scorecardresearch
 

दहशत और नाउम्मीदीः छत्तीसगढ़

सभी राज्यों में स्वास्थ्य सेवाएं चरमराईं, अस्पतालों में बिस्तर पाने के लिए हाथ-पैर मार रहे मरीज, कोविड टेस्ट रिपोर्ट आने में कई-कई दिन लग रहे और ऑक्सीजन तथा जरूरी दवाइयों की भारी किल्लत .

रायपुर में एक इनडोर स्टेडियम को बनाया गया कोविड केंद्र रायपुर में एक इनडोर स्टेडियम को बनाया गया कोविड केंद्र

ग्राउंड जीरो राज्यः छत्तीसगढ़
 

पिछले साल संक्रमण के मामलों की बहुत कम संख्या, ठीक होने की अच्छी दर और राज्य का बड़ा हिस्सा कोविड से अछूता रहा तो छत्तीसगढ़ को काफी वाह-वाही मिली थी. लेकिन राज्य कोविड की दूसरी लहर की चपेट में है. 19 अप्रैल तक संक्रमण के 1,29,000 सक्रिय मामले के साथ यह देश में चौथा सबसे बुरी तरह ग्रस्त राज्य है.

छत्तीसगढ भी मान बैठा था कि कोविड का बुरा दौर गुजर गया. राजधानी रायपुर में रोजाना पॉजिटिव मामलों की तादाद 30 से कम हो गई थी. कई लोगों को आशंका है कि मार्च में सड़क सुरक्षा कार्यक्रम के हिस्से के रूप में 40,000 दर्शक क्षमता वाले रायपुर स्टेडियम में आयोजित टी20 क्रिकेट टुर्नामेंट ही कोविड के भयानक प्रसार का कारण बना.

छत्तीसगढ़ में फिलहाल अस्पतालों में बिस्तरों, ऑक्सीजन और रेमडेसिविर जैसी जरूरी दवाइयों की भारी किल्लत है. राज्य में कुल 26,042 कोविड बिस्तर हैं, जिनमें 8,088 ऑक्सीजन वाले और 2,550 आइसीयू बिस्तर हैं. 20 अप्रैल को सिर्फ 2,006 ऑक्सीजन बिस्तर और 171 आइसीयू बिस्तर खाली थे. ये भी तेजी से भर रहे थे. रायपुर में स्वास्थ्य सेवाओं पर इसलिए भी दबाव है क्योंकि करीब आधा दर्जन पड़ोसी जिलों से भी यहां मरीज पहुंचते हैं. 

स्वास्थ्य विभाग की योजना 1,000 नए आइसीयू बिस्तर तैयार करने और निजी अस्पतालों में 50 फीसद बिस्तर कोविड मरीजों के लिए आरक्षित करने की है. इसके अलावा, 6,000-7,000 ऑक्सीजन वाले बिस्तर तैयार करने की कोशिश चल रही है. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का मानना है कि हालात नाजुक हैं लेकिन आंकड़ों के मामले में पूरी तरह पारदर्शिता बरती जा रही है, इसी वजह से शुरू में ज्यादा मामले प्रकाश में आए.

उनका कहना है कि टेस्ट अधिक होने से मामले भी ज्यादा दिख रहे हैं. टेस्ट के बारे में राज्य का दावा सही हो सकता है. 2.3 करोड़ की आबादी वाले राज्य में रोजाना 48,000 टेस्ट हो रहे हैं और उसमें इजाफा किया जा रहा है. इसके तुलना में पड़ोसी मध्य प्रदेश की आबादी 7.23 करोड़ (2011 जनगणना) है जबकि रोजाना सिर्फ 50,000 टेस्ट ही हो रहे हैं.

कोविड मौतों के मामलों में भी छत्तीसगढ़ पारदर्शिता बरत रहा है, 19 अप्रैल को दर्ज 165 मौत में 104 कोविड से बताई गई जबकि बाकी कोविड मरीजों की मौत अन्य बीमारियों से हुई. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंह देव ने कहा, ''हम पूरी पारदर्शिता बरत रहे हैं क्योंकि हम इसे इस संकट से निपटने के लिए अनिवार्य मानते हैं.’’ दवाइयों की किल्लत पर वे कहते हैं सरकार ने रेमडेसिविर के 90,000 वायल का ऑर्डर दे दिया है और 45,000 वायल की और खरीद की प्रक्रिया चल रही है.

अधिकारियों को आशंका है कि 30 अप्रैल तक राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या 1,70,000 हो जाएगी. रायपुर एम्स के निदेशक डॉ. नितिन नगारकर ने मीडिया में कहा कि राज्य में करीब 70,000 ऑक्सीजन बिस्तर की जरूरत पड़ेगी. फिलहाल तो छत्तीसगढ़ काफी दूर है.
 —राहुल नरोन्हा

रेमडेसिविर के 90,000 वायल का ऑर्डर दिया गया है और 45,000 वायल की खरीद की प्रक्रिया जारी है.
पॉजिटिव दर (20 अप्रैल)
30.81 %
सक्रिय मामले
(1 मार्च से 20 अप्रैल तक)
261,483
कोविड से मौत
(1 मार्च से 20 अप्रैल तक)
2,432.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें