scorecardresearch
 

डिजिटल फांस

कोई सामान्य-सी तस्वीर फोटोशॉप के बाद पैसे, सेक्स और कई दूसरे गलत कामों के लिए ब्लैकमेल का एक अंतहीन जरिया खोल सकती है—जानिए खुद को सुरक्षित रखने के लिए आपको क्या करना चाहिए.

साइबर क्राइम और सेक्सटॉर्शन या सेक्स ब्लैकमेलिंग साइबर क्राइम और सेक्सटॉर्शन या सेक्स ब्लैकमेलिंग

रितेश भाटिया

एक दशक से देश में साइबर क्राइम और सेक्सटॉर्शन या सेक्स ब्लैकमेलिंग के मामलों में भारी वृद्धि हुई है. सेक्सटॉर्शन के मामलों में आम तौर पर ऐसा कोई होता है जिसकी किसी के निजी वीडियो या तस्वीरों तक पहुंच हो. यह कई तरीकों से हो सकता है—कोई किसी के फोन या कंप्यूटर को हैक कर ले या कोई पुराना साथी शामिल हो सकता है, जिसने (सहमति से या बिना सहमति) के फोटो खींची हो या अंतरंग पलों को फिल्माया हो या कोई पुराना पार्टनर जिसके साथ रिश्ते के दौरान नग्न तस्वीरें/ इसी तरह की सामग्री भेजी गई हो.

बहरहाल, वह सामग्री चाहे चोरी के जरिए या सामान्य संबंध के दौरान हासिल की गई हो, इसका इस्तेमाल सेक्स्टॉर्शन के लिए किया जा सकता है. आम तौर पर पीडि़तों को पैसे ऐंठने, यौन संबंधों या इसी तरह की और आपत्तिजनक सामग्री के लिए ब्लैकमेल किया जाता है. मसलन, मेरे एक क्लाइंट को उसके एक पूर्व प्रेमी—जो रसूखदार और पहुंच वाला था—ने उसे धमकी दी कि अगर वह उसे पैसे नहीं देती, और अधिक साफ तस्वीरें और वीडियो नहीं भेजती और उसके साथ यौन संबंध नहीं रखती तो वह उस वीडियो (जिसे रिश्ते के दौरान फिल्माया गया था) को लीक कर देगा. विरोध के बावजूद, उसका तीनों तरह से शोषण किया गया.

रिवेंज पोर्नोग्राफी भी बहुत आम है जब कोई साथी रिश्ते के दौरान की खास सामग्री को अपने पास संभालकर रख लेता है. यहां, पीडि़तों को अक्सर उन तस्वीरों/वीडियो को ऑनलाइन लीक कर देने का डर दिखाकर रिश्तों में बने रहने के लिए मजबूर किया जाता है. अक्सर, फोटोशॉप की गई तस्वीरों—जिसमें आपत्तिजनक सामग्री को एडिट करके किसी का चेहरा लगा दिया जाता है—से भी लोगों को ब्लैकमेल किया जाता है. रिवेंज पोर्नोग्राफी (बदला लेने के लिए नग्नता) और सेक्स्टॉर्शन के साथ-साथ साइबर स्टॉङ्क्षकग भी अक्सर होती है.

सोशल नेटवर्किंग साइट्स और डेटिंग पोर्टल बड़े पैमाने पर ऐसे अपराधों के जोखिम को बढ़ाते हैं. स्मार्टफोन एप्लिकेशन जोखिम में भी योगदान करते हैं, क्योंकि वीडियो-कॉलिंग एप्लिकेशन का उपयोग करने वाले लोगों को यह एहसास नहीं होता कि उन्हें रिकॉर्ड किया जा सकता है. ऐसे फोन ऐप हैं जो व्हाट्सऐप ऑडियो के साथ-साथ वीडियो कॉल, ऐसे एप्लिकेशन (जैसे गेम, फोटो-एडिटिंग ऐप, सोशल मीडिया ऐप) जो किसी की फोन गैलरी और मैकेनिज्म तक पहुंच बनाकर उसके माध्यम से फॉर्मेट किए फोन से भी कोई डेटा आसानी से फिर से निकाल सकते हैं. ऐसे फोन एप्लिकेशन और तकनीक के बारे में जागरूकता की कमी उन शीर्ष कारणों में से एक है जिससे लोग शिकार बन जाते हैं.

मेरे एक क्लाइंट दंपती ने अपने फोन को फॉर्मेट कर दिया और उसके बाद फोन एक्सचेंज पॉलिसी के तहत नया फोन खरीदा था. आगे जो हुआ वह बिल्कुल अप्रत्याशित था. इस दंपती ने खुद को सेक्सटॉर्शन में घिरा पाया. अपराधी एक्सचेंज किए गए फोन से उनके सभी कॉन्टैक्ट्स, फोटो और वीडियो को फिर से निकालने में कामयाब रहे, जिसमें से कुछ नितांत निजी पलों के थे. वास्तव में फोन और अन्य उपकरणों में मौजूद सहमति के साथ बनाए गए अंतरंग क्षणों के रिकॉर्ड ऐसे अपराधों के प्राथमिक कारणों में एक हैं. ज्यादातर लोगों को यह महसूस ही नहीं होता कि एक बार रिकॉर्ड होने के बाद, सामग्री केवल डिवाइस पर नहीं रहती. यह अक्सर स्मार्टफोन ऐप्स के माध्यम से बैकअप के लिए ऑनलाइन अकाउंट के साथ सिंक किए जाने के कारण या ऐसे ही किसी अन्य कारण से वेब पर अपना रास्ता खोज लेती है.

एक और चिंताजनक खतरा, सेक्स्टॉर्शन स्कैम भी इन दिनों बहुत आम हो गया है. ऐसे मामलों में, पीडि़तों को आम तौर पर ब्लैकमेलर से एक ईमेल प्राप्त होता है जिसमें उन्हें बताया जाता है कि उनके अकाउंट/डिवाइस को हैक कर लिया गया है और ब्लैकमेलर को उनकी आपत्तिजनक सामग्री या उनके द्वारा इंटरनेट पर देखी जाने वाली पोर्नोग्राफी वीडियो तक पहुंच प्राप्त हो गई है. यह साबित करने के लिए कि उसके पास यह सामग्री है, ब्लैकमेलर अक्सर पीडि़तों के ईमेल/सोशल मीडिया अकाउंट्स के वास्तविक पासवर्ड भी बताता है. ईमेल में धमकी होती है कि यह सामग्री इंटरनेट पर डाल दी जाएगी और इसके लिए पैसे की मांग, आमतौर पर बिटकॉइन के रूप में, की जाती है जिसे ट्रेस करना मुश्किल है.

मैंने 20 से अधिक ऐसे मामले देखे हैं जिनमें पीडि़त या तो इतने भयभीत थे कि वे डिप्रेशन में चले गए या भारी मात्रा में पैसे देने के बाद उनमें आत्महत्या की प्रवृत्ति आ गई. कई अन्य मामलों में, पीडि़त केवल ऐसे ईमेल को अनदेखा करना चुनते हैं. सचाई यह है कि इस तरह के ब्लैकमेल प्रयास आम तौर पर हवा में चलाए गए तीर हैं—ब्लैकमेलर आम तौर पर पीडि़त के डिवाइस के हैक होने के बारे में झूठे दावे करते हैं. ये ट्रिक अक्सर काम कर जाते हैं क्योंकि उस ईमेल में पीडि़तों का वास्तविक पासवर्ड शामिल होता है. यह उन लोगों के लिए खासकर भयावह है जो इंटरनेट की काली सचाई से परिचित नहीं हैं. डिजिटल युग का एक दुखद तथ्य यह है कि ईमेल एड्रेस और पासवर्ड अक्सर डार्क वेब पर थोक में खरीदे जा सकते हैं, जो हैकर अक्सर ईमेल और सोशल मीडिया में सेंध लगाकर उड़ा लेते हैं.

ऐसी सामग्री का दूसरा आम स्रोत जासूसी कैमरे हैं जिन्हें मकान मालिक किराए के मकानों में छुपाकर रखते हैं. अन्य मामलों में, जोड़ों को जबरदस्ती आपत्तिजनक स्थितियों में लाकर कैमरे में रिकॉर्ड कर लिया जाता है—ऐसे मामले विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में आम हैं. सोशल मीडिया और फर्जी सोशल मीडिया एकाउंट्स पर अश्लील सामग्री का प्रसार, या वीडियो कॉल की धोखाधड़ी से रिकॉर्डिंग—इसमें कोई संदेह नहीं है कि 21वीं सदी का डिजिटलीकरण लगभग एक घातक हथियार बन गया है.   

सबसे बुनियादी सुझाव यह होगा कि आप अपने आसपास के माहौल को लेकर लगातार जागरूक रहें—चाहे आप एक नए घर में रहने आए हों, या फिर किसी स्टोर के ट्रायल रूम में हों. स्मार्टफोन या अन्य डिजिटल उपकरणों में अंतरंग क्षणों को रिकॉर्ड न करें. इन दो चीजों का अगर ईमानदारी से पालन किया जाता है, तो ज्यादातर मामलों में यह परेशानी से बचने के लिए पर्याप्त हैं. इसके अलावा, साइबर धमकी या सेक्सटॉर्शन के मामलों में, सबूत को नष्ट न करें. अपने फोन को तोडऩा या सोशल मीडिया अकाउंट को डी-एक्टिवेट करने से डेटा मिट नहीं सकता क्योंकि जिस सामग्री का उपयोग किया जा रहा है वह आपके डिवाइस पर ही नहीं है, वेब पर है.

परिवार के किसी सदस्य को विश्वास में लें जो आपकी स्थिति को समझेगा और उसके बाद आप पुलिस के पास जाएं, अधिकांश अपराधी तब भाग जाते हैं जैसे ही उन्हें पता चलता है कि पीडि़त कानून का सहारा लेने जा रहा है—कई मामलों में, अपराधी का सारा खेल इसी बात पर टिका रहता है कि पीडि़त इतना डर जाए कि वह किसी भी तरह की सहायता लेने की हिम्मत न कर सके. पुलिस के पास अक्सर ऐसे अपराधियों का पता लगाने के लिए संसाधन होते हैं और जिससे ऐसे ब्लैकमेल से मुक्ति पाई जा सकती है. अंत में, सेक्स्टॉर्शन और साइबर-धमकी किसी को भी गहरा मानसिक झटका पहुंचा सकते हैं. ऐसी घटनाओं से पूरी तरह से मुक्त होने और ज्यादा मजबूती से उबरने के लिए काउंसलिंग जरूर करानी चाहिए.

रितेश भाटिया साइबर सेक्युरिटी कंसल्टेंट हैं और वी4वेब साइबरसेक्युरिटी के संस्थापक निदेशक हैं. उन्होंने एमटीवी के एमटीवी ट्रॉल पुलिस शो में साइबर क्राइम इन्वेस्टिगेटर की भूमिका भी निभाई है

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें