scorecardresearch
 

फुरसतः फटाफट शतरंज के महारथी विश्वनाथन

48 वर्षीय आनंद 13 बार वर्ल्ड रैपिड चैंपियनशिप प्रतियोगिता जीत चुके हैं

कैंट स्कव्स्टाड/रॉयटर कैंट स्कव्स्टाड/रॉयटर

पिछले महीने रियाद में जब वर्ल्ड रैपिड चैंपियनशिप खत्म हुई तो विजेता विश्वनाथन आनंद को ठीक-ठीक याद न था कि वे कितनी बार वर्ल्ड रैपिड खिताब जीत चुके हैं. उन्होंने उंगलियों पर गिनना शुरू किया लेकिन उंगलियां कम पड़ गईं तो उन्होंने कंधे उचकाते हुए कहा, ''कई बार."

मशहूर चेसबेस वेबसाइट ने बाद में हिसाब लगाया तो पता चला कि 48 वर्षीय आनंद 13 बार यह प्रतियोगिता जीत चुके हैं. इनमें 2003 में पहली औपचारिक वल्र्ड रैपिड चैंपियनशिप और उससे भी पहले 15 में से 11 अनौपचारिक वल्र्ड रैपिड चैंपियनशिप की जीत शामिल है.

इनमें पहली जीत 1997 में मिली थी जब रियाद में रजत पदक पाने वाले व्लादिमिर फेदोसीव मात्र दो साल के थे. यह एक शानदार रिकॉर्ड है और 48 साल की उम्र में रैपिड टाइटिल जीतना किसी चमत्कार से कम नहीं. तेज गति का शतरंज सबसे तेज गति वाले खेलों में से एक है.

इसमें शारीरिक चुस्ती-फुर्ती की सक्चत दरकार होती है. ''ब्लिट्ज" शतरंज आम तौर पर प्रति खिलाड़ी तीन मिनट (हर चाल के बाद आपकी घड़ी में दो अतिरिक्त सेकंड जोड़ दिए जाते हैं) की रफ्तार से खेला जाता है जबकि रैपिड शतरंज प्रति खिलाड़ी 15 मिनट (हर चाल के बाद 10 अतिरिक्त सेकंड) की रक्रतार से खेलते हैं. घड़ी में समय पूरा हो जाने पर ज्यादातर खेल बोनस समय में खेला जाता है.

इसमें खिलाड़ी सहज प्रवृत्ति के आधार पर चाल चलते हैं. रूसी खिलाड़ी इसे ''हाथ से खेला जाने वाला शतरंज" कहते हैं जिसमें आप दिमाग का इस्तेमाल करना बंद कर देते हैं और आपका हाथ अपने आप चाल चलता है. खिलाड़ी हर चौथाई सेकंड में फुर्ती से चाल चलते हैं और अजीब गलतियां करते हैं.

आपकी धड़कनों की रक्रतार प्रति मिनट 180 तक पहुंच जाती है. आठ घंटे तक ऐसा करने के लिए खासा स्टेमिना, मानसिक नियंत्रण और एकाग्रता की जरूरत होती है.

आनंद हमेशा से तेज रक्रतार खिलाड़ी रहे हैं. रैपिड प्रतियोगिताओं में मिली जीत के बाद वे विश्व ब्लिट्ज चैंपियनशिप में भी कांस्य पदक जीत चुके हैं. उसके पोडियम पर दो बार खड़े होने वाले वे एकमात्र खिलाड़ी थे. प्रतियोगिता से पहले आनंद दुविधा में थे कि उन्हें रियाद में खेलना चाहिए या नहीं.

20 लाख डॉलर से ज्यादा की पुरस्कार राशि बहुत आकर्षक थी. लेकिन लंदन चेस क्लासिक (वे आखिरी स्थान पर आए थे) में बेहद निराशाजनक प्रदर्शन के कारण वे शारीरिक और मानसिक रूप से खासे थके महसूस कर रहे थे और केरल में परिवार के साथ छुट्टियां बिताने की योजना बना रहे थे.

***

वे चेन्नै में बेटे अखिल के साथ फिल्मों का मजा ले रहे थे, तभी पत्नी अरुणा ने उन्हें रियाद की प्रतियोगिता में हिस्सा लेने पर विचार करने को कहा. सऊदी अरब के पास शतरंज के अपने मजबूत खिलाड़ी नहीं हैं और कुछ प्रभावशाली मुल्लाओं का मानना है कि खेल ''हराम" है. लेकिन सऊदी अरब आधुनिकता की तरफ बढ़ रहा है और तीन वर्ष से इस प्रतियोगिता का आयोजन कर रहा है, साथ ही प्रतियोगिता में पुरस्कार की राशि भी बढ़ा दी गई है.

महिलाओं के लिए हिजाब की अनिवार्यता भी हटा ली है और उन्हें उसी हॉल में खेलने की इजाजत दे दी है, जहां पुरुष खेलते हैं. इसके बावजूद कई ऊंची रैंकिंग वाले अमेरिकी खिलाड़ी और 2016 में ब्ल्ट्जि और रैपिड प्रतियोगिताएं जीतने वाले अन्ना मुजचीचक इससे दूर ही रहे. वे सऊदी अरब में मानवाधिकार हनन और महिलाओं के प्रति उत्पीडऩ वाले रवैए का विरोध करते हैं. वहां इज्राएलियों को भी वीजा नहीं दिया जाता.

इन सब वजहों से इस चैंपियनशिप का भविष्य खतरे में नजर आता है. फिर भी यह थी बहुत कठिन. आनंद ने इसमें राजनीति को दरकिनार करते हुए अपने शारीरिक फिटनेस पर ध्यान दिया. साथ ही उन्होंने यह भी योजना बनाई कि खेल के बीच में वे किस तरह आराम करेंगे.

वे 38 गेमों में केवल एक हारे (15 रैपिड गेम व दो टाइब्रेकर और 21 ब्लिट्ज गेम). रैपिड प्रतियोगिता में वे फेदोसीव के साथ बराबरी पर रहे लेकिन टाइब्रेकर में उन्हें आसानी से हरा दिया.

कई तरह से स्पीड चेस का भविष्य बहुत अच्छा है. यह सबसे ज्यादा लोकप्रिय ऑनलाइन प्रारूप है क्योंकि तेज गति के कारण इसमें धोखाधड़ी ज्यादा कठिन है. औपचारिक प्रतियोगिताओं में भी यह ज्यादा लोकप्रिय प्रारूप बनता जा रहा है क्योंकि तेज रफ्तार के कारण यह दो दिन खत्म हो जाता है.

यह प्रारूप युवाओं को भा रहा है. सर्वोच्च 50 रैंकिंग वाले खिलाडिय़ों में सिर्फ 7 ही 40 से ऊपर के हैं. उनमें से तीन पूर्व विश्व चैंपियन हैं—आनंद, व्लादिमिर क्रामनिक और गैरी कास्परोव.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें