scorecardresearch
 

सुर्खियों के सरताजः गरीबी से लड़ता योद्धा

गरीबी और विकास के अर्थशास्त्र पर बनर्जी और डुफ्लो के एक दशक से भी ज्यादा समय से चल रहे काम ने उन्हें अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार दिलाया.

मेधा का सम्मान  10 दिसंबर को स्वीडन के कॉर्ल गुस्ताफ से नोबल पुरस्कार ग्रहण करते अभिजीत बनर्जी मेधा का सम्मान 10 दिसंबर को स्वीडन के कॉर्ल गुस्ताफ से नोबल पुरस्कार ग्रहण करते अभिजीत बनर्जी

अभिजीत बनर्जी, 58 वर्ष

अर्थशास्त्री

अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी को फ्रेंच-अमेरिकी पत्नी एस्थर डुफ्लो और अमेरिकी साथी माइकल क्रेमर के साथ 'वैश्विक गरीबी दूर करने के व्यावहारिक दृष्टिकोण' पर 2019 का अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार मिलने के काफी पहले उनके काम को 2011 में बेस्टसेलर रही उनकी और डुप्लो की किताब 'पूअर इकॉनॉमिक्स' में पेश किया जा चुका था. आठ साल बाद उन्हें पुरस्कार देने की घोषणा करते हुए नोबेल समिति ने लिखा, ''इस वर्ष के लिए चयनित विद्वानों के काम ने वैश्विक गरीबी से लडऩे की हमारी क्षमता को उल्लेखनीय रूप से बढ़ाया है... उनके नवीन प्रयोग-आधारित दृष्टिकोण ने विकास के अर्थशास्त्र को रूपांतरित कर दिया है.' (तीनों विद्वानों ने घोषणा की है कि वे पुरस्कार के रूप में मिली लगभग 6.5 करोड़ रुपये की धनराशि को विकास के अर्थशात्र में अनुसंधान के लिए हार्वर्ड विश्वविद्यालय की ओर से संचालित वीस फंड को दान कर देंगे.)

बनर्जी ने कलकत्ता विश्वविद्यालय और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में पढ़ाई के बाद 1988 में हार्वर्ड विश्वविद्यालय से पीएच.डी. की उपाधि हासिल की थी. फिलहाल वे मैसाचुसेट्स इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलॉजी (एमआइटी) में अर्थशास्त्र के फोर्ड फाउंडेशन अंतरराष्ट्रीय प्रोफेसर हैं. 2003 में बनर्जी ने प्रोफेसर डुप्लो और सेंधिल मुल्लइनाथन के साथ मिल कर अब्दुल लतीफ जमील पॉवर्टी ऐक्शन लैब (जे-पीएएल) की स्थापना की थी और वे इसके निदेशकों में शामिल हैं. बनर्जी और डुप्लो ने पुरस्कार विजेता जे-पीएएल के माध्यम से विकास के अर्थशास्त्र में रेंडमाइज्ड ट्रायल्स (परीक्षणों) का उपयोग आरंभ किया था.

2010 तक जे-पीएएल के शोधकर्ताओं ने 40 देशों में 240 प्रयोग पूरे कर लिए थे या कर रहे थे और बहुत सारे संगठन, शोधार्थी तथा नीति-निर्माता प्रयोगों के विचार को अपना चुके थे. बनर्जी और डुफ्लो ने पूअर इकॉनॉमिक्स में लिखा था कि 'प्रतिक्रियाओं से पता चलता है कि बहुत से लोग हैं जो हमारे इस मूल विचार को स्वीकार करते हैं कि दुनिया की सबसे बड़ी समस्या के खिलाफ बहुत सुविचारित, ध्यान से परीक्षित और विवेकपूर्ण तरीके से लागू किए गए छोटे-छोटे कदमों से अत्यंत महत्वपूर्ण प्रगति की जा सकती है.' बनर्जी ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव के 2015-पश्चात विकास एजेंडे पर प्रख्यात लोगों के उच्चस्तरीय दल में भी सेवाएं दी थीं.

अपने विचारों की अभिव्यक्ति में न हिचकिचाने वाले बनर्जी से नोबेल पुरस्कार जीतने के बाद जब मीडिया ने भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि यह 'बहुत बुरी दशा' में है और सरकार को सलाह दी कि वह वित्तीय स्थिरता के बारे में बहुत चिंतित हुए बिना मांग को पुनर्जीवित करने पर ध्यान केंद्रित करे.

सुर्खियों की वजह

2019 का अर्थशास्त्र का नोबेल पु्रस्कार संयुक्त रूप से उन्हें, उनकी पत्नी एस्टर डुफ्लो और साथी माइकल क्रेमर को मिला

गरीबी पर अध्ययन की उनकी नई प्रयोगधर्मी सोच ने विकास के अर्थशास्त्र को बदल दिया जो अब अनुसंधान का लोकप्रिय विषय है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें