scorecardresearch
 
डाउनलोड करें इंडिया टुडे हिंदी मैगजीन का लेटेस्ट इशू सिर्फ 25/- रुपये में

‘‘बदले की भावना के साथ काम करने वाली ऐसी सरकार मैंने पहले कभी नहीं देखी ’’

पांचवें इंडिया टुडे कॉन्क्लेव ईस्ट में राजदीप सरदेसाई के साथ एक खुली चर्चा में, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने न केवल यह बताया कि भाजपा मुक्त भारत निर्माण के लिए विपक्षी नेताओं को क्या करने की जरूरत है, बल्कि उन्होंने अमित शाह को चेतावनी भी दी कि बंगाल में महाराष्ट्र जैसे दुस्साहस की कल्पना भी उन्हें बहुत महंगी पड़ सकती है.

X
ममता बनर्जी ममता बनर्जी

 महाराष्ट्र के बाद क्या हम विपक्ष मुक्त भारत की ओर बढ़ रहे हैं?
मैंने कई सरकारें देखी हैं, नरसिम्हा राव, राजीव गांधी, देवेगौड़ा, अटल बिहारी वाजपेयी, मनमोहन सिंह के साथ काम किया है, लेकिन बदले की भावना के साथ चलने वाली ऐसी सरकार कभी नहीं देखी. एक चुनी हुई सरकार [महाराष्ट्र में] पैसे के दम पर गिरा दी गई है. इसे गिराने के लिए पैसे के साथ-साथ ईडी-सीबीआइ, क्या कुछ इस्तेमाल नहीं हुआ! मैं समझती हूं कि यह सरकार चलेगी नहीं, क्योंकि यह अनैतिक, अलोकतांत्रिक, अवैध है. 
 
 लेकिन शिवसेना ने भी तो 2019 में पाला बदलकर एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाई थी?

मैं आज और भविष्य की बातें कर रही हूं. केंद्रीय गृह मंत्री क्यों कहते हैं कि मैं बंगाल में वंशवादी शासन को खत्म करके बंगाल पर कब्जा कर लूंगा? आप लोकतंत्र को ध्वस्त कर सकते हैं, लेकिन अगले चुनाव में लोग आपको ध्वस्त कर देंगे.

 भाजपा ने देशभर में वंशवादी शासन समाप्त करने का एक राजनैतिक संकल्प लिया है...

कौन से वंश की बात कर रहे हैं? खेलों में आप (अमित शाह) एक शीर्ष पद पर काबिज हो गए हैं. क्या यह वंशवाद नहीं है? आप मेरे परिवार के एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बातें कर रहे हैं जो दो बार निर्वाचित हुआ है. युवा पीढ़ी को स्वीकार करने में क्या हर्ज है? 

क्या आप मानती हैं कि विपक्ष के पास ऐसा कोई बड़ा स्वीकार्य चेहरा नहीं है जो नरेंद्र मोदी के कद को चुनौती दे सके?

2024 का चुनाव भाजपा के खिलाफ चुनाव होगा. मोदी का नाम क्यों ले रहे हैं? क्या वे भगवान हैं? देश के हालात देखिए—महंगाई, बेरोजगारी की स्थिति देखिए. असम में डेरा डालने वाले लोगों (विधायकों) के लिए विलासिता और अन्य चीजें उपलब्ध कराने के लिए आपके पास पैसे कहां से आते हैं? 

 केंद्र भी आप पर वही आरोप लगाता है—बेरोजगारी, निवेश का अभाव, आलोचकों को निशाना बनाना.

हमें बदनाम करने के लिए एक प्रचार अभियान चलाया गया है. बंगाल में रोजगार में 40 फीसद की वृद्धि हुई. हमारी अर्थव्यवस्था 3.5 गुना बढ़ी है, राजस्व में चार गुना वृद्धि देखी गई और महामारी के दौरान भी हमने सकारात्मक 1.2 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की, जबकि भारत की वृद्धि नकारात्मक थी. हमारा केंद्र पर 98,000 करोड़ रुपए और ग्रामीण विकास के लिए 28,000 करोड़ रुपए बकाया है. वे हमारा पैसा रोककर बंगाल की आर्थिक नाकेबंदी की साजिश कर रहे हैं. 

 लोगों का कहना है कि जब विपक्षी दल राष्ट्रपति चुनाव के लिए एकजुट नहीं हो सकते तो वे 2024 से पहले कैसे एकजुट होंगे?

यह सच है कि विपक्ष बुरी तरह बंटा हुआ है. इस बार अगर हम असफल हुए तो लोग हमें माफ नहीं करेंगे. यशवंत सिन्हा का नाम विपक्ष की ओर से आया, इसे मैंने नहीं सुझाया था. लेकिन मैं उनका समर्थन कर रही हूं. 

केंद्र ने एक आदिवासी चेहरे को आगे किया है, क्या आप उनका समर्थन करेंगी? अगर वे कोलकाता आती हैं तो क्या आप उनसे मुलाकात करेंगी?

हम जाति की राजनीति नहीं करते. अगर उन्होंने हमें (द्रौपदी मुर्मू की उम्मीदवारी के बारे में) बताया होता तो हम उनसे इस पर चर्चा करते. मैं उनसे क्यों नहीं मिलूंगी? लेकिन मैं (विपक्ष) को धोखा नहीं दे सकती. 

 लेकिन क्या आप कांग्रेस की कीमत पर अपनी पार्टी का विस्तार नहीं कर रही हैं? ऐसा राहुल गांधी भी कह रहे हैं. 

बाप रे! आप (राहुल) मुझे नहीं बता सकते कि मुझे क्या करना है. आप जमीनी स्तर पर क्यों नहीं जाते, पार्टी को मजबूत करने के प्रयास क्यों नहीं करते? मैं अपना काम कर रही हूं और करती रहूंगी. 

 लेकिन विपक्षी एकता के लिए कांग्रेस एक महत्वपूर्ण जोड़ तो है. 

केवल कांग्रेस, कांग्रेस ही क्यों हो रहा है? मुझे किसी बड़े पद में कोई दिलचस्पी नहीं है. मैं सिर्फ इतना चाहती हूं कि मेरे देश का विकास हो ताकि युवाओं को रोजगार मिले...एकजुट भारत का निर्माण हो.
 
 विपक्ष-मुक्त बंगाल के आरोप आप पर भी लगे हैं. भाजपा में गए लोगों को आप वापस ला रही हैं 

हमें दल-बदल के लिए विभिन्न पेच-पैंतरों की आवश्यकता नहीं है. वे स्वेच्छा से हमारे पास आ रहे हैं क्योंकि वे नफरत की राजनीति करने वालों के साथ नहीं रहना चाहते.

 आप देश की एकमात्र महिला मुख्यमंत्री हैं, क्या आपके साथ कभी अलग बर्ताव हुआ है?

ईमानदारी से कहूं तो मैं हमेशा खुद को एक इनसान के तौर पर देखती हूं, न कि सिर्फ एक महिला के तौर पर. लेकिन शायद इसकी वजह से वे (एनडीए) मुझे पैसा नहीं दे रहे हैं और बंगाल की आर्थिक नाकेबंदी कर रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें