scorecardresearch
 
डाउनलोड करें इंडिया टुडे हिंदी मैगजीन का लेटेस्ट इशू सिर्फ 25/- रुपये में

दक्षिण का प्रभास सितारा

केजीएफ: चैप्टर 2 (कन्नड़) और आरआरआर (तेलुगु) पिछले दो महीने में पूरे भारत के सिनेमाघरों में भूचाल ले आईं. बीते दिसंबर में पुष्पा (तेलुगु) ने ऐसा किया था.

X
शर्मीले अदाकार प्रभास शर्मीले अदाकार प्रभास

केजीएफ: चैप्टर 2 (कन्नड़) और आरआरआर (तेलुगु) पिछले दो महीने में पूरे भारत के सिनेमाघरों में भूचाल ले आईं. बीते दिसंबर में पुष्पा (तेलुगु) ने ऐसा किया था. पर इन सब दक्षिण भारतीय फिल्मों के लिए पैन इंडिया बेस बनाया था 2015 में आई बाहुबली: द बिगिनिंग ने.

और इसके नायक थे आंध्र प्रदेश के पश्चिमी गोदावरी जिले के मोगलतूर गांव से ताल्लुक रखने वाले शर्मीले अदाकार प्रभास. उनसे बात करने पर पता चलता है कि प्रशंसक उन्हें ''डार्लिंग’’ क्यों कहते हैं.  वे अतिशय विनम्र हैं. सवालों के जवाब में अक्सर वे कहते हैं: ''मैं किसी दूसरे को क्या राय या ज्ञान दूं?’’

 एक ऐक्टर की कामयाबी में क्या चीजें मायने रखती हैं?
आपकी निर्णय क्षमता, आपकी बुद्धिमत्ता, आपको क्या करना पसंद है, आप किस काम में बेस्ट हैं, उसे कैसे करते हैं. ये सारी चीजें मायने रखती हैं. 

 आप तकरीबन 2,000 करोड़ रु. कमाने वाली बाहुबली-2 के हीरो हैं.
कल लोग इस बेंचमार्क को भी पार कर ही लेंगे. अगले शुक्रवार को या किसी न किसी शुक्रवार को तो कर ही लेंगे. 

 दक्षिण भारतीय फिल्में हिंदी सैटेलाइट बाजार पर राज कर रही हैं. ऐसा क्यों है?
पता नहीं. दर्शक क्या देखते हैं, किस वक्त वे कौन-सी फिल्म देखना चाहेंगे, हम नहीं जानते. पर यह तो हमेशा से दोतरफा रहा है. मैंने प्यार किया तेलुगु में 175 दिनों तक चली थी. दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे, हम आपके हैं कौन, खलनायक और ख़ुदा गवाह वगैरह भी साउथ में खूब चली थीं.

 सिनेमाघरों में भी साउथ की फिल्में अब पैन इंडिया नंबर 1 चल रही हैं.
दर्शक अब इसे लेकर ओपन हैं. भाषा अब उनके लिए कोई बैरियर नहीं रह गई है.

 आप केजीएफ-2 के डायरेक्टर प्रशांत नील की अगली फिल्म सलार कर रहे हैं. कैसे डायरेक्टर हैं वे?
प्रशांत दरअसल सिनेमा के कमर्शियल पहलू को जानते हैं. वे दर्शकों की नब्ज और सेंटीमेंट्स को समझते हैं. उनको पता है कि दर्शकों को क्या चाहिए.

 आपके जीवन का फलसफा क्या है?  
यही कि पुश करते रहो. पुश करते-करते जब लड़खड़ा कर गिर जाओ तो जरा ठहरो और फिर पुश करो. फाइट करो. आपके पास अगर कोई चारा न हो तो बस ये काम करो.

—गजेंद्र सिंह भाटी

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें