scorecardresearch
 

प्रधान संपादक की कलम से

इतने प्रतिभावान और अनुभवी नेताओं के रहते कांग्रेस में आजादी के बाद 54 साल तक सत्ता में रहने के बावजूद गांधी परिवार के अलावा कोई ऐसा नहीं

31 जुलाई, 2019 का आवरण 31 जुलाई, 2019 का आवरण

नरेंद्र मोदी ने दिसंबर 2002 में गुजरात में अपने पहले विधानसभा चुनाव प्रचार अभियान के दौरान एक अनौपचारिक बातचीत में मुझसे कहा था, ''आप जानते हैं कि आज की भारतीय राजनीति की सबसे बड़ी ट्रैजडी बतौर राष्ट्रीय पार्टी कांग्रेस का पतन है. देश दो राष्ट्रीय पार्टियों के रहने से बेहतर होता.'' यह सुनकर एक पल को मैं हैरान रह गया था.

उस वक्त मुझे, या शायद उन्हें भी, यह एहसास बमुश्किल ही था कि वे ही उसे बेमानी होने की कगार पर धकेल देंगे. यह उनकी गलती नहीं है. प्रतिद्वंद्वी पार्टियों से एक-दूसरे के प्रति यही तो उम्मीद की जाती है. अलबत्ता, किसी जीवंत लोकतंत्र के लिए मजबूत विपक्ष का होना मुख्य शर्त है. वह सत्तारूढ़ का वाजिब विकल्प होता है, जिम्मेदार बहस तथा लोकतांत्रिक मशविरे को बढ़ावा देता है और सरकार की भूल-चूक और गड़बडिय़ों पर उंगली उठाता है. इसके बिना लोकतंत्र बेमानी हो जाएगा.

इसी वजह से, ठीक साल भर बाद, हमने जानना चाहा था कि क्या देश की प्रमुख विपक्षी पार्टी गर्त से उठ खड़ी हो सकती है. साल भर बाद भी हालात उतने ही संगीन हैं. पार्टी लगातार ढलती जा रही है, अभी भी वह 2014 और 2019 की भारी पराजय से उबर नहीं पाई है, जिसमें उसे क्रमश: 44 और 52 संसदीय सीटें मिली थीं.

हर राजनैतिक पार्टी तीन खंभों—नेतृत्व, संगठन और विचारधारा—पर टिकी होती है. फिलहाल कांग्रेस में नेतृत्व पर उलझन है. कोई नहीं जानता किसके हाथ कमान है. ऐतिहासिक तौर पर कांग्रेस एक छतरी जैसी पार्टी हुआ करती थी, जिसमें विभिन्न मान्यताओं के लोगों के लिए जगह थी. देश में ध्रुवीकरण की राजनीति के बढ़ने से वह 1990 के दशक से ही अपना ज्यादातर वोट बैंक खोने लगी. पहले आया मंडल जिससे जाति पहचान को बढ़ावा मिला और उससे दलित वोट बसपा और ओबीसी वोट सपा तथा राजद की ओर खिसक गए. उसके बाद मंदिर आंदोलन शुरू हुआ तो हिंदू राष्ट्रवादी वोट भाजपा के पाले में जा बैठे. कांग्रेस के पास मतदाताओं को बताने के लिए कोई सुसंगत नजरिया नहीं बचा. उसने कहा कि वह गरीब हितैषी है, मगर भाजपा ने भी यही कहा.

कैडर आधारित भाजपा के उलट, कांग्रेस स्वयंसेवकों की पार्टी है, जिनके लिए सबसे बड़ा चुंबक सत्ता है. बिना सत्ता के कांग्रेसी हरियाली ढूढंने निकल पड़ते हैं या चुप बैठ जाते हैं. यह कोई अचानक नहीं हुआ है. पार्टी लगातार उन राज्यों को गंवाती रही है, जहां कोई जमीनी संगठन खड़ा हो गया. 1960 के दशक के आखिर में उसने तमिलनाडु गंवाया, 1977 में पश्चिम बंगाल, 1990 के दशक में बिहार, उत्तर प्रदेश और ओडिशा. इन राज्यों में वह कभी दोबारा जीत नहीं सकी. गुजरात में कांग्रेस लगभग 30 साल से सत्ता से बाहर है, बस दो साल के लिए गठजोड़ सरकार अपवाद है. ऐसे रिकॉर्ड से कोई आश्चर्य नहीं कि जब उसका सामना अनुशासित कैडर वाली भाजपा से हुआ तो उसका संगठन बिखर गया. भाजपा की सदस्य संख्या अब 18 करोड़ है.

पार्टी का अप्रभावी केंद्रीय नेतृत्व, ढहता संगठन और विचारधारा के अभाव का तिहरा संकट अब और बिगड़ा हुआ ही लगता है. गांधी परिवार पर उसकी अति निर्भरता उसके पतन का कारण साबित हुई, जो पार्टी को एकजुट रखने का इकलौता चुंबक है. उम्रदराज सोनिया गांधी अब वह जादू नहीं दिखा सकतीं, जो उन्होंने दशक भर पहले दिखाया था. कांग्रेस के अंतरिम अध्यक्ष का उनका कार्यकाल 10 अगस्त को खत्म हो रहा है और उनकी जगह कौन लेगा, यह साफ नहीं है. प्रियंका गांधी ने खुद को उत्तर प्रदेश तक सीमित कर लिया है और उनकी आजमाइश अभी बाकी है.

राहुल गांधी परीक्षा में उतरे लेकिन फेल हो गए. वे साल भर पहले कांग्रेस अध्यक्ष के पद से हट गए और अब उन्होंने अपनी एक अजीब दुनिया कायम कर ली है, मानो एक अकेले के गिराओ दस्ता हों, जो ज्यादातर सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साध रहे हैं. नया अध्यक्ष तलाशना बेहद अहम है क्योंकि कांग्रेस को अपनी खोई जमीन को वापस पाने के लिए एकजुट होने की जरूरत है. पार्टी नेता उतने ही अच्छे होते हैं, जितना उनका संगठन. छह साल तक सत्ता से बाहर रहने के बावजूद कांग्रेस का संगठनात्मक ढांचा बुरे हाल में है.

केंद्रीय नेतृत्व में उलझन की वजह से क्षत्रपों के कंधे पर भाजपा से लडऩे का जिम्मा आ गया है. भाजपा ने दलबदल के जरिए कर्नाटक और मध्य प्रदेश की सरकारों को गिरा दिया. अब राजस्थान में भी पार्टी की सरकार कच्चे धागे के सहारे झूल रही है. वहां पुराने और नए नेताओं में ठन गई है और गांधी परिवार तय नहीं कर पा रहा है कि किसका साथ दे. पार्टी संभावना वाले युवा नेताओं को एक के बाद एक खो रही है. ज्योतिरादित्य सिंधिया मार्च में विदा हुए और भाजपा में शामिल हो गए. राजस्थान में सचिन पायलट बाहर के रास्ते पर हैं.

पिछले साल पार्टी ने लोगों को यह बताने का मौका गंवाने का कोई उपक्रम जाया नहीं होने दिया कि वह कहां खड़ी है. उसके पास महामारी का कोई जवाब नहीं है. वह सरकार को लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों की दुर्दशा पर नहीं घेर पाई. पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ जारी टकराव दूसरा मौका था, जब कांग्रेस को सरकार की नाकामियों के लिए जिम्मेदार सवाल करने चाहिए थे, लेकिन वह मौका भी, लगता है, गंवा दिया गया. कोरोना संकट के पहले भी कांग्रेस ढहती अर्थव्यवस्था और बढ़ती बेरोजगारी के मुद्दे को अपने फायदे में भुनाने में नाकाम रही.

हमारी आवरण कथा 'क्या कांग्रेस बिखर रही?' देश की सबसे पुरानी पार्टी के वजूद के संकट और उसकी आगे की राह पर नजर डालती है. इसे एसोसिएट एडिटर कौशिक डेका ने लिखा है. हमने यह जानने के लिए प्रतिष्ठित बुद्धिजीवियों, राजनीतिकों और कांग्रेस नेताओं का भी रुख किया कि क्या पार्टी वाकई गंभीर मर्ज की शिकार है और उसमें जान फूंकने के लिए क्या जरूरी है.

इनमें कांग्रेस सांसद शशि थरूर से लेकर फ्रांसीसी राजनीति विज्ञानी क्रिस्टोफ जैफरलो, वरिष्ठ कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद, असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई, सामाजिक-राजनैतिक कार्यकर्ता सुधींद्र कुलकर्णी, कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी, अशोका यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर महेश रंगराजन, राजनीति विज्ञानी जोया हसन, कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला और राजनीति विज्ञानी सुहास पलशिकर हैं.

लाख टके का सवाल तो यह है कि क्या कांग्रेस, गांधी परिवार के बिना कायम रह सकती है? हमारे सभी पैनलिस्टों का मानना है कि नहीं कायम रह पाएगी. कुलकर्णी बेहतरीन अंदाज में कहते हैं, ''परिवार पार्टी के लिए जरूरी है, लेकिन वह देश के लिए गैर-जरूरी बन गया है.'' अफसोस कि इतने प्रतिभावान और अनुभवी नेताओं के रहते कांग्रेस में आजादी के बाद 54 साल तक सत्ता में रहने के बावजूद गांधी परिवार के अलावा कोई ऐसा नहीं है, जिसकी देशव्यापी पहुंच हो और कई राज्यों में पकड़ हो. यह भारतीय लोकतंत्र के लिए बेहद दुखद है कि कोई सार्थक विपक्ष ही नहीं है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें