scorecardresearch
 

जंगल को बचाने में जुटी एक महिला

दुर्लभ पेड़ों और पक्षियों के घर अपने जंगल को बचाने के लिए बिल्डरों से जूझ रही नयना नरगोलकर.

नयना को पेड़ों से प्यार करने की प्रेरणा अपने पति मैकेनिकल इंजीनियर प्रमोद से मिली. उनके पति तन-मन-धन से प्रकृतिप्रेमी थे जिन्होंने एक करोड़ रु. खर्च कर पुणे से 23 किमी दूर गोरहे खुर्द नामक जगह पर 15 एकड़ में निजी वन लगाया. उन्होंने 15 साल तक देश के कोने-कोने में घूमकर, यहां तक कि अफ्रीका जाकर भी दुर्लभ प्रजातियों के पौधों के बीज जुटाए.

लेकिन प्रमोद 26 दिसंबर, 2004 को दक्षिण-पूर्व एशिया में आई एक बड़ी त्रासदी सूनामी का शिकार हो गए. उस दौरान वे दुर्लभ पौधों की प्रजातियों की खोज में अंडमान गए हुए थे. 60 साल की उम्र में अपने सहारे को खोकर भी नयना ने जीवन का लक्ष्य अपने जीवनसाथी के सपनों की योजना को जिंदा रखने को बनाया. नयना के जंगल में पेड़ों की 450 और पक्षियों की 90 प्रजातियां पाई जाती हैं. लेकिन अब इस जंगल पर खतरा मंडरा रहा है.

नयना को उन बदमाशों से जूझना पड़ रहा है जो चोरी-छिपे दुर्लभ पेड़ों को काट ले जाते हैं. नयना बताती हैं कि वे ऐसा वहां से उन्हें भगाने के लिए कर रहे हैं ताकि उस जमीन को कॉमर्शियल रियल एस्टेट के रूप में डेवलप किया जा सके. इसका कारण इस इलाके में जमीन की कीमतें बढऩा है. खदवासला बांध के करीब जमीन की कीमत एक करोड़ रु. प्रति एकड़ तक पहुंच गई है.

प्रमोद पुणे के निकट बजाज ऑटो के वाहनों के लिए स्पेयर पार्ट्स बनाने की एक फैक्ट्री चलाते थे. खाली समय में पेड़ों और फोटोग्राफी के अपने जुनून के कारण वे देशभर के जंगलों में गए. नयना बताती हैं, ''दुर्लभ पौधों की खोज में वे मुझे भी अपने साथ ले गए जबकि हम दोनों में से किसी ने भी बॉटनी नहीं पढ़ी थी. यह हमारा जुनून था.'' प्रमोद ने गोरहे खुर्द की जमीन 1989 और 1996 के बीच खरीदी थी और इकट्ठा किए गए बीजों को बोने से जंगल लगाने की शुरुआत की.

उन्होंने पेड़ों के पास पानी के टैंक बनवाए और पक्षियों को रिझने के लिए दाने डाल दिए. नतीजे अच्छे निकले. जंगल जल्द ही बर्ड सेंक्चुएरी में बदल गया. आज नयना तीन बोरवेल की मदद से पौधों को पानी देती हैं, पक्षियों के लिए पानी के गड्ढों के चारों ओर एक दीवार बनवाने का इरादा रखती हैं और वन के रख-रखाव पर 20,000 रु. प्रति माह खर्च करती हैं.

नयना कहती हैं, ''सूनामी ने मेरी जिंदगी बदल दी. यह एक अलग ही तरह का टूर था जब मुझे साथ ले जाने की बजाए प्रमोद अपने रिसर्चर दोस्तों को साथ ले गए. वे सब लापता हो गए. हमने सभी अस्पतालों, मुर्दाघरों और पागलखानों में उनकी खोज की लेकिन कुछ हाथ नहीं लगा.''

अगले चार महीनों में नयना के साहस की परीक्षा हुई. उन्हें अपने स्कूल में पढऩे वाले बच्चों अश्लेशा और अमोल के साथ-साथ पेड़ों और पक्षियों का भी ख्याल रखना पड़ा. इस दौरान अपने परिवार का ध्यान रखने के कारण वे जंगल की सुध लेने का समय नहीं निकाल पाईं. फिर एक दिन उन्होंने इस जंगल को देखने की हिम्मत जुटा ही ली.

वे बताती हैं, ''प्रमोद कहते थे कि वे पेड़ उनसे बात करते हैं. मुझे कभी यकीन नहीं हुआ था. लेकिन उस दिन अचानक दो मिनट तक खूब शोर करने के बाद पक्षी एकदम खामोश हो गए. ऐसा लगा मानो पूछ रहे हों कि उनका रखवाला कहां है और मैंने स्वयं को उस जंगल के लिए समर्पित कर दिया.'' पेड़ों और जीवों के बारे में नॉलेज बढ़ाने के लिए उन्होंने पुणे यूनिवर्सिटी से बॉटनी में तीन माह का कोर्स किया. फिर छात्रों और रिसर्चरों के लिए जंगल की विजिट का आयोजन किया. फिलॉसफी की स्टुडेंट प्राजक्ता पठारे ने इस पर एमफिल की.

मई, 2012 में उन्होंने देखा कि रुद्राक्ष के दुर्लभ पेड़ की शाखाएं कटी हुई थीं. कुछ दिनों बाद वहां पहचान के लिए एक बोर्ड लगा दिया. उन्होंने पाया कि अर्जुन के पेड़, जिसकी छाल सर्दी भगाने के लिए काम में लाई जाती है उसे भी काट दिया गया था. दूसरी जगह नीलगिरी के पेड़ों पर एसिड छिड़क दिया था.

अचानक उनके पड़ोसियों ने उस जमीन पर यह कह कर दावा करना शुरू कर दिया कि यह उनकी संपत्ति है. वे बताती हैं, ''मेरे पास जमीन के कागजात हैं जो साबित करते हैं कि यह हमारी जमीन है और पुणे की सिविल अदालत में अपने पड़ोसियों के दावों के खिलाफ मुकदमा भी दायर किया है. वे मुझे डरा रहे हैं पर मैं हार नहीं मानूंगी.''

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें