिए हैं. ममता ने कहा, ''जब भी भाजपा झूठ फैलाए, आप तुरंत उसका विरोध करें.'' लेकिन शायद इतना ही काफी नहीं था. ममता ने दूसरे उपाय भी किए हैं.

2 फरवरी को उत्तरी 24 परगना के  ठाकुरनगर में होने वाली मोदी की रैली की जगह पहले से तृणमूल के नेता ने बुक करा ली. 29 जनवरी को पूर्वी मिदनापुर में शाह की रैली एक भाजपा समर्थक के खेत में होनी थी. पर कथित रूप से तृणमूल के उकसाने पर पड़ोसी किसान ने पुलिस में अपने खेत खराब होने की आशंका की रपट लिखा दी. इससे शाह की रैली पर 28 जनवरी की रात तक आशंकाएं छाई रहीं.

23 जनवरी को केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को वीरभूम के सूरी में अपनी रैली रद्द करनी पड़ी क्योंकि ममता प्रशासन ने सरकारी हेलीपैड पर उनका हेलिकॉप्टर उतारने की अनुमति नहीं दी. भाजपा को, जाहिर है, इसमें साजिश नजर आ रही है. प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष कहते हैं, ''सरकार ने 22 जनवरी की शाह की रैली में भी यही गंदी राजनीति की.'' इन कदमों में ममता की बेचैनी झलकती है. भाजपा जिस तरह सूबे में पैर पसार रही है उससे यह बेचैनी लाजिमी भी है.  

—साथ में रोमिता दत्ता      

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें