scorecardresearch
 

किताबेंः कौन था उस एंकर का कातिल

लेखक ने इस दिलचस्प जासूसी कहानी को बेहद उम्दा तरीके से रचा है जिससे पाठक अंदाजा ही लगाता रहता है और उसकी जिज्ञासा बढ़ती ही जाती है. इस किताब के हर किरदार को बहुत खूबसूरती से उकेरा गया है और आप उनसे आसानी से जुड़ जाते हैं. 

नैना: एक मशहूर न्यूज एंकर की हत्या नैना: एक मशहूर न्यूज एंकर की हत्या

नीरज कुमार

दुनिया में भला कौन है जो इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की घुसपैठ वाली प्रवृत्ति को नहीं जानता! टेलीविजन चैनलों की अति से, जहां हर चैनल टीआरपी के लिए एक-दूसरे से होड़ कर रहा है, वहां केवल वही टिक पाते हैं जो ज्यादा से ज्यादा सनसनी, स्कैंडल भरी या कभी-कभार विवेकहीन खबरें दिखाएं. ब्रेकिंग न्यूज की तलाश में उन लोगों के व्यक्तिगत जीवन पर इन टीवी चैनलों की नजरें गड़ी रहती हैं जो सार्वजनिक जीवन जीते हैं. आज स्टिंग ऑपरेशन्स का दौर है.

आज जिसका भी थोड़ा-बहुत नाम है वह मोबाइल फोन के रूप में घूमते टीवी कैमरों की नजरों में है. पर टीवी स्टुडियोज और न्यूजरूम्स के अंदर क्या कुछ घटता है, इसके विषय में बहुत ही कम बात हुई है. और जब यह बात सब कुछ काफी नजदीकी से देखे हुए, भीतर के इनसान के जरिए आपके सामने आए—कथा-कहानी के रूप में ही सही—तो चीजें काफी दिलचस्प हो जाती हैं. और ऐसा ही कुछ संजीव के पहले उपन्यास नैना के साथ हुआ है.

यह एक रोमांचक मर्डर मिस्ट्री है जिसमें एक युवा, चालाक और प्रतिभावान न्यूज एंकर है मुख्य किरदार नैना, जिसने बहुत कम समय में टीवी की दुनिया में एक मुकम्मल मीडियाकर्मी के रूप में अपनी जगह बना ली है और जो जीवन को अपनी शर्तों पर जीती है. वह एक छोटे शहर की लड़की है जिसके सपने बड़े हैं. वह शादीशुदा है और उसका एक बेटा है, पर वह अपने पति सर्वेश के साथ अपने रिश्ते में घुटन महसूस करती है.

वह अपने मैनेजिंग एडिटर गौरव वर्मा के साथ जिस्मानी रिश्ता बनाने से पहले दो बार नहीं सोचती जबकि अपने इमीडिएट बॉस नवीन को भी अपने प्रति आकर्षित किए रखती है. जब वह अपनी युवा सहकर्मी से चैनल में अपनी नंबर वन की पोजीशन और गौरव के साथ अपने संबंधों के लिए खतरा महसूस करती है तो उसे दूसरे सह-कर्मियों के सामने झिड़क देने में रत्ती भर भी नहीं झिझकती. इसके बाद वह पड़ोसी राज्य के ताकतवर राजनेता को भी लुभाने से गुरेज नहीं करती.

एक सुबह जब तड़के ही वह नजदीकी पार्क में सैर के लिए जाती है तो उसकी हत्या कर दी जाती है. अब शक की सुई कई लोगों की ओर घूमती है, हर किसी के पास उसकी हत्या करने के लिए दूसरे से अधिक वजह है. अब इस गुत्थी को सुलझाने और अपराधी को पकड़ने का दारोमदार सख्त पुलिस इंस्पेक्टर समर प्रताप सिंह पर है.

लेखक ने इस दिलचस्प जासूसी कहानी को बेहद उम्दा तरीके से रचा है जिससे पाठक अंदाजा ही लगाता रहता है और उसकी जिज्ञासा बढ़ती ही जाती है. इस किताब के हर किरदार को बहुत खूबसूरती से उकेरा गया है और आप उनसे आसानी से जुड़ जाते हैं. नैना जैसी महिलाएं भारत के शहरों के अति प्रतिस्पर्धात्मक ऑफिसों में मौजूद हैं. गौरव जैसे मोहक और शिष्ट बॉस ढूंढऩा भी मुश्किल नहीं है जो सोचते हैं कि अपनी महिला सह-कर्मियों के साथ विवाहेतर संबंध बनाने में कोई हर्ज नहीं है.

साथ ही साथ सर्वेश, नवीन, आमना और गौरव की बहन बेला जैसे लोग भी हमें अपने आसपास ही देखने को मिल जाते हैं. हालांकि अगर इंस्पेक्टर समर की बात करें तो शायद लेखक उसे बदजबान, गुस्सैल या चिड़चिड़ा और हिंसक जैसे घिसे-पिटे सांचे में ढालने से बच सकता था. दूसरी बात यह कि मौका-ए-वारदात पर नैना के शरीर को रनिंग ट्रैक पर पेड़ से लिपटा हुआ दिखाया जाना तर्कशक्ति को चुनौती देता है.

लेखक की भाषा में हिंदी और अंग्रेजी दोनों का अच्छा मिश्रण है, ऐसी ही भाषा आमतौर पर भारत के शहरों में बोली जाती है. यह स्टाइलिश और प्यारी है. सस्पेंस, थ्रिल, ट्विस्ट और टर्न से भरपूर यह प्लॉट इस बात की घोषणा करता है कि अब हिंदी फिक्शन जगत में एक दमदार क्राइम-लेखक का आगमन हो चुका है.

नैना: एक मशहूर न्यूज एंकर की हत्या

लेखक: संजीव पालीवाल

प्रकाशक: एका पब्लिकेशंस, चेन्नै

कीमत: 250 रु.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें