scorecardresearch
 

बाल अपराधी: किसे कहेंगे बालिग

उम्र तय करना आसान नहीं है क्योंकि लोगों का अलग-अलग टाइम क्लॉक होता है.

दिल्ली गैंग रेप का सबसे छोटा और सबसे बर्बर हत्यारा क्या कत्ल के आरोप से बच जाएगा? जी हां, कानून के मुताबिक इसकी काफी हद तक आशंका है. उसके स्कूल रिकॉर्ड के मुताबिक वह ‘‘बालिग’’ है. विधिवेत्ताओं ने इस मामले में अंतिम फैसला डॉक्टरों पर छोड़ दिया है. लेकिन यहां भी समानता ही दिख रही है.

चिकित्सीय तौर पर कोई ऐसा पक्का परीक्षण नहीं हो सकता जिससे किसी व्यक्ति की महीने और दिन तक की उम्र निर्धारित की जा सके. ऐसा नहीं होता कि शरीर की पूरी व्यवस्था किसी खास उम्र में वयस्क की तरह काम करने लगे. किसी कानूनी पेचीदगी के लिए चिकित्सीय साक्ष्य-कौन नाबालिग है और कौन बालिग-बहुत हुआ तो उम्र का निर्धारण कर सकता है और इसमें बच निकलने की गुंजाइश रहती है.

एम्स में फॉरेंसिक एक्सपर्ट डॉ. टी.डी. डोगरा 30 साल तक कानून और चिकित्सा के बीच इस अस्पष्ट साझेदारी को अंजाम देते रहे हैं. उन्होंने बताया, ‘‘मेरे पहले 10 साल में किसी नाबालिग के हिंसक यौन अपराध का एक मामला भी नहीं आया था. अब अदालतों से हमारे पास हर हफ्ते ऐसे कई मामले आते हैं जिनमें उम्र को लेकर संदेह रहता है.’’age

वयस्कों के ग्रोथ पैटर्न को समझने के लिए कई तरह के परीक्षण किए जाते हैं: हड्डियों की परिपक्वता की जांच के लिए एक्स-रे, दांतों के बारे में जानकारी और सेकंडरी सेक्स विशेषताओं का पता लगाना. उम्र मापने के लिए बोन ऑसिफिकेशन एक स्टैंडर्ड टेस्ट है.

एम्स में ऑर्थोपेडिक्स के प्रोफेसर डॉ. राजेश मल्होत्रा ने कहा, ‘‘ऑसिफिकेशन ऐसी प्रक्रिया है जिससे नरम कार्टिलेजिनस (उपास्थि) हड्डियां मिलकर सख्त, वयस्क हड्डियों में बदल जाती हैं.’’ विभिन्न हड्डियां अलग-अलग समय में मिलती हैं, कुछ 16 की उम्र में, कुछ 18 में और कुछ 20 में. वे बताते हैं, ‘‘कार्टिलेज एक्स-रे में नहीं दिखते हैं, इसलिए हम हड्डियों की ग्रोथ के पैटर्न को देखकर किसी व्यक्ति की सही उम्र का निर्धारण करते हैं.’’

डोगरा उदाहरण देते हुए बताते हैं कि हत्या के आरोपी एक लड़के को नाबालिग बताया जा रहा था. वह दिखने में 15 वर्ष का ही लग रहा था, लेकिन उसकी हड्डियों से उम्र 23 वर्ष की होने का खुलासा हुआ. उन्होंने कहा, ‘‘कुछ हड्डियां पूरी तरह से गठित होने में थोड़ा समय लेती हैं.’’ इलियक क्रेस्ट या कूल्हे की हड्डी की मोटी ऊपरी सीमा 21 वर्ष की उम्र तक सख्त होती है. इसी तरह गर्दन की हड्डी (कॉलर बोन) और सीने की हड्डी के बीच जोड़ कम से कम 25 वर्ष की उम्र में बनता है.

जवानी के दिनों में प्रचुर मात्रा में निकलने वाले छह ऐसे हार्मोंस के असर से कार्टिलेज हड्डियों में बदल जाते हैं. लेकिन ऐसे समय में जब यौन संबंधी विकास जल्दी शुरू हो जा रहे हों तब हड्डियों के साथ क्या होता होगा? दिल्ली के अपोलो अस्पताल के एंडोक्राइनोलॉजिस्ट डॉ. अंबरीश मित्तल ने बताया, ‘‘जल्दी जवान होने का जोखिम यही है कि हड्डियों की उम्र पहले ही बढ़ जाए.’’ जिस लड़की का पहला पीरियड 8 वर्ष की उम्र में आया हो, उसका दूसरों के मुकाबले बढऩा रुक सकता है, लेकिन उसकी हड्डियां तब 12 या 13 वर्ष की उम्र जैसी हो सकती हैं.

मित्तल ने कहा, ‘‘थायराइड और ग्रोथ हार्मोंस के डिसऑर्डर और खराब पोषण से भी हड्डियों की उम्र बदल जाती है.’’ अब और जटिल टेस्ट आ रहे हैं. इस साल बीसीसीआइ ने जूनियर क्रिकेट में उम्र की जालसाजी रोकने के लिए टैनर-व्हाइटहाउस 3 बोन टेस्ट की व्यवस्था की है. यह हाथ और कलाई की हड्डियों से कंकाल की परिपक्वता का पता लगाता है. हालांकि अभी इस टेस्ट को इंटरनेशनल क्रिकेट कौंसिल ने हरी झंडी नहीं दिखाई है. 

बंगलुरू के नेशनल सेंटर फॉर बायोलॉजिकल साइंसेज की न्यूरोबायोलॉजिस्ट डॉ. सुमंत्र चटर्जी ने कहा कि बायोलॉजी के हिसाब से 18 वर्ष की उम्र निर्धारित कर देना मनमाना तरीका ही है. उन्होंने कहा, ‘‘शरीर के विभिन्न प्रणाली का अलग-अलग टाइम क्लॉक होता है.’’ नौजवानों का दिमाग 15-16 वर्ष की उम्र तक बहुत लचीला होता है. युवा जितनी तेजी से कोई चीज सीखते हैं, उतनी तेजी से वे तनाव के शिकार भी हो जाते हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘जब कोई युवा एक जोड़ी जूतों के लिए हत्या कर देता है तो कोई यह कह सकता है कि शायद लगातार हिंसा के संपर्क में रहने की वजह से उसका दिमाग बुरी तरह प्रभावित हो गया था.’’ पूरे अमेरिका में नाबालिगों को अपराध से दूर रखने के लिए नारा अपनाया गया है-‘‘एडल्ट टाइम फॉर एडल्ट क्राइम.’’ कुछ नाबालिग अपराधों में भारी बर्बरता से बचा नहीं जा सकता. मेडिकल वर्ल्ड में 15 से 16 वर्ष की उम्र के बाद पैथोलॉजिकली दिमाग की वायरिंग में पूरी तरह से बदलाव की संभावनाएं कम रहती हैं. इसका निर्णय विधिवेत्ताओं पर ही छोड़ते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें