scorecardresearch
 
डाउनलोड करें इंडिया टुडे हिंदी मैगजीन का लेटेस्ट इशू सिर्फ 25/- रुपये में

शख्सियतः हिंदुस्तान की कहानी

बहुत कुछ उनकी फिल्मों की तरह जबरदस्त है राकेश ओमप्रकाश मेहरा की हाल ही में प्रकाशित आत्मकथा द स्ट्रैंजर इन द मिरर.

राकेश ओमप्रकाश मेहरा राकेश ओमप्रकाश मेहरा

बहुत कुछ उनकी फिल्मों की तरह जबरदस्त है राकेश ओमप्रकाश मेहरा की हाल ही में प्रकाशित आत्मकथा द स्ट्रैंजर इन द मिरर.

 अपनी किताब में आपने कहानियां बयान की हैं कि किस तरह अमिताभ बच्चन, आमिर खान, गुलजार, हर कोई आपके साथ काम करने को तुरंत राजी हो गए. इसकी क्या वजह थी, आपकी शख्सियत या आपकी प्रतिभा?

ये सब कामयाब शख्सियतें हैं, जिन्होंने लाखों लोगों को प्रेरित किया. उनमें से हरेक सिनेमा से प्रेम करता है. मुझे लगता है, उन्होंने मुझमें कुछ ऐसा देखा जो सिनेमा के लिए कुछ करना चाहता था तो उन्होंने मुझे तवज्जो दी, मुझे मौका दिया. मैं भूखा था जब सालों पहले मैं गुलजार भाई के दप्तर गया, जब मैं अमित जी से मिला और उन्हें अक्स की पेशकश की या जब मैंने आमिर खान को रंग दे बसंती के लिए टेक्स्ट भेजा. वह भूख वक्त के साथ कई गुना बढ़ी है.

  यह कहना सही होगा कि रंग दे बसंती ने 21वीं सदी के भारत को विरोध का एक सांचा दिया? इसे बनाने के 16 साल बाद देशभक्ति का आपका विचार बदला है?

आरडीबी एक ट्रिगर, कैटेलिस्ट, एक तार था जिसके जरिए बिजली दौड़ती थी. सांचा कहना तो ऊंची बात हो सकती है. सही वक्त पर रिलीज करने के लिए वह सही फिल्म थी. फिल्म ने आपको अपने हाथ काले करके राष्ट्र निर्माण में हिस्सेदार बनने को प्रोत्साहित किया. सोलह साल बाद मुझे लगता है कि हमारी देशभक्ति में इंसानियत और कायनात भी होनी चाहिए. भारत राष्ट्र के तौर पर अकेला नहीं चमक सकता. हम अब ग्लोबल सिटिजन हैं.

  आरडीबी और दिल्ली-6 में कई प्रमुख किरदार थे. भाग मिल्खा भाग और तूफान व्यक्तियों के बारे में हैं. बहुत सारे प्रमुख किरदारों वाली फिल्मों से एक हीरो वाली फिल्मों का यह सफर कैसे तय किया?

जैसे-जैसे आप बड़े होते जाते हैं, आपको एहसास होता है कि एक दूसरे से, समाज से और कायनात से जुड़ने की जरूरत है. मगर आपको जिम्मेदार शख्स भी होना होता है. मसलन, भाग मिल्खा भाग को लीजिए, इसमें भारत का जन्म भी हुआ और विभाजन भी. दूसरे ढंग से कहें, तो हीरो का सफर देश का सफर बन जाता है.

  तूफान गिरकर फिर उठने की कहानी है. आपकी किताब से इशारा मिलता है कि आपकी कहानी भी...

बॉक्सिंग मेरे लिए हमेशा रूपक रही है. जिंदगी की तरह यह आपको मारकर गिरा देती है, फिर बार-बार उठ खड़े होने और पूरी ताकत से वापस आने के लिए मजबूर करती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×