scorecardresearch
 
डाउनलोड करें इंडिया टुडे हिंदी मैगजीन का लेटेस्ट इशू सिर्फ 25/- रुपये में

मोदी को इतनी जल्दी खर्च न करें: गोविंदाचार्य

विचारक, बुद्धिजीवी के.एन. गोविंदाचार्य ने आजतक चैनल के सीधी बात कार्यक्रम में हेडलाइंस टुडे के मैनेजिंग एडिटर राहुल कंवल से बातचीत की. पेश हैं प्रमुख अंश.

X
गोविंदाचार्य गोविंदाचार्य

विचारक, बुद्धिजीवी के.एन. गोविंदाचार्य ने आजतक चैनल के सीधी बात कार्यक्रम में हेडलाइंस टुडे के मैनेजिंग एडिटर राहुल कंवल से बातचीत की. पेश हैं प्रमुख अंश.

इस वक्त बीजेपी में सबसे बड़ी बहस इस बात की है कि क्या नरेंद्र मोदी को बतौर प्रधानमंत्री घोषित किया जाए या फिर कलेक्टिव लीडरशिप के तहत आगे चुनाव लड़ा जाए. आप क्या मानते हैं?
इस वक्त देश में जिस तरह की आर्थिक और सांस्कृतिक परिस्थितियां हैं, उसमें अनुभवी हाथ की आवश्यकता है. मेरा मानना है कि लालकृष्ण आडवाणी प्रधानमंत्री रहें और नरेंद्र मोदी और राजनाथ किसी कैबिनेट मिनिस्टर के नाते हाथ आजमाएं. वो अनुभवों से खुद को पुख्ता करें. यही देश के लिए ठीक होगा.

लेकिन कई लोग कहेंगे कि इस वक्त नरेंद्र मोदी के लिए डिमांड है?
सवाल डिमांड का नहीं, देशहित का है. आडवाणी जी स्वस्थ हैं, अनुभवी हैं, सबसे सीनियर हैं, सभी को साथ लेकर चलने की क्षमता वे प्रमाणित कर चुके हैं. नरेंद्र मोदी को तो बहुत कुछ सीखना है. उनको इतनी जल्दी खर्च नहीं करना चाहिए.

लेकिन तीन टर्म से मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री रहे हैं. उनके काम की चर्चा है.
गुजरात पूरा देश नहीं है. पूरे देश में विविधताएं हैं, जटिलताएं हैं, कई अंतर्विरोध हैं. उन सभी का सामना करना, उनसे निपटना. उसके लिए व्यवहार में लचीलापन, और कौशल की जरूरत है, जो अभी तक उन्होंने प्रमाणित नहीं किया है. मुझे लगता है कि अधीरता का माहौल बन रहा है जो न मोदी के लिए अच्छा है और न देश के लिए.

हमने मौलाना महमूद मदनी का इंटरव्यू किया. उन्होंने कहा कि गुजरात में मुसलमानों ने मोदी को वोट दिया है. आपको लगता है कि अब यही पैटर्न बाकी जगह भी दिखेगा?
टाइम इज़ द बेस्ट हीलर. पर इसके बाद भी क्या प्रोवोकेशन होंगे, लोकल लीडर्स उसको कैसे काउंटर करेंगे, इस पर बहुत-सी बातें निर्भर हैं.

2014 में जिस तरह की स्थिति बन रही है उससे लग रहा है कि मोदी बनाम राहुल टक्कर होगी. आप इसे कैसे आंकते हैं?
राहुल को बहुत कुछ सीखने की जरूरत है. बेहतर है कि वे जल्दबाजी न करें. वे जितना ज्यादा घूमेंगे, उतना ज्यादा वोट कटने का भी अंदेशा रहेगा. ऐसा पिछले चुनावों में हम देख भी चुके हैं.

कल्याण सिंह, उमा भारती बीजेपी में लौट आए. आप नहीं लौटेंगे?
नहीं, क्योंकि मैंने किसी शिकवा-शिकायत, आशा-निराशा, उपेक्षा-अपेक्षा के तहत निर्णय नहीं लिया. मैंने उस समय देश की चुनौतियों का अध्ययन करने के लिए निर्णय लिया था. भाजपा के उठाव या गिराव से मैं अपना निर्णय क्यों बदलूं?

आपको नहीं लगता, आपको किसी बड़ी पार्टी का हिस्सा होना चाहिए? वैसा रुतबा हो, जैसा पहले हुआ करता था?
मैं पहले भी ऐसा ही फक्कड़ था. मेरी सेहत पर फर्क तब भी नहीं पड़ा, अब भी नहीं पड़ता. देश की दोनों प्रमुख राजनीतिक पार्टियां विदेश परस्त, अमीर परस्त हैं. जरूरत है देश में भारत परस्त और गरीब परस्त राजनीतिक ताकत की.

अण्णा और केजरीवाल से आपको क्या उम्मीद लगती है?
इस वक्त देश में ऐसे 50-55 प्रयोग चल रहे हैं. उनको जोड़ एक ताकत बनाने की कोशिश में हूं.

केजरीवाल में क्या कोई दम है?
मैं नीयत पर विश्वास करता हूं. अण्णा, रामदेव, श्री श्री रविशंकर जी की भी नीयत है. मेरी कोशिश होगी, सभी एक-दूसरे का सहयोग करें.

सीधी बात कार्यक्रम आजतक चैनल पर हर रविवार रात 8.30 बजे प्रसारित होता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें