scorecardresearch
 

निहालचंद मेघवाल: अकेले युवराज पर उम्मीदों का भार

चौथी बार सांसद चुने गए और केंद्र में राजस्थान के इकलौते मंत्री के तौर पर क्या निहालचंद मेघवाल राज्य की उम्मीदों पर खरे उतरेंगे?

नई दिल्ली में 28 मई को मंत्री की कुर्सी संभालने के बाद निहालचंद मेघवाल मीडिया को इंटरव्यू देने में व्यस्त थे, तो मंत्रालय का एक अधिकारी उनके एक सहयोगी नेता के पास जाकर फुसफुसाया, ''मंत्री जी को बता दीजिए, सोच-समझकर ही जवाब देना है. उनकी छोटी-सी बात भी काफी असर कर सकती है. '' इसका मतलब चाहे कुछ भी निकालिए, लेकिन पहली बार सांसद बनने के बाद 'टाबर' कहे गए निहालचंद अब इतने बड़े हो गए हैं कि दिग्गजों को भी उनसे जलन हो सकती है. उन्हें रसायन और उर्वरक राज्यमंत्री बनाया गया है और वे मोदी कैबिनेट में राजस्थान के एकमात्र प्रतिनिधि हैं, जबकि इसके लिए मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के पुत्र दुष्यंत समेत कई दिग्गज उम्मीद लगाए बैठे थे.

सिर्फ 43 साल की उम्र में निहालचंद लगातार छठी बार लोकसभा चुनाव लड़े और चौथी बार सांसद बने हैं. इस आंकड़े के लिहाज से वे सूबे के सबसे अनुभवी सांसदों में हैं, लेकिन सियासी कद के तौर पर कई लोग उन्हें परिपक्व नेता नहीं मानते. यही वजह है कि मंत्री पद की शपथ लेने वालों में उनका नाम आना चौंकाने वाला था. वैसे यह तय माना जा रहा था कि इस बार केंद्रीय मंत्रिमंडल में बीकानेर संभाग से निहालचंद या अर्जुन मेघवाल में कम-से-कम एक जरूर होगा. ऐन मौके पर निहालचंद बाजी मार ले गए. अर्जुन को आरएसएस का माना जाता है, तो कहा जा रहा है कि निहालचंद की पैरवी बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने की. खबर यह भी आई थी कि उनका नाम अचानक 26 मई की शाम को जोड़ा गया, जब राजे समेत प्रदेश के बीजेपी सांसदों ने प्रतिनिधित्व न मिलने से नाराज होकर शपथ ग्रहण समारोह के बहिष्कार तक की चेतावनी दे डाली थी. लेकिन इंडिया टुडे  को उस दिन दोपहर में ही निहालचंद के एक सहयोगी ने दिल्ली से बता दिया था कि ''मोदी जी के यहां से शाम को उनके शपथ लेने का बुलावा आ गया है. ''

निहालचंद ने इस बार कांग्रेस के दिग्गज भंवरलाल मेघवाल को 2,91,000 से ज्यादा वोटों से हराया है. वह भी तब, जब पार्टी में उन्हें नापसंद करने वालों की संख्या ज्यादा थी और आम मतदाता भी उनके प्रति उदासीन लग रहा था. लगता है सियासत की घुट्टी उन्हें बचपन में ही पिला दी गई थी. रायसिंहनगर के पास बाजूवाला की एक ढाणी में जन्मे निहालचंद के पिता बेगाराम चौहान एक बार विधायक और दो बार सांसद रहे थे. बेगाराम की मृत्यु के बाद राजनैतिक विरासत बड़े बेटे रामस्वरूप ने संभाली और विधायक चुने गए. उसी दौर में निहालचंद ने राजनैतिक पारी शुरू की और सड़क हादसे में रामस्वरूप की मौत से एक हफ्ते पहले सिर्फ 24 वर्ष की उम्र में पंचायत समिति के प्रधान बने. अगले वर्ष 1996 में 11वीं लोकसभा के चुनाव में गंगानगर से जीतकर उन्होंने देश में सबसे कम उम्र के सांसद होने का गौरव हासिल किया. उसके बाद से तो हर लोकसभा चुनाव में उन्हें बीजेपी ने अपना प्रत्याशी बनाया है.

12वीं लोकसभा के चुनाव में वे कांग्रेस के शंकर पन्नू से हार गए, तो 13वीं लोकसभा के चुनाव में उन्होंने पन्नू को हरा दिया. अगले चुनाव में वे कांग्रेस के भरतराम मेघवाल को कम अंतर से हरा पाए, पिछला चुनाव भरतराम से ही 1,40,000 वोटों से हार गए. इस बार उनकी नैया पार लगाने में मोदी लहर खासी काम आई, वरना मुकाबला उतना आसान नहीं था.

निहालचंद ने पार्टी में कई दफे बगावती रुख अपनाया, लेकिन वे हमेशा 'किस्मत के धनी' साबित हुए. 1998 में पार्टी ने उन्हें रायसिंहनगर विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाया था और चुनाव अधिकारी ने उन्हेें पार्टी का चुनाव चिन्ह 'कमल' आवंटित भी कर दिया. पर नाटकीय घटनाक्रम में पार्टी ने यह सीट समझौते के तहत हरियाणा राष्ट्रीय लोकदल को दे दी और उन्हें मैदान से हटने को कहा. इनकार करने पर उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया, पर वे डटे रहे और चुनाव जीत भी गए. उन्होंने 2013 के विधानसभा चुनाव में भी बागी तेवर दिखाया. पार्टी ने रायसिंहनगर से उनके दावे को खारिज कर बलवीर लूथरा को उम्मीदवार बनाया, तो उन्होंने अपने भाई को निर्दलीय लड़ाने का ऐलान कर दिया. पार्टी के दिग्गज नेता देवीसिंह भाटी और बाकियों के समझाने पर वे माने. तब कहा गया था कि भाटी ने उन्हें निकट भविष्य में 'बड़ी जिम्मेदारी' देने का भरोसा दिया है.

निहालचंद का विवादों से भी पुराना नाता रहा है. वे पहली बार सांसद बने थे तो पार्टी के बड़े नेता सुरेंद्रपाल सिंह टीटी ने उनकी काबिलियत पर सवाल उठाते हुए उनके बारे में कहा था कि ''बच्चा है, इसलिए समझाने के बावजूद वह गलतियां करता रहता है. '' गंगानगर में सरकारी मेडिकल कॉलेज के लिए 210 करोड़ रु. का दान दे रहे उद्योगपति बी.डी.अग्रवाल ने तो कई बार कहा है कि पहली बार जब वे इसका प्रस्ताव लेकर निहालचंद के पास गए थे, तो उन्होंने उनसे 'हिस्सा' मांगा था. निहालचंद ने इसका खंडन तो किया, लेकिन कानूनी कार्रवाई करने की जरूरत नहीं समझी. पार्टी के एक बड़े दिवंगत नेता की बेनामी संपत्तियों को लेकर भी गाहे-बगाहे उनका नाम लिया जाता रहा है. सीपीएम नेता हेतराम बेनीवाल ने यहां तक कहा, ''उसी वजह से विधानसभा चुनाव में उनका टिकट कटा. फिर 'हिसाब' हो जाने के बाद लोकसभा चुनाव में टिकट मिला. '' हालांकि आरोपों को साबित करने के लिए अब तक कोई दस्तावेज सामने नहीं आए हैं.  

निहालचंद के लिए वह मुश्किल दौर था, जब एक युवती ने उनके समेत कुछ लोगों के खिलाफ अपहरण और बलात्कार के गंभीर आरोप लगाए थे. जयपुर सेशन कोर्ट के आदेश पर वैशालीनगर थाना में मुकदमा दर्ज हुआ. 2012 में कोर्ट ने पुलिस के क्लोजर रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया जिसमें कहा गया कि आरोप गलत हैं. युवती ने राजस्थान हाइकोर्ट में चुनौती दी. अप्रैल, 2014 में हाइकोर्ट ने क्लोजर रिपोर्ट पर पीडि़ता की आपत्तियों की जांच का आदेश लोअर कोर्ट को दिया. कोर्ट ने इस मामले में इसी 12 जून को निहालचंद को नोटिस भेजा है.

जहां तक जन-आंदोलनों में भागीदारी की बात है, तो वे सिर्फ एक बार गंभीर थे, जब पिछली गहलोत सरकार में गंगानगर के तत्कालीन पुलिस उप-अधीक्षक संजीव नैण को हटाने के लिए धरना दिया और नैण को हटा भी दिया गया. लेकिन उन्होंने खुद को अपने इलाके से बाहर ले जाने की कोशिश कभी नहीं की, तब भी नहीं जब उन्हें बीजेपी युवा मोर्चे का प्रदेशाध्यक्ष बनाया गया. आज भी उनकी गिनती सबसे निष्क्रिय प्रदेशाध्यक्षों में होती है. सांसद के तौर पर वे कई समितियों में रहे, लेकिन स्नातक तक पढ़े निहालचंद को उनके तीन कार्यकाल में संसद में सक्रिय नहीं देखा गया. एकाध उपलब्धियों को रहने दें तो उनके पास गिनाने को कुछ नहीं है. बीजेपी नेता शिव स्वामी कहते हैं, ''निहालचंद ने संगठन में काम नहीं किया, लेकिन चुनावी राजनीति में वे निपुण हैं. ऊपर तक संपर्क बनाना उन्हें आता है. तभी विरोध के बावजूद उन्होंने इस चुनाव में बड़े नेताओं और कार्यकर्ताओं को अपने साथ काम करने के लिए मना लिया.'' पांच वर्ष पहले उनके खिलाफ चुनाव लडऩे वाले पूर्व जिला प्रमुख सीताराम मौर्य जोर देते हैं, ''हमें इलाके का विकास चाहिए, अच्छे नतीजे आने चाहिए, तभी लगेगा कि हमारा सांसद केंद्र में मंत्री बना है. '' शिव स्वामी इससे इत्तेफाक रखते हैं, ''वे कितना काम करते हैं, यह भविष्य बताएगा. लेकिन इतना तय है कि काम करने पर ही उन्हें आगे अवसर मिलेंगे. ''

राज्यमंत्री के तौर पर निहालचंद से इलाके के लोगों को फौरी तौर पर उम्मीद है कि वे यहां खाद का बड़ा कारखाना खुलवाएंगे. साथ ही गंगानगर से लंबी दूरी की ट्रेन चलवाने, यात्रियों की सुविधाओं में इजाफा, अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तारंबदी में आई जमीन के मुआवजे, कृषि विश्वविद्यालय खुलवाने और पंजाब से नहरों में आ रहे दूषित पानी पर रोक जैसे कामों की अपेक्षाएं लोगों ने लगा रखी है. उन्होंने कारखाने की संभावनाएं तलाशने के लिए अधिकारियों का दल भेजने और अन्य मामलों में केंद्र, राज्य और पंजाब सरकार के स्तर पर बात करने का भरोसा दिया है. लेकिन फिलहाल उनके बयानों में वह परिपक्वता नहीं झलकती, जिसकी केंद्रीय मंत्री से अपेक्षा की जाती है. फिर भी उम्मीद की जा सकती है कि मोदी शासन में काम करने के दबाव में कुर्सी उन्हें 'सब कुछ' सिखा देगी. वे शायद सीखने भी लगे हैं. तभी चुनाव से पहले तक सोशल मीडिया से परहेज करने वाले निहालचंद ने अब लोगों से संवाद करने के लिए अपनी एक साइट बना ली है, जिस पर लोग उन्हें संदेश भेज सकते हैं क्योंकि मंत्री बनने के बाद उनके मोबाइल पर फोन अकसर लगता नहीं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें