scorecardresearch
 

सिनेमाः संतुलन के साथ

पिछले तीन महीने में अपनी ताजा तीन फिल्में ऑनलाइन रिलीज होते देखने वाले नवाजुद्दीन सिद्दीकी सिनेमा में 20 साल पूरे करने और यह उद्योग महज स्टार्स का न होने पर.

नवाजुद्दीन सिद्दीकी नवाजुद्दीन सिद्दीकी

• क्या आप मानते हैं कि इससे पहले इतने दिन तक शूटिंग के बगैर कभी नहीं बैठना पड़ा आपको?
मुझे शुरू से पता था कि एक दौर ऐसा आएगा जब मेरे पास करने को बहुत कुछ नहीं होगा. बदकिस्मती से वह दिन महामारी की शक्ल में आया. लॉकडाउन के दौरान मैंने अपने गांव बुढ़ाना (मुजफ्फरनगर, उत्तर प्रदेश) में खेती-किसानी की और करीब 250 फिल्में देखीं, जिनमें डेंजेल वाशिंगटन, डेनियल डे लेविस और एंथनी हॉपकिंस सरीखे मेरे पसंदीदा अभिनेताओं की भी फिल्में थीं. मुझे लगता है, मेरे अभिनय शिल्प में अब बदलाव आ रहा है.

• पिछले साल सिनेमा में आपने 20 साल पूरे कर लिए. अभी तक के अपने सफर को किस तरह से देखते हैं?
मुझे खुशी है कि मैं काम कर रहा हूं और करते रहना चाहता हूं. फिल्म कभी कामयाब होती, कभी नहीं. अब यह मेरे कंट्रोल में तो है नहीं. मैं तो अलग-अलग तरह के किरदारों को जीने का मजा ले रहा हूं. इस प्रक्रिया में आने वाली चुनौतियां ही मुझे इन किरदारों की ओर खींचती हैं.

• सहयोगी भूमिकाएं न करके अब मुख्य भूमिका में उतरकर फिल्म को अपने कंधे पर ले चलने की कोशिश क्या सोची-समझी है?
ऐसी कोई मंशा नहीं है मेरी. कभी-कभी आप कमर्शियल फिल्में करते हैं जिससे कि संतुलन बना रहे और आप एक बड़े दर्शक वर्ग तक पहुंच पाएं. मुझे मंटो और फोटोग्राफ जैसी फिल्में करना पसंद हैं पर मैं ऐसी फिल्में भी करूंगा, जिसमें आपको ज्यादा मगजपच्ची करने की जरूरत न पड़े.

• फिल्म इंडस्ट्री पर इन दिनों काफी हमले हो रहे हैं.
यह बहुत अफसोसनाक है. इस इंडस्ट्री में सिर्फ स्टार ही नहीं हैं. लाखों लोग इसमें काम करते हैं और इसी से उनका गुजर होता है. आप इंडस्ट्री पर हमला करेंगे तो सारा धंधा धराशाई हो जाएगा. कितनों को इसने मौके दिए हैं. कुछ के सपने साकार हो गए. कल का आउटसाइडर यहां आज का इनसाइडर बन सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें