scorecardresearch
 

फिर से सुपरस्टार का धमाल

निर्देशक पा. रंजीत ने दर्शकों को फिर से रजनीकांत का मुरीद बनाया. वे अबकी उम्रदराज और सियासी रूप से ज्यादा सजग भूमिका में

काला के सेट पर रजनीकांत के साथ निर्देशक रंजीत काला के सेट पर रजनीकांत के साथ निर्देशक रंजीत

प्राची सिब्बल

नावंधुत्तेन सोल्लु, थिरुंबी वंधुत्तेन (मैं वापस आ गया हूं, उन्हें बता दो मैं वापस आ गया हूं)'' रजनीकांत 2016 में आई हिट फिल्म कबाली में अपने खास अंदाज में ऐलान करते हैं. वे कबालीस्वरन की भूमिका में हैं जो रॉबिनहुड की तरह मलेशिया में तमिल मजदूरों के लिए लड़ता है और गिरोहों की दुश्मनी की पृष्ठभूमि में सामाजिक-राजनैतिक मुद्दों को लेकर आवाज उठाता है.

इसमें दलितों के विद्रोह सहित राजनैतिक आंदोलनों का जिक्र होता है. फिल्म की सफलता तलाइवा यानी नेता के तौर पर इस सुपर स्टार के लिए माकूल वक्त पर आई थी. इससे पहले 2010 में शंकर के निर्देशन में विज्ञान पर आधारित काल्पनिक कहानी वाली उनकी फिल्म एंतिरान ने बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त धमाल मचाया था.

लेकिन बेटी सौंदर्य रजनीकांत के निर्देशन में बनी एनीमेटेड फिल्म कोचादइयान (2016) और के.एस. रविकुमार की लिंगा (2016) की नाकामी के चलते इस सुपरस्टार को प्रशंसकों से माफी मांगनी पड़ी और उन्होंने वितरकों को उनके नुक्सान की भरपाई भी की थी.

तब अटकलें लगाई जाने लगी थीं कि रजनीकांत तीन दशक के शानदार करियर के बाद अब शायद रिटायर हो सकते हैं. तमिल दर्शकों की रुचि बदल रही थी और तलाइवा को चुपचाप बैठकर नए सिरे से सोचना पड़ा था. धमाकेदार वापसी के लिए सुपरस्टार को कुछ नया करने की सख्त जरूरत थी.

उन्होंने युवा और वरिष्ठ फिल्म निर्माताओं से कहानियां मंगवाईं. उसी मोड़ पर 36 वर्षीय पा. रंजीत का प्रवेश होता है, जिन्होंने 2014 में कामयाब सियासी ऐक्शन फिल्म मद्रास बनाई थी.

कभी निर्देशक वेंकट प्रभु के सहायक रहे रंजीत ने एक रोमांटिक कॉमेडी अट्टाकाती के साथ शुरुआत की और सियासी सोच के साथ अपनी अलग पहचान बना ली.

उनकी एक अलग दलित पहचान बन गई जो नास्तिक है और उन मुद्दों को उठाता है जो तमिलनाडु और पूरे भारतीय समाज से जुड़े हैं.

रजनीकांत के साथ उनकी दूसरी फिल्म काला है. इस फिल्म में 67 वर्षीय रजनीकांत ने मुंबई के धारावी में रहने वाले एक तमिल डॉन करीकालन की भूमिका निभाई है जो गरीबों के हक के लिए लड़ता है.

काले रंग की लुंगी पहन वह खास अंदाज में अकड़कर चलता है. उसकी पसंद का काला रंग मेहनतकश वर्ग का प्रतीक है जबकि खलनायक जैसी भूमिका में हरि दादा (जिसकी भूमिका नाना पाटेकर ने की है) झक सफेद रंग के कपड़े पहनता है.

रंजीत कहते हैं, "करिकालन बस एक या दो वाक्य ही बोलता है पर पूरे आत्मविश्वास के साथ.'' वे बताते हैं, "कई बार रजनीकांत ने कुछ संवाद बोलने और कुछ दृश्यों को करने से मना कर दिया था.

उन्हें लगता था कि वे संवाद उनके चरित्र से मेल नहीं खाते थे. उन्होंने कहा, "करिकालन ऐसा नहीं कर सकता है.'' और लोग मेरे ऊपर आरोप लगाते हैं कि मैंने रजनीकांत को धमाकेदार संवाद नहीं दिए.''

शुरुआत

सुपरस्टार के साथ रंजीत के संपर्क का श्रेय सौंदर्य को जाता है, जिनसे उनकी मुलाकात 2010 में वेंकट की फिल्म गोवा के सेट पर हुई थी.

इससे पहले वे जानते थे कि वे इस दिग्गज अभिनेता के लिए फिल्म की कहानी लिख रहे थे. रंजीत कहते हैं, "वे मद्रास देख चुके थे और उन्हें फिल्म बहुत अच्छी लगी थी. उन्हें मेरे काम पर भरोसा था.''

कबाली में कई चीजें एकदम नई थीं. अब तक बड़ी उम्र के किरदार करने से बचते आ रहे रजनीकांत ने इसमें एक बूढ़े आदमी की भूमिका की थी. रंजीत कहते हैं, "कबाली दरअसल रजनीकांत की बाकी फिल्मों से अलग थी. उसमें रजनी के बहुत-से जाने-पहचाने अंदाज नहीं थे.

उसमें उनकी एक जवान बेटी थी और इसमें राजनीति का रंग था. उनके प्रशंसकों को इस फिल्म से एक झटका सा लगा था. वे मेरे पास आते और पूछते थे, "आपने रजनीकांत के साथ यह क्या कर दिया?'' कबाली को मिश्रित प्रतिक्रिया मिली लेकिन बॉक्स ऑफिस पर मोटी कमाई हुई.

दूसरी पारी

सुपरस्टार के साथ अपनी दूसरी पारी में रंजीत पहले से ज्यादा समझदार दिखते हैं और ज्यादा परिपक्व मुद्दे उठाते हैं. वे कहते हैं, "इस बार मैं रजनीकांत के प्रशंसकों की ओर से मिली आलोचनाओं को लेकर सचेत था और कुछ अलग करना चाहता था.

इस बार मैं जमीन के अधिकारों और झुग्गी बस्तियों को खाली करने जैसे ज्यादा ज्वलंत मुद्दों को उठाना चाहता था, साथ ही रजनीकांत को दर्शकों के सामने एक अलग रूप में पेश करना चाहता था.'' उन्हें इस फिल्म की प्रेरणा कई बातों से मिली, जिनमें 1985 में झुग्गीवासियों की जिंदगी पर आनंद पटवर्धन की डॉक्युमेंट्री बॉम्बे अवर सिटी भी शामिल थी.

रंजीत कहते हैं, "मुंबई क्षैतिज और ऊंचाई की ओर बढ़ता शहर है. ऊंचाई बढ़ती है तो क्षैतिज गायब हो जाता है. जिन लोगों को शहर को सुंदर बनाने के लिए लाया गया था, वे ही अब अवांछित बन गए हैं.''

रंजीत ने यहां की समस्याएं और यहां की जिंदगी समझने के लिए छह महीने झुग्गियों के आसपास घूमते और लोगों से बातचीत करते गुजारे थे. वे बताते हैं, "मैं वहां (मुंबई) फिल्म का सेट बनाना चाहता था क्योंकि वहां सांस्कृतिक विविधता है.

मैं इसे केवल तमिल फिल्म नहीं बनाना चाहता था.'' उन्होंने वहां गुजरातियों, महाराष्ट्र के लोगों और दूसरे समुदाय वालों से मुलाकात की. तभी तो इसमें नाना पाटेकर, हुमा कुरैशी, अंजली पाटील और पंकज त्रिपाठी जैसे बॉलीवुड के कलाकार हैं.

सियासी रंग

रजनीकांत ने 31 दिसंबर, 2017 को सक्रिय राजनीति में उतरने का ऐलान किया था. उस समय काला का निर्माण चल रहा था. तमिल दर्शकों को बड़ी बेसब्री से उस फिल्म का इंतजार है जिससे उनकी राजनैतिक विचारधारा का संकेत मिलेगा.

अब तक रजनी ने यही कहा है कि उनकी राजनैतिक यात्रा आध्यात्मिक होगी. रंजीत ने उनकी घोषणा पर कैसी प्रतिक्रिया दी थी. वे बताते हैं, "हम राजनीति पर काफी चर्चाएं कर चुके हैं. रजनी सर मेरी आंबेडकरवादी विचारधारा के बारे में जानते हैं.''

एक राजनैतिक फिल्म, दो अलग-अलग विचारधाराएं और भावी राजनेता, क्या यह संतुलन का संकेत है? रंजीत जवाब देते हैं, "फिल्म में कोई बदलाव नहीं है. मेरी हमेशा से राजनीति में रुचि रही है, लेकिन चुनावी नहीं. लोगों की समस्याओं को उठाना जरूरी है और रजनी सर ने फिल्म की कहानी में किसी तरह का दखल नहीं दिया है.''

रजनीकांत जब राजनेता के रूप में नई भूमिका में आ रहे हैं तो काला की ज्यादा गहराई से पड़ताल की जाएगी. हाल ही में स्टरलाइट विरोध प्रदर्शनों में पुलिस गोलीबारी के बाद थूतुकुडी के अपने दौरे में रजनीकांत ने हिंसा के लिए असामाजिक तत्वों को जिम्मेमेदार ठहराया था.

उन्होंने कहा था, "हर बात के लिए विरोध प्रदर्शन होगा तो तमिलनाडु कब्रगाह में तब्दील होकर रह जाएगा.'' 2 जून को कन्नड़ समर्थक कार्यकर्ताओं ने कावेरी मैनेजमेंट बोर्ड के गठन का समर्थन करने के कारण रजनीकांत की फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की मांग की थी.

अब देखना होगा कि कर्नाटक में फिल्म काला रिलीज हो पाती है या नहीं, और एक राजनेता के तौर पर रजनीकांत तमिलनाडु के लिए क्या करते हैं. लेकिन रंजीत का कहना है कि वे फिलहाल रुकने वाले नहीं. वे कहते हैं, "मैं राजनैतिक फिल्में बनाता रहूंगा, ऐसी फिल्में जो लोगों की सामाजिक समस्याओं का समाधान करें.''

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें