scorecardresearch
 

प्रतिबद्ध निर्देशक

मीरा नायर का मानना है कि अगर हम हम अपनी कहानियां नहीं कहेंगे तो कोई दूसरा नहीं कहेगा.

मीरा नायर मीरा नायर

श्रीवत्स नेवतिया

हमने मीरा नायर से पिछले महीने बात की तो वे लखनऊ में थीं. वे अभी योगा लिबास में ही थीं और दिमाग में सैकड़ों चीजें करने का ख्याल घुमड़ रहा था. उन्होंने हमें बताया, ''हम अ सूटेबल बॉय की शूटिंग कल शुरू करने जा रहे हैं. मैं फिल्में बनाकर खुश हूं लेकिन काफी मशक्कत करनी पड़ती है.'' फिर 61 वर्षीया फिल्मकार ने यह भी जोड़ा कि वे विनम्रतावश ऐसा नहीं कह रही हैं, ''सचमुच यह करना बड़ा अच्छा लगता है लेकिन सामने एक खूबसूरत पहाड़-सा भी खड़ा मिलता है.''

नायर तो 1993 से ही विक्रम सेठ के अ सूटेबल बॉय (कोई अच्छा-सा लड़का) को फिल्मी पटकथा में ढालना चाहती थीं, जब वह छप कर आया. सेठ के उपन्यास का आधार वर्ष 1951 है. नायर के मां-बाप की शादी 1950 में हुई थी. उनके दिमाग में हमेशा ही यह ख्याल घुमड़ता रहा है कि नए-नवेले आजाद भारत में जिंदगी कैसी रही होगी. उस भारत में ''जो खुद के वजूद का एहसास कर रहा होगा.'' उपन्यास का अधिकार हासिल करने के दो साल बाद बीबीसी के लिए छह घंटे के शो का निर्देशन करके उन्हें बड़ा सुकून मिला.

उनसे बातचीत में हमेशा यह लगता है कि नायर को अपनी प्रतिबद्धताओं से डिगा पाना मुश्किल है. मसलन, वे आज भी अपने उस विचार पर कायम हैं कि ''फिल्म बनाना राजनैतिक कार्य है.'' वे कहती हैं, ''यही तो मुझमें अ सुटेबल बॉय बनाने की आग पैदा करता है. यह पहले से ज्यादा मौजूं है. यह बताता है कि हम कौन थे-एक मिलीजुली संस्कृति, सहअस्तित्व के महान राष्ट्र.''

यह सलाह कायदे की है कि नायर से बातचीत में 'वेब सीरीज' जैसी बातें न करें. वे इसके बदले 'लांग फॉर्म' को पसंद करती हैं और क्यों? ''लांग फॉर्म की विधा ही चार अलग-अलग परिवारों की यह दिलचस्प कहानी बताने का खूबसूरत तरीका है. अ सुटेबल बॉय में हम एक फिल्म में तीन फिल्में बना रहे हैं और उसमें कई तरह की हकीकतों को एक साथ उजागर करने के लिए उसी की जरूरत है.''

सेठ के 1,349 पन्नों के इस वृहद ग्रंथ के लिए सही फॉर्मेट पाकर नायर इसके लिए तकरीबन सौ अभिनेताओं को तलाश कर खुश हैं. द नेमसेक की रिलीज के तेरह साल बाद नायर फिर तब्बू के साथ काम कर रही हैं. वे कहती हैं, ''उनके पात्र में कोई तड़क-भड़क नहीं है. बस एक खामोशी-सी है.'' इसके अलावा, वे जिन दो नामों को पुष्ट करती हैं, उन्हें—इशान खट्टर और तान्या माणिकतला—शायद अभी कुछ प्रशिक्षण प्राप्त करना है.

शायद अपनी निष्कपटता और खुलेपन से ही मॉनसून वेडिंग (2001) शानदार बन गई थी. जुलाई 2002 में उसके लंदन प्रीमियर में नायर ने उसकी 'घर वापसी' का वादा किया था. नायर अब अचानक अ सुटेबल बॉय को मॉनसून वेडिंग का ''मां-बाप'' बता रही हैं. वे कहती हैं, ''मैं उस समय किताब पर काम नहीं कर सकी, लेकिन उसने मुझमें एक परिवार और उसके बदलाव की कहानी कहने की ललक जगाई.'' नायर की कई फिल्में सलाम बॉम्बे (1988), वैनिटी फेयर (2004), द रिलक्टेंट फंडामेंटलिस्ट (2012) अपने रिलीज के वर्षों बाद भी प्रासंगिक और समकालीन बनी रह सकती हैं.

नायर कभी किसी राजनैतिक सवाल से जी नहीं चुरातीं, लेकिन वे अपनी फिल्म में पिछले दौर से कोई राजनैतिक रुझान नहीं जोडऩा चाहतीं. क्या वे अमेरिकी आप्रवासियों के अनुभव पर बनी अनोखी फिल्म द नेमसेक में ट्रंप के दौर की कोई गूंज सुन पा रही हैं? वे कहती हैं, ''मेरी राय में द नेमसेक 'आवाज उठाने वाली' फिल्म मानी जाएगी लेकिन वह जीने की ललक के बारे में है. प्रवास कानूनों पर तो कोई दूसरी फिल्म होगी, जो मैंने रिलक्टेंट फंडामेंटलिस्ट में किया है.''

नायर घर का मतलब बखूबी समझती हैं, उनके तीन अलग-अलग देशों (अमेरिका, भारत और उगांडा) में एक-एक घर हैं. कंपाला में उन्होंने 15 साल पहले माइशा फिल्म लैब बनाया था. पूर्वी अफ्रीका के सिनेमा के छात्रों के लिए मुक्रत स्कूल माइशा जाने-माने निर्देशकों और लेखकों को वर्कशॉप के लिए बुलाता है. अब उसके 800 से अधिक पूर्व छात्र हैं. नायर कहती हैं, ''माइशा मेरे मंत्र पर चलता है कि अगर हम अपनी कहानियां नहीं कहेंगे तो कोई दूसरा नहीं कहेगा.'' कुछ आम हासिल के अलावा क्या सभी आंदोलन ऊब नहीं पैदा करने लगते हैं? जवाब है, ''मैं खुशनसीब हूं कि हमारे तीन खूबसूरत घर हैं. लेकिन कई बार मैं एक ही जगह हर मौसम देखना चाहती हूं. लेकिन जिंदगी तो जिंदगी है. क्या किया जाए?''

—श्रीवत्स नेवतिया

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें