scorecardresearch
 
डाउनलोड करें इंडिया टुडे हिंदी मैगजीन का लेटेस्ट इशू सिर्फ 29/- रुपये में

तीन तलाकः पहला मोर्चा जीता, जंग जीतना बाकी

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से उम्मीद तो जगी है लेकिन कई पीड़ित औरतों का कहना है कि उन्हें हक दिलाने के लिए सरकार को अभी और कदम उठाने की जरूरत है

X
एम. रियाज़ हाशमी
एम. रियाज़ हाशमी

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर शहर की अतिया साबरी सुप्रीम कोर्ट में आखिरकार अपनी श्जंग्य जीत गई हैं. मजहर हसन की बेटी अतिया को उसके शौहर उत्तराखंड के लक्सर (हरिद्वार) निवासी वाजिद ने कागज के एक टुकड़े पर तीन बार तलाक लिखकर भेजा और सोचा था कि पीछा छूट जाएगा, लेकिन अतिया ने अपने हक की लड़ाई को यहीं से जंग में तब्दील किया.

 

दो बेटियों शाजिया (अब चार वर्ष) और सना (अब दो वर्ष) के साथ अपने मायके में रह रहीं अतिया को बेटा पैदा न होने और दहेज के लिए ससुराल से निकाल दिया गया था. 12 दिसंबर, 2015 को जब अतिया ने दहेज उत्पीडऩ का सहारनपुर की मंडी कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया तो उन्हें जनवरी 2016 में तलाक दे दिया गया. अतिया ने 8 जनवरी, 2017 को सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की. 21 मार्च, 2017 को पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान ही अतिया के पति वाजिद अली और उसके पिता सईद अहमद को गिरफ्तार कर लिया था.

 

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अतिया ने इंडिया टुडे से कहा, ''मैं बहुत खुश हूं. अदालत ने औरतों के साथ न्याय किया है. उक्वमीद है कि अब केंद्र सरकार जो कानून बनाएगी वह भी मुसलमान महिलाओं के हक में होगा."

 

इसी ''जंग" की एक और ''योद्धा" हैं उत्तराखंड के ऊधम सिंह नगर में काशीपुर के हेमपुर डिपो निवासी इकबाल अहमद की पुत्री शायरा बानो. इसी तरह दिल्ली से 350 किमी दूर यूपी के शाहजहांपुर में रहने वाली रजिया नहीं जानतीं कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से उसे इंसाफ मिलेगा या नहीं. शौहर ने शादी के आठ साल बाद रजिया को एक ही झटके में तीन तलाक दे डाला. वह सऊदी अरब भाग गया. रजिया दो बेटियों को पाल रही हैं और अब इन्हीं के सहारे जिंदगी कट रही है. रजिया बताती हैं, ''मैं इंसाफ मांगने पुलिस थाने भी गई थी, लेकिन पुलिस ने इसे पर्सनल लॉ का मामला बताते हुए कोर्ट जाने की सलाह दी थी. कोर्ट में केस चल रहा है, लेकिन उन आठ साल का इंसाफ मुझे नहीं मिल पाएगा, जो शौहर के साथ गुजरे."

 

बनारस की शबाना परवीन के कानों में 17 साल से ''तलाक, तलाक, तलाक" शब्द गूंज रहे हैं. शबाना सुप्रीम कोर्ट के फैसले से खुश हैं. वे कहती हैं, ''हम पर जो बीत चुकी वह अब दूसरी बच्चियों पर न गुजरे. मैं अपनी लड़ाई कोर्ट में लड़ रही हूं और उम्मीद है कि इस फैसले का असर पड़ेगा." तलाक के बाद ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर आंगनवाड़ी में नौकरी कर रही शबाना को मलाल है कि फैसला ऐसे वक्त आया है जब सरफराज दूसरी शादी कर चुका है और उसके तीन बच्चे भी हैं.

 

अमरीन बानो जोधपुर (राजस्थान) की शिव कॉलोनी में रहती हैं. पति वसीम ने एक ही झटके में तीन बार तलाक बोलकर अमरीन को घर रवाना कर दिया था. लेकिन अमरीन ने राजस्थान हाइकोर्ट में याचिका दायर कर इसे ''अधूरा तलाक" कहते हुए इंसाफ मांगा. हाइकोर्ट ने वसीम के दूसरे निकाह पर अंतिरम रोक लगाई. अमरीन कहती हैं, ''मुझमें इंसाफ की उम्मीद जगी है. जिस बात को मैंने सबसे पहले उठाया, उसे देश के शीर्ष न्यायालय ने गैर इस्लामी करार दे दिया है."

 

लखनऊ की हिना का दर्द भी इन जैसा ही है. 1996 में उनकी शादी हुई थी. एक बेटा पैदा हुआ. 2009 में अचानक शौहर ने एक काजी से फतवा लेकर बिना नोटिस दिए तलाक दे डाला. शौहर ने दूसरी शादी कर ली. पूर्व शौहर एक हजार रु. गुजारा भत्ता देता है, जो नाकाफी है. हिना कहती हैं, ''सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने राहत दी है, पर अभी काफी कुछ बाकी हैं. गुजारा भत्ता की रकम इतनी मिलनी चाहिए कि हम परिवार चला सकें. हमें तलाक देकर शौहर तो बरी हो जाते हैं, मगर हम महिलाएं कहां जाएं और किससे सहारा मांगें."

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें