scorecardresearch
 

आम आदमी पार्टी को मिटाना चाहते हैं कुछ लोग: योगेंद्र यादव

योगेंद्र यादव कहते हैं कि कुछ लोग आम को मिटाना चाहते हैं और एक बड़ा शून्य है जिसे कांग्रेस नहीं भर सकती, मोदी और बीजेपी से लोहा लेने की ऊर्जा सिर्फ आप में ही है.

आप के सभी पदों से इस्तीफा देने की पेशकश कर पार्टी के लिए भारी मुसीबत खड़ी करने वाले  योगेंद्र यादव ने कहा कि उनका इरादा अनुभवहीन पार्टी में ‘‘सफाई’’ या ‘‘आत्मविश्लेषण’’ को बढ़ावा देना था. इंडिया टुडे के एसोसिएट एडिटर असित जॉली के साथ उनकी बातचीत के कुछ अंशः

यह धारणा बढ़ रही है कि आप कई खेमों में बंट गई है-एक गुट केजरीवाल के प्रति निष्ठा रखता है, कुछ आपके प्रति और एक प्रशांत भूषण जैसे तुलनात्मक रूप से कम मुखर सदस्यों का है?
बहुत से लोग चाहते हैं कि आप भारत की धरती से गायब हो जाए. इस लालसा की वजह से ही मीडिया में पार्टी की ऐसी छवि बनी है. दुनिया में ऐसी कोई पार्टी नहीं है जिसमें भिन्न विचार न हों और जिसमें लोग आंतरिक समायोजन का प्रयास न करते हों ताकि एक-दूसरे से सहमत हो सकें. आप जैसी पार्टी में इसकी उम्मीद और भी की जा सकती है क्योंकि इसमें विभिन्न वैचारिक पृष्ठभूमि और अनुभवों के लोग हैं.  

पहले शाजिया इल्मी बाहर चली गईं. अब आपने चिट्ठी लिख केजरीवाल के नेतृत्व पर सवाल खड़े किए हैं. क्या आप के संयोजक के रूप में केजरीवाल का रहना अब तर्कसंगत नहीं है?
मेरे लेटर से यह बिल्कुल साफ है कि मैं अरविंद के नेतृत्व पर सवाल नहीं खड़े कर रहा. मैंने सहकर्मियों को उस प्रवृत्ति के बारे में चेताया है जो इस देश में और हमारी राजनैतिक संस्कृति में है. हम व्यक्ति पूजा करने लगते हैं, जिसमें राजनैतिक ताकत को घटाकर उसे व्यक्तिगत ताकत तक सीमित कर देने की सहज प्रवृत्ति होती है. मैंने बुनियादी सिद्धांतों के बारे में कुछ सवाल उठाए थे. ज्यादातर मसलों पर राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में चर्चा हुई.

शाजिया इल्मी ने इसी तरह के मसले उठाए थे, लेकिन तब कोई कार्रवाई नहीं हुई?
मैंने पार्टी की ओर से शाजिया को जवाब दिया था. पार्टी ने आधिकारिक रूप से यह स्वीकार किया कि उनकी चिंताएं वाजिब और वैध हैं. हमने उनसे कहा था कि वे पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक तक इंतजार करें ताकि उनकी चिंताओं पर सामूहिक रूप से विचार किया जा सके. कार्यकारिणी ने सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित कर उनसे वापस लौटने का अनुरोध किया है.

क्या इन सबसे कार्यकर्ताओं और वॉलंटियर में भ्रम की स्थिति नहीं पैदा हुई?
यह संभव है कि चुनाव के कुछ दिन बाद तक हमारे वॉलंटियर्स को पार्टी नेतृत्व से साफ संकेत न मिल पाए हों. इससे उनके मनोबल पर असर पड़ा होगा. राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी के आगे बढऩे के लिए एक साफ खाका तैयार किया गया. सभी नकारात्मक बातें जमींदोज हो गईं.

पार्टी छोडऩे वाले नेता शाजिया इल्मी, अश्विनी उपाध्याय और कैप्टन गोपीनाथ अलग गुट बनाने की तैयारी में हैं.
मैं नहीं समझता कि शाजिया इस गुट का हिस्सा होंगी. अश्विनी उपाध्याय आप में किसी जिलास्तरीय कार्यकारी समिति का हिस्सा भी नहीं रहे हैं. उन्होंने खुद पार्टी में शामिल होने की घोषणा की, खुद आलोचना की और खुद ही बाहर निकलने का फैसला लिया.   

मतभेदों के सामने आने से आप को मिलने वाले चंदे की रफ्तार घटी है. क्या समर्थक आधार भ्रम में है?
मुझे इसके बारे में जानकारी नहीं है कि यह सही बात है या नहीं. अगर ऐसा है तो मुझे लगता है कि चंदे की रफ्तार 12 मई को चुनाव खत्म होने के बाद घटी होगी. कोई आप को सहयोग करना चाहता होगा तो उसने अपने योगदान का बड़ा हिस्सा चुनाव के समय के लिए रखा होगा.   

तो आप के लिए आगे की राह क्या होगी?     
जिस चीज को चुनौती माना जा रहा है-बीजेपी और नरेंद्र मोदी का अभूतपूर्व बहुमत के साथ उभार-वही हमारे लिए एक अवसर बन सकता है. विपक्ष की जगह शून्य दिख रहा है. मुझे नहीं लगता कि कांग्रेस इस जगह को भरने की स्थिति में है. आप संसद में अपनी सीमित पहुंच के बावजूद एकमात्र ऐसी पार्टी है जो ऊर्जा से भरी है और यह अगले पांच साल तक मोदी और बीजेपी से लोहा लेगी.

आप के कई विधायकों और सांसदों से दूसरे दलों ने संपर्क किया है.
मुझे पता है कि उन्हें भारी रकम की पेशकश की जा रही है. हमारे सांसद असाधारण लोग हैं जिनका आप में शामिल होने से पहले समाज सेवा का बेहतरीन रिकॉर्ड रहा है. इन लोगों को खरीदा नहीं जा सकता.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें