scorecardresearch
 

आवरण कथा

अदिति नैयर

आवरण कथाः आर्थिक बहाली का खाका

19 जनवरी 2021

बोर्ड ऑफ इंडिया टुडे इकॉनॉमिस्ट्स के विशेषज्ञ बता रहे हैं कि वे क्या उम्मीद करते हैं केंद्रीय बजट 2021 से

आर्थिक झटका ग्रेटर नोएडा में ठप पड़ा रियल एस्टेट का एक प्रोजेन्न्ट

आवरण कथाः खुलकर खर्च करने का वक्त

19 जनवरी 2021

2021 के बजट पर टिकी हैं भारी उम्मीदें—सरकार को चाहिए कि अर्थव्यवस्था को गिरते ग्रोथ, मांग और निवेश की दलदल से उबारे.

दिल्ली में आठ महीने बाद 15 अक्तूबर को कोविड प्रोटोकॉल के साथ एक पीवीआर थिएटर खुला

सुर्खियों के सरताजः कुछ खट्टा, कुछ मीठा

17 जनवरी 2021

महामारी और लॉकडाउन ने सिनेमाघरों को सूना कर दिया तो एक्टरों और दर्शकों दोनों के लिए ओटीटी प्लेटफॉर्म बन गया वरदान

नई पढ़ाई ऑनलाइन क्लास के दौरान प्रोफेसर वाधवा; और  (इनसेट) प्रीतोम लॉग इन के जरिए

‘‘हमें ऑनलाइन के हिसाब से परीक्षा का तरीका बदलना होगा’’

17 जनवरी 2021

ऑनलाइन कक्षाएं 23 मार्च से शुरू हुईं और कॉलेज के अपने आइटी विभाग ने सभी को प्रशिक्षण दिया कि एमएस टीम्स में कक्षाएं कैसे ली जाएं.

इम्तिहान की घड़ीजून में भोपाल में मध्यप्रदेश स्कूल बोर्ड की परीक्षा देते छात्र

सुर्खियों के सरताजः पढ़ाई का दुर्गम मोर्चा

17 जनवरी 2021

कोविड की वजह से लगाए गए लॉकडाउन में बंद स्कूलों और ऑनलाइन पढ़ाई के बेअसर होने से शिक्षा व्यवस्था तबाही के कगार पर

उतार-चढ़ाव महामारी प्रियांशी कपूर (दाएं से दूसरी) और उनके परिवार के लिए झकझोर देने वाला दौर रहा. पहले लॉकडाउन की वजह से कामकाज कुछ वक्त के लिए ठप हो गया और फिर उसके बाद पूरा परिवार संक्रमित हो गया था

‘‘कोविड के पहले 10 दिन बेहद तनाव भरे थे’’

17 जनवरी 2021

प्रियांशी याद करती हैं, ‘‘त्यौहार आने वाले थे पर कोई उत्साह नहीं था.’’ उनके पति शिव 'सीजन टाइम’ में एसडीएस पर काम नहीं कर पाए.

किशोर महबूबानी

आवरण कथाः भारत के लिए सबसे बड़ा अवसर

14 जनवरी 2021

आर्थिक मोर्चे पर मुकाबला ही 21वीं सदी का ‘‘ग्रेट गेम’’ होने वाला है. भारत को वैश्विक प्रतिस्पर्धाओं के लिए अपने द्वार खोलने होंगे. इससे अल्पावधि में रचनात्मक क्षति तो होती है लेकिन दीर्घावधि में यह आर्थिक शक्ति बनने की ओर अग्रसर करता है.

चीन और पाकिस्तान के बीच सैन्य स्तर पर जो गलबहियां हो रही हैं वह इस समय देश के सामने सबसे बड़ी और साफ नजर आने वाली चुनौती है

आवरण कथाः आगे की डगर आसान नहीं

14 जनवरी 2021

महामारी के साल में कई चुनौतियों के एक साथ आ धमकने का अर्थ है कि सरकार को फौज के आधुनिकीकरण का नए सिरे से आकलन करना होगा, बजट की प्राथमिकताएं बदलनी होंगी और रक्षा सुधारों में तेजी लानी होगी, जो पिछले दो दशक से अटके पड़े हैं.

डॉ. सौम्या स्वामीनाथन

आवरण कथाः महामारी ने दे दिए बड़े सबक

14 जनवरी 2021

समस्या के हल को लेकर भारत के नजरिए ने कोविड-19 की जंग में मदद की. अब आगे उसे स्वास्थ्य पर प्रति व्यक्ति खर्च बढ़ाने, नई बीमारियों और उससे जुड़ी चिंताओं को प्राथमिकता के आधार पर पहचानने, उससे निबटने को एक अलग कार्यबल बनाने, प्राथमिक स्वास्थ्य के स्तर पर डिलिवरी सिस्टम मजबूत करने और बीमारियों से लडऩे को तकनीक का इस्तेमाल अपनी ताकत बढ़ाने के संदर्भ में करने की जरूरत

नीलकंठ मिश्र

आवरण कथाः बेहतर संभावनाएं शंकाओं के साथ

14 जनवरी 2021

यह महामारी निश्चित रूप से दुनिया भर की अर्थव्यवस्था पर एक गहरा जख्म छोडऩे वाली है. वैश्विक अर्थव्यवस्था और राजनीति में अनिश्चितताओं को देखते हुए हमारे नीति निर्माताओं को अडिय़ल और हठधर्मी रवैया छोड़कर बहुत ही चौकस और चौकन्ना रहना होगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

आवरण कथाः आर या पार का साल 

14 जनवरी 2021

साल 2021 में नरेंद्र मोदी के कामकाज से यह तय होगा कि वे राजनीतिज्ञ की तरह उभरेंगे या फिर उनके लिए 2024 की राह मुश्किल हो जाएगी. विपक्ष के लिए भी शायद यह आखिरी मौका होगा कि वे एकजुट होकर मोदी का विजय रथ रोक लें.