scorecardresearch
 

ओटीटी ऐक्टर्स की संजीवनी

रंगमंच और सिनेमा के अभिनेता कुमुद मिश्र महामारी के सबक, ओटीटी पर आने वाली फिल्म, स्थगित नाटक और बघेली व्यंजनों के बारे में.

कुमुद मिश्र कुमुद मिश्र

रंगमंच और सिनेमा के अभिनेता कुमुद मिश्र महामारी के सबक, ओटीटी पर आने वाली फिल्म, स्थगित नाटक और बघेली व्यंजनों के बारे में.

● बतौर अभिनेता इस दौरान खुद को व्यस्त रखने के लिए क्या-क्या रहे हैं आप?

अपने थिएटर ग्रुप डी फॉर ड्रामा के फेसबुक पेज पर हमने अपने साथी संदीप शिखर के लिखे नाटक ओपन कास्ट और डीलक्स हेयर कटिंग सैलून पढ़े. मकसद यही था कि कम से कम ग्रुप के लोगों के बीच कोई ऐक्टिविटी हो.

मैंने इस दौरान, दुर्भाग्य से पहली बार, शरद जोशी को पढ़ा तो लगा कि कितना मिस कर दिया मैंने. बेटे के साथ तोतोचान खत्म की. वार ऐंड पीस पूरा होने को है, बाद में लगा उसको पढऩे की गलत पकड़ ली. लिखना मेरा रोमांस है पर मैं दो-चार लाइन से ज्यादा लिख नहीं पाता.

● आप रीवा के हैं तो लॉकडाउन में बघेली व्यंजन आजमाए?

आयशा तो शहरी हैं लेकिन बहुत-सी रेसिपीज मां से पूछ-पूछ के बनाती हैं. इंदरहर, लौबरा, कढ़ी. एक दिन बगजा बनाया था. गांव जाता हूं तो मां बनाती ही हैं. रोटी समेत महुए की कितनी रेसिपीज खाई हैं हमने बचपन में. मां पहले सुबह चक्की पीसतीं-दरती थीं. अब तो रीवा में मैक्डी, पिज्जैरिया, डोमिनोज सब खुल गए हैं. सब चीजें छूटती जा रही है.

● महामारी के इस दौर में कलाकारों पर दोहरी मार है: एक तो काम बंद है, ऊपर से मुंबई सबसे ज्यादा चपेट में.

एक समय के बाद लोगों में खतरे का सेंस खत्म हो जाता है. शुरू में जब 500 लोग (संक्रमित) थे त ताली और थाली बजा ली. आज की तारीख में हमारा सेंस ही चला गया है. इस पेशे में डेली वेजेज वाले ज्यादा सफर कर रहे हैं.

मेरी वाइफ (आयशा रजा) का काम 17 से शुरू हो रहा है. अगले महीने से मेरा कुछ काम शुरू होना है. करना ही पड़ेगा. कब तक आप बंद बैठे रहेंगे? दुनिया खत्म हो जाएगी. एक घबराहट, एक भय है. लेकिन एक जिद भी है कि काम तो करना पड़ेगा. चार लोग काम न करने का फैसला कर लें तो चल जाएगा लेकिन उनके भरोसे जो 4,000 लोग जुड़े हैं, उनका क्या होगा?

● थिएटर में नया क्या था आपकी योजना में?

मैं बेंगलूरू जाकर नाट्यलेखक-निर्देशक अभिषेक (मजूमदार) के साथ मुक्तिधाम और कौमुदी नाटक करता रहा हूं. उन्हीं के लिखे 2-3 नए नाटकों में से एक किसान हमने अगस्त-सितंबर तक स्टेज पर लाने को सोचा था. अब इस साल तो उसकी संभावना मुश्किल ही है. अभिषेक के साथ काम की प्रक्रिया अद्भुत है. मैं सिनेमा, टीवी, सीरीज सब काम छोड़कर बेंगलूरू जाता हूं. डेढ़ महीने सिर्फ नाटक पर ध्यान. तैयार किया, शो किए, फिर मुंबई. यहां नाटक के दिनों में भी सब चलता रहता है. पर अभिषेक के साथ उसकी गुंजाइश नहीं.

● इस दौरान ओटीटी पर सिनेमा और वेब सीरीज की बहार आ गई है. इस बीच आपकी भी कोई फिल्म आने को है?

मेरी एक बहुत एंबिशियस फिल्म नितिन कक्कड़ निर्देशित रामसिंह चार्ली इसी महीने सोनी लिव पर रिलीज हो रही है. अमूमन मैं अपने काम के बारे में इतनी बात नहीं करता लेकिन बतौर अभिनेता यह मेरे लिए बेहद खास है. ओटीटी पर वेब सीरीज तमाम ऐक्टर्स के लिए वरदान है.

नॉर्मल दिखने वाली अभिनय प्रतिभाओं को जबरदस्त महत्व मिला है. लेकिन हॉल में बैठकर सिनेमा देखने के जादू का कोई विकल्प नहीं. बड़ी फिल्मों के लिए ओटीटी का अर्थशास्त्र काम नहीं करने वाला. उन्हें नुक्सान हो रहा है... पर 2020 में तो उनके रिलीज की अब संभावना दिखती नहीं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें