scorecardresearch
 
डाउनलोड करें इंडिया टुडे हिंदी मैगजीन का लेटेस्ट इशू सिर्फ 25/- रुपये में

कहानी संग्रहः रोजमर्रापन की नाटकीयता के अनूठे किस्से

किताब बहत्तर धड़कनें तिहत्तर अरमान के लेखक आकांक्षा पारे काशिव हैं. किताब का प्रकाशन सामयिक प्रकाशन, दिल्ली से हुआ है.

X
बहत्तर धड़कनें तिहत्तर अरमान बहत्तर धड़कनें तिहत्तर अरमान

एक साप्ताहिक में कुछेक साल पहले आकांक्षा पारे काशिव की एक कहानी पढ़ी थी—तीन सहेलियाः तीन प्रेमी. छोटी-सी कहानी थी कि एक रेस्तरां में सर्दियों की दोपहर में तीन सहेलियां मिलती हैं और अपने-अपने प्रेम प्रसंगों के बारे में बहुत ही सहज रूप में बातचीत करती हैं और कुछ देर बाद एक-दूसरे से विदा लेती हैं.

देखने में बहुत ही साधारण-सी लगने वाली मुलाकात और किसी भी तरह की अतिरिक्त नाटकीयता से रहित. इसके बावजूद कहानी हमें अंत तक बांधे रखती है कि अभी कुछ होगा. कोई आश्चर्य नहीं, उसी साल इस कहानी को रमाकांत स्मृति सम्मान से नवाजा गया था.

आकांक्षा की इस पहली कहानी ने ही विश्वास दिला दिया था कि उनकी दूसरी कहानियों में भी संभावनाओं से रू-ब-रू होने का मौका मिलेगा. अब उनका 14 कहानियों का एक संग्रह आया है बहत्तर धड़कनें तिहत्तर अरमान.

इसमें भी दो-तीन कहानियों को छोड़कर किसी में भी ऐसा नहीं लगता कि चरित्रों या स्थितियों में कहीं से कोई बाहरी नाटकीयता आरोपित की गई है. इस दृष्टि से फूलों वाली लड़की, डियर पापा, कैंपस लव, मध्यांतर और प्यार-व्यार जैसी कहानियों को रेखांकित किया जा सकता है.

एक स्थिति की शुरुआत होती है, चरित्र आपस में मिलते हैं और अंत तक कुछ भी ऐसा घटित नहीं होता, जिसे सामान्य अर्थों में नाटकीय कहा जा सके. एकदम से अमरकांत की कहानी दोपहर का भोजन की याद दिला देती हैं ये कहानियां.

प्रश्न उठाया जा सकता है कि यदि कहानी में अपने आप में कोई नाटकीयता नहीं है तो फिर ऐसी क्या बात है जो अंत तक हमारी उत्सुकता बनाए रखती है? मेरे विचार में इसके लिए जिम्मेदार है कहानियों की संरचना और शिल्प, जिसके भीतर से वे अपनी कहानियों का ताना-बाना बुनती हैं.

उन्होंने हर बार एक नई शैली को अपनाया है. बहत्तर धड़कनें तिहत्तर अरमान में अभय शुक्ला और नौरीन की अपनी-अपनी सोच के माध्यम से कहानी का आगे बढ़ना, दिल की रानी सपनों का साहजादा में ठेठ खांटी अंदाज में प्रेम-पत्रों का आदान-प्रदान या फिर कठिन इश्क की आसान दास्तान में एक सरकारी कॉलेज में पढ़ाने वाले स्टाफ के बीच पनपते प्रेम संबंध हों—हर कहानी का शिल्प ही वह निर्णायक तत्व है जिस पर जाने-पहचाने, रोजमर्रा के कथ्यों और किस्से-कहानियों को एक नई तरह की नाटकीयता हासिल होने लगती है.

ऐसा नहीं कि आकांक्षा के यहां प्रेम कहानियों की भरमार है, जब भी अवसर मिला है, उन्होंने सामाजिक, राजनैतिक हालात का भी गहराई से जायजा लिया है. दुकान वाली मौसी को ही लें कि सांप्रदायिक दंगों के बाद एक बेहद चिरपरिचित मौसी जैसे पात्र को लेकर लोगों की सोच कैसे बदल जाती है.

खुद शीर्षक कहानी, जिसमें हिंदू लड़के और मुस्लिम लड़की के बीच पहले प्यार, फिर विवाह और अंततः अलगाव. दोनों ही इसलिए बड़ी और गहरी कहानियां बन जाती हैं क्योंकि इनमें कहीं भी स्थितियों, समस्याओं पर अतिशय भावुकता का लेशमात्र भी नहीं, वरन सहज नॉर्मल प्रतिक्रियाओं के माध्यम से सारी स्थितियों पर गौर किया गया है.

यहां उन दो कहानियों को भी नहीं छोड़ा जा सकता जो हमारे चारों तरफ फैलते सोशल मीडिया के इंद्रजाल की देन हैं. कंट्रोल एडिलीट हो या निगेहबानी—दोनों कहानियां इंटरनेट, ट्विटर, इंस्टाग्राम और औद्योगिक यांत्रिकता के दबाव में हमारे जीवन में छाती भयावहता को सामने लाती हैं. सारी कहानियां आकांक्षा से भविष्य में और बेहतर की उम्मीद पैदा करती हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें