scorecardresearch
 

बोल्ड ऐक्ट्रेस नीना गुप्ता ने फिर की दमदार वापसी लेकिन...

अभिनेत्री नीना गुप्ता ने कुछ समय पहले एक संदेश सोशल मीडिया पर डाला था. जिसमें उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री काम मांगा था. उसके बाद उन्होंने वीरे दी वेडिंग और मुल्क में काम मिला और उन्होंने इसमें अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभाई. लेकिन उन्हें इस बात का दुख है कि उन्हें सोशल मीडिया के जरिए अपनी मौजूदगी दर्ज करवानी पड़ी.

गेट्टी इमेजेज गेट्टी इमेजेज

अभिनेत्री नीना गुप्ता से नवीन कुमार की बातचीत पेश हैं खास अंशः

कभी- सोचती हूं कि मेरे अभिनय की सार्थकता क्या रही?'' पर पिछले दिनों रिलीज वीरे दि वेडिंग और मुल्क जैसी फिल्मों में लोगों ने नीना का काम पसंद किया. वैसे, नीना को किसी से शिकायत नहीं है. मगर वे कहती हैं कि पहले के जिस दौर में अच्छी फिल्मों के दर्शक नहीं थे तो क्या, अब वैसी ही फिल्मों के कद्रदान मिल रहे हैं.

सिनेमा और टेलीविजन में तीन दशक से ज्यादा काम करने के बाद नीना के करियर में  ऐसा भी दौर आया जब उन्हें अपनी बिरादरी को बताना पड़ा कि वे मुंबई में हैं और उन्हें काम चाहिए. हालांकि, नीना की जिंदगी का यह दौर खौफजदा था.

वे कहती हैं, "मैं कहीं भी जाती थी तो लोग मुझसे पूछते थे कि मुंबई कब आईं. यह सुनकर मुझे बहुत गुस्सा आता था. जोया अख्तर के घर पर उनकी असिस्टेंट डायरेक्टर ने मुझसे पूछा कि आप मुंबई कब आईं. तो मुझे लगा कि यह अति हो गई है. इसके बाद मैंने अपना संदेश सोशल मीडिया पर डाला. इसमें मेरी बेटी मसाबा ने मेरा हौसला बढ़ाया. इसके बाद मेरे पास ज्यादा काम आ गया.''

दिल्ली की रहने वाली नीना ने एनएसडी से डिग्री ली और मुंबई आईं. अपने करियर को लेकर उनके पास कई खट्टे-मीठे अनुभव हैं. वे कहती हैं, "मुझे पता नहीं था कि फिल्मी दुनिया में कैसे अपनी इमेज बनाई जाती है.

मुझे लगा कि मैं अच्छी ऐक्टर हूं, मैं अच्छा रोल करूंगी तो लोग मेरे पास भागे-भागे आएंगे.'' उनकी पहली फिल्म हिट हुई और उसकी पार्टी दी गई तो वहां उन्हें गिरीश कर्नाड मिले. नीना ने अपनी योजना बताई कि अब वे लीड रोल करेंगी तो कर्नाड का जवाब थाः यू आर फिनिश्ड. वे कहती हैं, "पहली फिल्म में मैंने चश्मा पहनकर एक लल्लू लड़की का रोल किया था. पर अपना बाजार बनाने और इमेज चमकाने के लिए मुझे किसी से सीख लेनी चाहिए थी.''

साथ-साथ फिल्म से करियर की शुरुआत करने वाली नीना ने गांधी, आधारशिला, जाने भी दो यारो, उत्सव, रिहाई, वो छोकरी के अलावा खानदान, भारत एक खोज, गुल गुलशन गुलफाम जैसे धारावाहिकों में भी काम किया और टेलीविजन के स्वर्ण युग में अपनी पहचान बनाई थी.

खलनायक फिल्म के "चोली के पीछे क्या है'' गाने से उनकी अभिनय कला के बेहतरीन काम दब गए. पर अब एक कलाकार के तौर पर उन्हें फिर से मजा आने लगा है. फिल्म बधाई हो में वे एक उम्रदराज महिला का रोल कर रही हैं जो गर्भवती हो जाती हैं. नीना खासतौर से एक फिल्म द लास्ट कलर का जिक्र करना नहीं भूलतीं जिसे इंटरनेशनल शेफ विकास खन्ना बना रहे हैं.

इसमें उन्हें लीड रोल करने का मौका मिला है. नीना कहती हैं कि यह बड़ी बात है कि इस उम्र में उनके कंधे पर पूरी फिल्म का बोझ डाला गया है. द लास्ट कलर विकास की बेस्टसेलर बुक है और इसमें वृंदावन और बनारस के वृद्धाश्रमों में रहने वाली विधवाओं की कहानी है. यह फिल्म एक विधवा पर आधारित है जो होली नहीं खेल सकती. लेकिन उनकी जिंदगी तब कलरफुल हो जाती है जब एक अध्यादेश से होली खेलने का अधिकार मिल जाता है.

नीना अब फिल्मों में व्यस्त हैं. वे दिबाकर बनर्जी की संदीप और पिंकी फरार, अश्विनी अय्यर तिवारी की पंगा, मीठा पान के अलावा विवेक ओबेराय और रवि किशन के साथ नेटफ्लिक्स की वेबसीरीज में काम कर रही हैं. टेलीविजन के लिए उन्होंने खुद ही एक पटकथा तैयार की है जिसके लिए वे निर्माता और चैनल की तलाश कर रही हैं. इसे वे खुद निर्देशित करेंगी.

सिनेमाई जिंदगी के साथ नीना अपने पारिवारिक जीवन में भी प्रसन्न हैं. दिल्ली में वे चार्टर्ड एकाउंटेंट पति विवेक मेहरा के साथ रहती हैं. नीना ने उनसे 2008 में शादी की थी. '80 के दशक में वेस्ट इंडीज के नामी क्रिकेटर विवियन रिचर्ड्स के साथ उनके प्रेम के काफी चर्चे थे.

नीना ने रिश्ता कायम किया और सिंगल मदर बनीं. उनकी बेटी मसाबा हैं. नीना कहती हैं कि सिंगल मदर को अपने बच्चे की परवरिश के लिए काफी परेशानी होती है. इसलिए महिलाओं को मां बनने के लिए शादी करनी चाहिए. नीना ने जिंदगी के तमाम उतार-चढ़ाव देखे हैं, लेकिन बोल्ड लेडी की उनकी अपनी शख्सियत भी बेहद दमदार है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें