scorecardresearch
 

बातचीतः''शिकरा एक आंदोलन है''

मैं बहुत भाग्यशाली हूं कि मुझे 4,000 कश्मीरी पंडितों का सहयोग मिला. उन्होंने यह फिल्म इसलिए की क्योंकि वे चाहते थे कि कोई उनकी कहानी दुनिया को बताए. मैंने उनके साथ बिताए हर पल का भरपूर आनंद लिया.

जख्मों की याद फिल्म शिकारा का पोस्टर जख्मों की याद फिल्म शिकारा का पोस्टर

कश्मीर हमेशा से एक भावनात्मक मुद्दा रहा है और कश्मीरी पंडितों का अनुभव दर्दनाक है. विधु विनोद चोपड़ा कश्मीरी पंडित हैं और उनकी नई फिल्म शिकारा उनके समुदाय की पीड़ा को उजागर करती है. उन्हें उम्मीद है कि फिल्म लोगों को उस वक्त की सचाई से रूबरू कराएगी और पंडितों की घाटी में वापसी का रास्ता भी तैयार करेगी. मुख्य अंश: 

आप 1990 के दशक से ही इस फिल्म को बनाना चाहते थे. इतने साल क्यों लग गए?

मैं लिख रहा था, शोध कर रहा था, लोगों से बात कर रहा था और अभिनेताओं की पहचान कर रहा था, एक प्रामाणिक कहानी बनाने की हर जरूरी तैयारी कर रहा था जो कश्मीरी पंडितों की दुश्वारियों का सच बताने में मददगार हो सके. मेरे लिए, यह एक फिल्म मात्र नहीं है. यह एक तरह का आंदोलन है—राष्ट्र को उस समुदाय की बेबसी और खौफ का एहसास कराने के लिए जिसके साये में वे शरणार्थी शिविरों में पहुंचे थे.

लगे रहो मुन्ना भाई के साथ आप गांधीगीरी को मुख्यधारा की पॉप संस्कृति में लेकर आए. क्या कश्मीरी पंडितों के लिए शिकारा भी ऐसा कुछ कर सकेगी?

शिकारा कश्मीरी पंडितों के पलायन और देश के इतिहास पर लगे इस काले धब्बे का सटीक चित्रण करती है. लोग इस फिल्म को देखेंगे, तो उन्हें कश्मीरी पंडितों से सहानुभूति होगी. मुझे पूरा विश्वास है कि वे सरकार पर दबाव बनाकर यह सुनिश्चित करेंगे कि कश्मीरी पंडित अपनी मातृभूमि वापस लौट सकें. 

एक प्रेम कहानी को इसके केंद्र में रखने की क्यों जरूरत हुई?

फिल्म का मुख्य संदेश यही है कि जब नफरत का सामना करना हो तो प्रेम ही एकमात्र कारगर हथियार है.

अपने निर्वासन को याद कर रहे 4,000 कश्मीरी पंडितों के साथ शूटिंग का अनुभव कैसा रहा?

मैं बहुत भाग्यशाली हूं कि मुझे 4,000 कश्मीरी पंडितों का सहयोग मिला. उन्होंने यह फिल्म इसलिए की क्योंकि वे चाहते थे कि कोई उनकी कहानी दुनिया को बताए. मैंने उनके साथ बिताए हर पल का भरपूर आनंद लिया. हमने कश्मीरी खाना खाया, कश्मीरियों की तरह बातें कीं, उस शानदार दौर को याद किया जब कश्मीर में अमन-चैन था और हमारी जिंदगी सुखपूर्वक कट रही थी. हम सबने एक-दूसरे से वादा किया कि हम वहां जरूर लौटेंगे.

क्या किसी फिल्म या किताब ने इस कहानी के लिए आपको रचनात्मक रूप से प्रेरित किया?

हां, गॉन विद द विंड और डॉक्टर जिवागो दो ऐसी फिल्में हैं जिनमें विकट परिस्थितियों के बीच कालातीत प्रेम को दर्शाया गया है. शिकारा भी ऐसी ही कहानी कहती है.

नियति भट 

जख्मों की याद फिल्म शिकारा का पोस्टर और विधु विनोद चोपड़ा (नीचे)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें