scorecardresearch
 

साहित्य

विदुषी गिरिजा देवी विशेषांक

अक्षरों में उतरतीं अप्पाजी

15 अप्रैल 2021

गिरिजा देवी गायिकी में अपने समकालीनों से, अगर वे वाद्यों में बड़े नाम हैं तो भी, इसीलिए अलग थीं कि प्रशिक्षण उनका दूसरा बड़ा परिचय बना.

छायानट:  विदुषी गिरिजा देवी विशेषांक

किताबेंः अक्षरों में उतरतीं अप्पाजी

14 अप्रैल 2021

उनकी शिष्या सुनंदा शर्मा का संस्मरण इस विशेषांक का सबसे सुगठित और सर्वांग लेख है. अप्पाजी जी ने शिष्यों को नकल की जगह अपना मूल बचाए रखने को कहा

मिशन होलोकॉस्ट राकेश कुमार सिंह

किताबेंः प्रकृति, परंपरा और विज्ञान के छोर

10 अप्रैल 2021

लेखक ने बड़े ही कौशल से उसके मारे जाने और प्रकट होने की घटना को प्रतीकात्मक बनाते हुए यह बताने का प्रयास किया है कि जब तक आदिवासियों का शोषण जारी रहेगा.

मोहम्मद रफ़ी स्वयं ईश्वर की आवाज़

किताबेंः शब्दों के कैनवस पर रफी

10 अप्रैल 2021

1924 में अमृतसर के एक छोटे-से गांव में जन्म से लेकर 1980 में बंबई में उनकी मृत्यु के बीच के कुल 56 बरसों के समय को खासी खोजबीन और शोध के बाद प्रामाणिकता के साथ प्रस्तुत किया गया है.

ब्लाइंड स्ट्रीट

किताबेंः चाहिए पूर्वाग्रह से परे एक दृष्टि

20 मार्च 2021

ये कहानियां आपस में मिलती भी हैं और कमोबेश एक दूसरे को प्रभावित भी करती हैं. प्रदीप सौरभ के लेखन की यह शैली अनूठी है.

कुलभूषण का नाम दर्ज कीजिए  अलका सरावगी

किताबेंः संवेदना के साथ समाजशास्त्र

11 मार्च 2021

उपन्यास का बड़ा हिस्सा हिंदू शरणार्थियों की दुर्दशा पर केंद्रित है.

अमिताभ घोष

एक सरीखी सरजमीं पर

11 मार्च 2021

महामारी के दौरान भी कई अच्छी बातें देखने को मिलीं. उन्हीं में से एक था इस साल के लाहौर लिटरेरी फेस्टिवल में कई हिंदुस्तानियों का हिस्सा लेना.

अंदाज़-ए-बयां उर्फ़ रवि कथा

किताबेंः दो लेखकों/पतियों की जीवनगाथा

05 मार्च 2021

ममता कालिया ने रवि कथा को एक विधिवत जीवनी लेखन का रूप नहीं दिया है. इसके कुछ हिस्से रवीद्र कालिया के जाने के बाद उन्होंने तद्भव के लिए लिखे थे.

उम्र भर सफर में रहा

किताबेंः यात्रा का आनंद

26 फरवरी 2021

असगर वजाहत के यात्रा आख्यान उनकी रचनाशीलता की उपलब्धि कहे जाएंगे. अपनी नयी पुस्तक उम्र भर सफर में रहा में वे दुनिया के अनेक देशों और भारत के कुछ अनजाने प्रदेशों में ले जाते हैं. इस किताब में उनके कुछ अनोखे प्रयोग भी हैं. जैसे अमेरिकी यात्रा के अनुभवों पर उन्होंने दो कहानियां लिखी थीं.

ज्ञान चतुर्वेदी: व्यंग्यकार

संगत पुरानी रंगत नई

11 फरवरी 2021

कोरोना के चलते उपजे अंतराल के बाद फिर चल पड़ा साहित्यिक-सांस्कृतिक उत्सवों का सिलसिला

तुम्हें खोजने का खेल खेलते हुए

किताबेंः एक कवि से खरे संवाद

11 फरवरी 2021

फ्रांसीसी लेखक मालरो की संस्मरणों की किताब का नाम ही ऐंटी मेमोयर है. विष्णु खरे मुझसे आठ साल बड़े थे पर हम दोनों हमउम्र दोस्त ज्यादा बन गए थे.