scorecardresearch
 

सिनेमाः और उनकी तो निकल पड़ी

सितंबर में टोरंटो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में उसका प्रीमियर हुआ और उसने सर्वश्रेष्ठ भारतीय फिल्म का अवार्ड जीता. हाल ही में खत्म हुए मुंबई फिल्म फेस्टिवल में उसने दो और इनाम जीते. यही नहीं, सत्यजित रे की पथेर पांचाली से उसकी तुलनाएं की गईं.

विलेज रॉकस्टार विलेज रॉकस्टार

सितंबर में टोरंटो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में उसका प्रीमियर हुआ और उसने सर्वश्रेष्ठ भारतीय फिल्म का अवार्ड जीता. हाल ही में खत्म हुए मुंबई फिल्म फेस्टिवल में उसने दो और इनाम जीते. यही नहीं, सत्यजित रे की पथेर पांचाली से उसकी तुलनाएं की गईं. रे की तरह वे भी ऑट्योर यानी फिल्म के हर पहलू पर असर डालने वाली फिल्म निर्देशक हैं. दास ने फिल्म में अदाकारी के अलावा और सब किया है—लेखन, निर्देशन, फिल्मांकन, एडिटिंग और निर्माण.

इस फिल्म में 10 बरस की धुनु के मन में इच्छा है कि उसके पास अपना एक गिटार हो और वह अपने ज्यादातर पुरुष मित्रों के साथ एक बैंड शुरू करे. धुनु के पीछे-पीछे चलते हुए यह फिल्म बेहद मनमोहक सिनेमैटोग्राफी दिखाती है. असम के रमणीय ग्रामीण फलक की पृष्ठभूमि में बनाई गई यह फिल्म विलेज रॉकस्टार बचपन की बेहद खुशगवार और मर्मस्पर्शी तस्वीर उकेरती है. फिल्म से धर्मशाला इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल का समापन होगा और यह अंतरराष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव 2017 में मुकाबले में भी होगी (8-14 नवंबर).

दास ने फिल्म की शूटिंग चार साल में फैले 150 दिनों में की थी. छायगांव की ही पृष्ठभूमि में अपनी पहली फीचर फिल्म मैन विद दि बायनोक्यूलर्स (2016) का फिल्माकंन करते हुए दास इन नन्हे-मुन्ने बच्चों से मिलीं जिन्होंने उन्हें ''दिमाग खाली करना" सिखाया. दास कहती हैं, ''ये बच्चे मेरे क्रू और सपोर्ट सिस्टम बन गए. उन्होंने मुझमें और फिल्म में भरोसा किया और यही वजह है कि हम यहां हैं." दास ने फिल्म निर्माण का कोई औपचारिक प्रशिक्षण नहीं लिया है. विलेज रॉकस्टार हिंदुस्तान के स्वतंत्र सिनेमा आंदोलन की सच्ची ताकत की नुमाइंदगी करती है.

छायगांव में पैदा हुईं रीमा ने गुवाहाटी के कॉटन कॉलेज से ग्रेजुएट किया और फिर पुणे विश्वविद्यालय से समाजशास्र में मास्टर्स की डिग्री ली. वहां से वे 2003 में मुंबई आ गईं ताकि अदाकारी में हाथ आजमा सकें जो बचपन से ही उनका जुनून था. मगर इस धंधे में जगह हासिल करना आसान नहीं था. दास कहती हैं, ''मेरा रूपरंग, मेरी जबान अलहदा थी. मैं इतनी बहादुर भी नहीं थी कि दबाव झेल पाती. मुझे लगा कि मैं कोई नहीं हूं." लेकिन अंतरराष्ट्रीय वाहवाही का दास का सफर और विलेज रॉकस्टार पर इनामों की बौछार सबूत है कि सपने वाकई सच होते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें