scorecardresearch
 

पुस्तक समीक्षाः एक सार्थक और सफल रंगकोश

कई विसंगतियों के बावजूद यह हिंदी रंगमंच के इतिहास लेखन की दिशा में एक अहम कदम

भारतीय रंगकोश भारतीय रंगकोश

किताब का नाम भारतीय रंगकोश; खंड 3 नाट्य दल, संपादकः प्रतिभा अग्रवाल, प्रकाशकः राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय, कीमतः 600 रु.

रंग-प्रस्तुति और रंग-व्यक्तित्व पर केंद्रित भारतीय रंगकोश के 2005 और 2006 में छपे खंड एक और दो के करीब 12 वर्ष बाद हाल ही में नाट्य दल पर केंद्रित भारतीय रंगकोश की महत्वाकांक्षी वृहद् ग्रंथ-शृंखला के तीसरे और शायद अंतिम खंड 3 का प्रकाशन भी हो गया है.

ये तीनों खंड कई अड़चनों के बावजूद पर्याप्त सफलतापूर्वक सुरुचिपूर्ण कलात्मक सादगी के साथ छपकर नाटक के सुधी पाठकों के हाथों तक पहुंच सके तो इसका बुनियादी कारण संपादक की वह मूल दृष्टि थी जिसके आधार पर प्रथम खंड पर काम शुरू करने से पहले ही वे पूरे आत्मविश्वास से यह कह पाई थीं कि "न काम की रूपरेखा तैयार थी, न ही कार्यपद्धति, स्पष्ट थी तो केवल एक बात कि हमें, मुझे नहीं हमें, हिंदी रंगमंच का इतिहास तैयार करना है.''

रंगकोश के इस खंड में संपादक के अनुसार 110 (और मेरी गणना के अनुसार 105) नाट्य दल शामिल किए गए हैं, जबकि पहले और दूसरे खंडों में क्रमशः 2,000 और 400 प्रविष्टियां थीं. इनमें यदि मूल ग्रंथ से अलग रखी गईं हैदराबाद की सात और क्रोड़-पत्र (शायद परिशिष्ट) में प्रस्तुत अकादमियों, परिषदों, प्रशिक्षण संस्थानों और संग्रहालयों आदि की 16 प्रविष्टियां भी जोड़ दी जाएं तो कुल मिलाकर यह संख्या 133 हो जाती है.

फिर भी 1870 में स्थापित आर्य नाट्य सभा, प्रयाग से लेकर 2017-18 तक लगभग 150 वर्षों के हिंदी रंगकर्म को महज 110/133 नाट्य संस्थाओं के क्रियाकलापों से प्रस्तुत करने का अर्थ है—एक वर्ष में एक से भी कम नाट्य दल का प्रतिनिधित्व होना.

यह तथ्य तो और भी विडंबनापूर्ण है कि उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश और बिहार जैसे प्रमुख हिंदी भाषी प्रदेशों में नाट्य दलों की संख्या क्रमशः 25, 10, 9 और 7 के मुकाबले अकेले दिल्ली में 30 नाट्य दल हैं तो हरियाणा और छत्तीसगढ़ का तो एक भी नहीं है.

प्रस्तुतियों में एकरूपता का अभाव भी खटकता है. कहीं नाटक, नाटककार, अनुवादक, निर्देशक और प्रस्तुति वर्ष के अलावा अभिनेताओं और पार्श्वकर्मियों तक का उल्लेख है तो कहीं-कहीं नाटकों का नामोल्लेख कर छुट्टी पा ली गई है.

सात दशकों से भी अधिक अवधि तक निरंतर सक्रिय आगरा इप्टा और छह दशक से भी अधिक समय से सक्रिय रंगश्री लिटिल बैले ट्रूप जैसी संस्थाओं की टिप्पणियों में एक भी नाटक के नाम का उल्लेख नहीं है.

इन सबके बावजूद भारतीय रंगकोश हिंदी रंगमंच के इतिहास लेखन की दिशा में उठाया गया शुरुआती लेकिन आवश्यक कदम है. प्रयाग, वाराणसी, बिहार और कोलकाता-दिल्ली-मुंबई की वे सभी संस्थाएं जो आजादी से पहले या उसके आसपास गंभीर रंगकर्म के उद्देश्य से गठित हुई थीं और जिनके आरंभिक दौर के ऐतिहासिक तथ्य और द्ब्रयौरे प्रतिदिन हमारी पहुंच से बाहर होते जा रहे हैं, यह ग्रंथ हमारी उस मूल्यवान धरोहर को आने वाली पीढिय़ों के लिए बचाकर रखेगा.

इतनी आस्था, लगन, गंभीरता, मेहनत और प्यार से किए गए इस कीर्तिमान प्रयास की प्रशंसा न करना अरसिकता का प्रमाण होगा.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें