scorecardresearch
 

सोनिया का व्यवहार मेरे लिए कटु हो गया था: नटवर सिंह

"वोल्कर रिपोर्ट में मेरा नाम आने के बाद मेरे साथ सोनिया का व्यवहार बेहद कटु और तीखा हो गया था. इससे मुझे बड़ी तकलीफ पहुंची."

वोल्कर रिपोर्ट में मेरा नाम आने के बाद मेरे साथ सोनिया का व्यवहार बेहद कटु और तीखा हो गया था. इससे मुझे बड़ी तकलीफ पहुंची. इस रिपोर्ट के सार्वजनिक होने के पखवाड़े भर बाद 8 नवंबर, 2005 को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मुझसे कहा कि उन्होंने और कांग्रेस अध्यक्ष ने तय किया है कि मुझसे विदेश मंत्रालय का प्रभार वापस ले लिया जाए और मुझे बिना विभाग का मंत्री बना रहने दिया जाए. इस बीच किसी सिफारिश के लिए मेरे आगे-पीछे रहने वाले नेता भी मुझसे बचने-बचाने लगे. 6 दिसंबर को मैंने इस्तीफा दे दिया. मनमोहन सिंह विनम्र लेकिन बिना रीढ़ के आदमी हैं, जो अपने सहकर्मियों के साथ कभी मजबूती से खड़े नहीं होते. उन्होंने मुझसे कहा कि मैं सोनिया से मुलाकात करूं. लेकिन मैंने साफ मना कर दिया. जहां आत्मसम्मान की बात आ जाती है, वहां किसी भी तरह के समझौते की गुंजाइश नहीं बचती.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें