scorecardresearch
 
इंडिया टुडे ह‍िंदी

नई नस्‍ल के मजदूर संघ नेता | पढ़ें इंडिया टुडे

नई नस्‍ल के मजदूर संघ नेता | पढ़ें इंडिया टुडे
  • 1/6
श्रवण कुमार, 24 वर्ष
चेन्नै
संस्थापक, नोकिया इंडिया तोलिलाली
संघम शिक्षा पत्राचार से बी.कॉम कर रहे हैं.
यूं बने सुर्खियों के हकदार श्रवण कुमार ने पी. सुरेश के साथ मिलकर नोकिया इंडिया तोझ्लिाझी संघम की 2010 में स्थापना की. हैंडसेट बनाने वाली इकाई के चेन्नै के कर्मचारी जुलाई 2010 को हड़ताल पर चले गए. बाजी कुमार के हाथ लगी क्योंकि नोकिया दीर्घकालिक वेतन समीक्षा के लिए राजी हो गई.
नई नस्‍ल के मजदूर संघ नेता | पढ़ें इंडिया टुडे
  • 2/6
देबाशीष श्यामल, 32 वर्ष
हरिपुर, पश्चिम बंगाल
कार्यकारी सदस्य, नेशनल फिशवर्कर्स फोरम
शिक्षा पूर्वी मिदनापुर के प्रभात कुमार कॉलेज से ग्रेजुएट
यूं बने सुर्खियों के हकदार हरिपुर में प्रस्तावित नाभिकीय संयंत्र के खिलाफ आंदोलन में संयोजक के तौर पर श्यामल ने अहम भूमिका निभाई. इसके नतीजतन पश्चिम बंगाल सरकार इस साल अगस्त से परियोजना को पूरी तरह से हटाने में लगी है.
नई नस्‍ल के मजदूर संघ नेता | पढ़ें इंडिया टुडे
  • 3/6
राखी सहगल, 41 वर्ष दिल्ली
आयोजक,
नेशनल ट्रेड यूनियन इनिशिएटिव
शिक्षा पोस्ट ग्रेजुएट
यूं बनीं सुर्खियों की हकदार सहगल ने एनटीयूआइ में अहम भूमिका निभाई. यह तेजी से बढ़ता स्वतंत्र श्रमिक संघ है जिसकी सदस्यता 2006 के 500 के आंकड़े से 11 लाख पर पहुंच चुकी है. वे हरियाणा के धारूहेड़ा में हीरो में चल रहे असंतोष का नेतृत्व कर रही हैं.
नई नस्‍ल के मजदूर संघ नेता | पढ़ें इंडिया टुडे
  • 4/6
लुधियाना
नेता टेक्सटाइल मजदूर यूनियन

राजविंदर, 29 वर्ष
शिक्षा भठिंडा के गवर्नमेंट राजेंद्र कॉलेज से बीए
लखविंदर, 28 वर्ष
शिक्षा प्लास्टिक कास्टिंग और मोल्डिंग में डिप्लोमा
यूं बने सुर्खियों के हकदार 2005 में राजविंदर और लखविंदर ने लुधियाना का रुख किया. उनका उद्देश्य शहर के शोषित औद्योगिक मजदूरों को एकजुट करना था. 22 सितंबर को उन्होंने 1,500 पावरलूम मजदूरों से बेहतर वेतन, काम के जायज समय और सुरक्षित फैक्टरी फ्लोर की मांग को लेकर 95 मझेली कपड़ा इकाइयों में अनिश्चितकालीन हड़ताल का नेतृत्व किया.
नई नस्‍ल के मजदूर संघ नेता | पढ़ें इंडिया टुडे
  • 5/6
सोनू गुर्जर, 25 वर्ष गुड़गांव
अध्यक्ष, मारुति सुजुकी एंप्लॉइज यूनियन
शिक्षा रोहतक के इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट से डिप्लोमा
यूं बने सुर्खियों के हकदार सोनू सुजुकी के मानेसर संयंत्र में असंतोष का प्रमुख चेहरा थे. जून से श्रमिकों के साथ विवाद के कारण कंपनी को करीब 50,000 यूनिटों और 1,800 करोड़ रु. से ज्‍यादा का नुक्सान हुआ. उन्होंने एग्जिट पैकेज को स्वीकर कर लिया और संघ को छोड़ दिया.
नई नस्‍ल के मजदूर संघ नेता | पढ़ें इंडिया टुडे
  • 6/6
ए.आर. सिंधु, 38 वर्ष  दिल्ली
सचिव, ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ आंगनवाड़ी वर्कर्स ऐंड हेल्पर्स
शिक्षा भौतिकी में ग्रेजुएट
यूं बनीं सुर्खियों के हकदार सिंधु उन कुछ चुनिंदा मजदूर संघवादियों में से हैं जिन्होंने सरकार की सामाजिक क्षेत्र की योजनाओं से जुड़े मजदूरों तक पहुंचने की कोशिश की है. 2010 में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के राजधानी में बड़े प्रदर्शन के बाद सरकार को मजबूर होकर उनके वेतन को 1,500 रु. से दोगुना कर 3,000 रु. प्रति माह करना पड़ा था.