scorecardresearch
 

''वायु प्रदूषण पर केजरीवाल के झूठ को बेनकाब करूंगा''

2014 से केंद्र की कोशिशों से दिल्ली में वायु की गुणवत्ता बेहतर हुई है और देश भर में ऐसे कई कदम उठाए गए हैं. हम वायु प्रदूषण और अपशिष्ट निकालने वाले 4,000 उद्योगों पर नजर रख रहे हैं.

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर के पास पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय का अतिरिक्ति प्रभार भी है. उन्हें देश में विकास कार्यों को जारी रखने और वैश्विक मंचों पर पर्यावरण के प्रति राष्ट्रीय प्रतिबद्धता का प्रदर्शन करने के बीच नाजुक संतुलन बनाकर चलना पड़ रहा है. सीनियर एडिटर कौशिक डेका के साथ बातचीत में जावडेकर ने भारत के संरक्षण लक्ष्यों, प्लास्टिक के इस्तेमाल के खिलाफ अपने मिशन और अन्य विषयों पर सवालों के जवाब दिए. बातचीत के मुख्य अंश:

आपने कहा है कि पर्यावरण मंत्रालय का काम पंचतत्व—पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और गगन—का संरक्षण करना है. इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए आपका मंत्रालय क्या कर रहा है?

हमारी सरकार ने सबसे ज्यादा जोर जल संरक्षण और उसके समुचित इस्तेमाल पर दिया है. हमने जल से संबंधित मुद्दों को सुलझाने के लिए जलशक्ति मंत्रालय का गठन किया. भारत के हिस्से में विश्व के कुल वर्षाजल का केवल 4 फीसद आता है जबकि हमारी जनसंख्या विश्व की कुल आबादी का 17 फीसद और मवेशियों की संख्या विश्व में पशुओं की कुल संख्या का 20 फीसद है. हम अपने जंगलों में जल-एवं-चारा-संवर्धन मिशन पर काम कर रहे हैं.

2014 से केंद्र की कोशिशों से दिल्ली में वायु की गुणवत्ता बेहतर हुई है और देश भर में ऐसे कई कदम उठाए गए हैं. हम वायु प्रदूषण और अपशिष्ट निकालने वाले 4,000 उद्योगों पर नजर रख रहे हैं. मैं अपने कार्यालय में बैठकर एक लाइव डैशबोर्ड से निर्धारित प्रतिमानों के किसी भी उल्लंघन का पता लगा सकता हूं. हमने वृक्षों का आच्छादन क्षेत्र बढ़ाया है. वनरोपण और जमीन के बेहतर इस्तेमाल के लिए कई कार्यक्रम चलाने के अलावा हमने हाल ही में राज्यों के बीच 50,000 करोड़ रु. का वितरण किया है. यह रकम कंपेंसेटरी अफॉरेस्टेशन फंड ऐक्ट के तहत पिछले 15 वर्षों में जमा हो गई थी. हम वनों के संरक्षण में जनजातीय समुदायों को भी शामिल कर रहे हैं.

दिल्ली में वायु की 'बेहतर' गुणवत्ता के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी श्रेय ले रहे हैं...

केजरीवाल की आदत है कि वे हर उस चीज का श्रेय लेने का दावा करते हैं जो उन्होंने किया ही नहीं. मैं जल्दी ही पूरा विवरण जारी करूंगा कि केंद्र ने दिल्ली में वायु की गुणवत्ता सुधारने के लिए क्या काम किया है और यह भी कि केजरीवाल से क्या-क्या उम्मीद की गई थी जो उन्होंने नहीं किया.

कई विशेषज्ञों का कहना है कि जलवायु परिवर्तन के कारण भारत में मौसम अतिविषम हो गया है पर आपने इस धारणा को खारिज कर दिया था...

यह विशेषज्ञों पर छोड़ देते हैं. अतिविषम मौसम की घटनाएं नई बात नहीं हैं. 1,000 वर्ष पहले भी ये होती थीं. हमारा लक्ष्य है कि पारिस्थितिकी संतुलन बनाए रखने के लिए हरसंभव प्रयास किया जाए. हमारे निरंतर प्रयास के कारण ही हाल के वर्षों में भारत में बाघों की संख्या बढ़ी है जो इस समय विश्व में बाघों की संख्या का 77 फीसद है. हमारे यहां 2,000 से ज्यादा गेंडे भी हैं.

अरुणाचल प्रदेश में दिबांग पनबिजली परियोजना को पारिस्थितिकी के लिए विनाशकारी बताया जा रहा है. इससे पारिस्थितिकी के प्रति आपकी चिंता को किस तरह देखा जा सकता है?

ये दावे तथ्यों पर आधारित नहीं हैं. पर्यावरण पर इसके असर के आकलन के लिए हम तीन अध्ययन करा चुके हैं. हमने बांग्लादेश और भूटान से भी परामर्श किया है. हमें नहीं भूलना चाहिए कि यह 2,880 मेगावॉट का प्रोजेक्ट है जो हमें कोयले से दूर ले जाने में मदद करेगा.

प्रधानमंत्री ने सिंगल-यूज प्लास्टिक के खिलाफ अभियान शुरू किया है. क्या इस पर प्रतिबंध लग सकता है?

प्रतिबंध लगाने का कोई प्रस्ताव नहीं है. प्रधानमंत्री एक बेहतर संस्कृति और प्लास्टिक कचरे के संग्रह और प्रबंधन की बेहतर व्यवस्था को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं. 2 अक्तूबर से प्लास्टिक के कचरे के संग्रह और रिसाइकल का आंदोलन शुरू किया जाएगा.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें