scorecardresearch
 

शख्सियतः सीमा के आर-पार

कलाकार रीना सैनी कल्लाट की सीमाओं से मुक्त दुनिया की दार्शनिक खोज ब्लाइंड स्पॉट्स नाम के नए शो के साथ आगे बढ़ रही है. इसमें हिंसा और संघर्ष के प्रतिकार में चिडिय़ों के चहचहे और संकर पशुओं को पेश किया गया है

दानेश जस्सावाला दानेश जस्सावाला

आपकी ताजा एकल प्रदर्शनी से दर्शक क्या उम्मीद लगा सकते हैं?

ब्लाइंड स्पॉट्स शीर्षक का ताल्लुक चिकित्सा साहित्य में शरीरक्रिया विज्ञान के तहत आंख से जुड़े ब्लाइंडस्पॉट के खास संदर्भ से है. यह वह क्षेत्र है जो सीधे काम में नहीं आता. कोई भी दो लोग किसी चीज को बिलकुल एक तरह से नहीं देखते और मस्तिष्क ब्लाइंडस्पॉट यानी दृष्टिशून्यता वाले बिंदुओं के बीच के घटकों का दूसरी उपलब्ध सूचनाओं के आधार पर अनुमान करता है ताकि विचार की दृष्टि से उस अंतर को खत्म करके हमारे अनुभवों को आकार देने वाला कोई अर्थ निकाला जा सके.

मैं 2003 से भारत के संविधान और इसकी प्रस्तावना पर काम कर रही हूं. इस प्रदर्शनी में मैं ऐसे समय में लोकतंत्र के वादे पर नए सिरे से विचार कर रही हूं जब दुनिया के ज्यादातर लोकतंत्र तनाव में हैं. ब्लाइंड स्पॉट्स के वीडियो में आपको स्नेलेन आइ चार्ट के जोड़े दिखेंगे जिसमें एक बार में एक वर्ण संघर्षग्रस्त देशों के संविधानों की प्रस्तावनाओं के खंडित पाठ की तरह से लगेगा. हमारा लंबा इतिहास साझा सभ्यताओं का रहा है. चाहे वह भारत और पाकिस्तान हो या इज्रायल और फलस्तीन, हम सभी तत्वत: एक ही जैसी आकांक्षाएं रखते हैं.

क्या संघर्ष, सीमा और विस्थापन जैसी भावभूमियों के प्रति आपका तीव्र आकर्षण विभाजन से जुड़े परिवारिक इतिहास के कारण है?

मेरे पिता लाहौर में पैदा हुए थे लेकिन विभाजन से पहले पंजाब के भारत वाले भूभाग में आ गए थे. मेरे पिता अपने बचपन के घरों के बारे में जरूर बात करते थे लेकिन विभाजन के बारे में कोई बात नहीं होती थी. मैंने विभाजन के प्रभावों के बारे में उस वक्त ध्यान देना शुरू किया जब 1992 और 2002 के दंगों के बाद मुंबई के बारे में मेरे अनुभवों में बदलाव आया. नियंत्रण रेखा मेरे काम में एक ठोस पहलू बन गई. मेरी रुचि भौतिक सीमाओं से आगे लोगों के बीच मनोवैज्ञानिक और सामाजिक बाधाओं की ओर बढ़ती गई.

मेरा मानना है कि हम ही मानचित्रों को आकार नहीं देते बल्कि नक्शे भी किसी स्थान के बारे में हमारी धारणाओं को आकार देते हैं. 'रेखा' किसी कलाकार का एक अहम औजार होती है, फिर भी जब इसे किन्हीं दो क्षेत्रों के आरपार खींचा जाता है, तो इसके बड़े निहितार्थ हो सकते हैं. जातीय और धार्मिक समुदायों और प्राकृतिक रूपाकारों को मनमाने तरीके से विभाजित करने वाली रेडक्लिफ, डूरंड या मैकमोहन रेखाओं को देख लीजिए. 'लीकिंग लाइन्स' (रेखाचित्रों के एक संकलन) के माध्यम से मैं कागज पर इस रेखा में सुधार करना चाहती थी और बिजली के तार से भौगोलिक क्षेत्रों का निर्माण करते हुए इससे पैदा होने वाले तनावों को देखना चाहती थी.

आपके अनुसार मोटे तौर पर कला का उद्देश्य क्या है?

मैं उम्मीद करती हूं कि ध्रुवों में बंटे इस दौर में भी कला के माध्यम से हम अपनी काल्पनिक सीमाओं को प्रतिबिंबित करने की जगह तलाश सकते हैं. यदि हम अच्छी तरह अपना तालमेल बिठाकर ज्यादा ध्यान से सुनने की कोशिश करें तो हम प्रकृति की अपनी दुनिया से संकेत प्राप्त कर सकेंगे. ब्लाइंडस्पॉट्स में ध्वनि निर्मितियों की संकल्पना रडार आने के पहले विश्व युद्धों के दौरान दुश्मन के विमानों की आवाज को पकडऩे के लिए निर्मित ध्वनि उपकरणों के आधार पर विकसित की गई है.

लेकिन मैंने युद्ध की धारणाओं को उलटने के लिए ध्वनियों को सीमा के आर-पार एक दूसरे को अपना गाना सुनाते 'दुश्मन देशों' के राष्ट्रीय पक्षियों के बोलों से बदल दिया है. प्रदर्शनी में मेरे रेखाचित्रों की ऐसी शृंखला भी है जिसमें काल्पनिक संकर नस्लों से भरा विश्व बनाया गया है—जैसे भारतीय पक्षी मोर (पीकॉक) को मैंने पाकिस्तान के चुकार के साथ जोड़ा है और नाम दिया है पीकार.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें