scorecardresearch
 
डाउनलोड करें इंडिया टुडे हिंदी मैगजीन का लेटेस्ट इशू सिर्फ 25/- रुपये में

शख्सियतः सत्य के सिनेमाई प्रयोग

श्याम बेनेगल के पास 87 साल की उम्र में भी कहने के लिए किस्सों की भरमार है. अपनी ताजा फिल्म शेख मुजीबुर्रहमान की बायोपिक मुजीब: द मेकिंग ऑफ अ नेशन की रिलीज की तैयारी कर रहे दिग्गज फिल्मकार ने अपनी रचनात्मक भूख और दूसरे कई पहलुओं पर बात की.

X
श्याम बेनेगल श्याम बेनेगल

श्याम बेनेगल के पास 87 साल की उम्र में भी कहने के लिए किस्सों की भरमार है. अपनी ताजा फिल्म शेख मुजीबुर्रहमान की बायोपिक मुजीब: द मेकिंग ऑफ अ नेशन की रिलीज की तैयारी कर रहे दिग्गज फिल्मकार ने अपनी रचनात्मक भूख और दूसरे कई पहलुओं पर बात की.

 बायोपिक, और खासकर अगर वह सियासी हो, तो हमेशा उसके आरती उतारने वाली जीवनी बन जाने का खतरा रहता है. ऐसा न होने पाए, इसके लिए आपने क्या किया?

देखिए, मानवीय पहलू वाला सिरा आपको पकड़कर रखना पड़ता है. वह छूट गया तो आप उस व्यक्ति को सुपरमैन, अति-महान टाइप बना डालेंगे. किसी व्यक्ति को उसकी कमजोरियों के साथ देखना होता है. हर किसी के कमजोर पहलू होते हैं लेकिन इससे उसकी ताकम कम नहीं हो जाती. यह बात आप ध्यान में रखें तो बाकी चीजें अपने आप सही दिशा में बढ़ती जाएंगी.

 आज के सियासतदां शेख मुजीबुर्रहमान से क्या सीख ले सकते हैं?

वे अपनी जनता से प्यार करते थे लेकिन कुछ ज्यादा ही प्यार करते थे. वे जनता पर भरोसा करते थे लेकिन कुछ ज्यादा ही करते थे, खासकर अपने सहयोगियों पर. वे उनके दूसरे कई पहलुओं/कोणों को नहीं देख पाए. किसी राजनेता के लिए यह जानना बहुत अहम है कि उन लोगों की भी अपनी कमजोरियां, अपने लोभ-लालच होते हैं.

 गहरी चोट करने वाले सोशल ड्रामा के अलावा सियासी इतिहास पर आपकी गहरी पकड़ है. वे कौन-से पहलू हैं जो आपको इन विषयों की ओर खींचकर लाते हैं?

एक तो मेरी सबसे ज्यादा दिलचस्पी अपने देश के बारे में हरसंभव चीज जानने की होती है. मुझे लगता है, मेरी फिल्मों के जरिए मेरी ही तरह दर्शक भी हिंदुस्तान को उसके असल रंग-रूप में देख-जान पाते हैं.

 पुर्तगाली फिल्मकार मनोएल डी ओलिवेरा 105 साल की उम्र तक निर्देशन करते रहे. वह क्या चीज है जो आपको फिल्ममेकिंग में बनाए रखती है?

मैं उनसे लिस्बन में मिला था जब वे 96 साल के थे और फिल्में बना रहे थे. न वे अंग्रेजी जानते थे और न मैं पुर्तगाली लेकिन उनमें 25 साल के नौजवान जैसी ऊर्जा और जोश था. मेरे लिए भी एक तरह से वही चीजें काम कर रही हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें