scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: वोटों की काउंटिंग में गड़बड़ी का आरोप लगा रही ये महिला नहीं है मतगणना अधिकारी

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल होने लगा जिसे बिहार चुनाव से जोड़ा जा रहा है. वीडियो में एक महिला मतगणना को लेकर असंतु​ष्टि जाहिर करते हुए दिख रही है.

वायरल वीडियो से ली गई तस्वीर वायरल वीडियो से ली गई तस्वीर

बिहार चुनाव में मिली जीत के बाद 16 नवंबर को नीतीश कुमार ने सातवीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. राष्ट्रीय जनता दल (RJD) का आरोप है कि NDA ने ये चुनाव मतगणना में हेराफेरी करके जीता है. इसी के मद्देनजर सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल होने लगा जिसे बिहार चुनाव से जोड़ा जा रहा है. वीडियो में एक महिला मतगणना को लेकर असंतु​ष्टि जाहिर करते हुए दिख रही है. चौंकाने वाली बात ये है कि इस महिला के मतगणना अधिकारी होने का दावा किया जा रहा है.

वीडियो में महिला आरोप लगा रही है कि वोटों की काउंटिंग में गड़बड़ी हो रही है और पुलिस लोगों पर दवाब बना रही है. महिला का कहना है कि बिना उनके हस्ताक्षर लिए काउंटिंग राउंड के नतीजे घोषित किए जा रहे हैं.

वीडियो के साथ कैप्शन में लिखा है, "#भाजपा_की_बिहार_चुनावी_जीत के हथकंडे, सुनिए इस मतगणना अधिकारी को Evm के अलावा कैसे जुगाड करती है."

इंडिया टुडे एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि वीडियो के साथ किया जा रहा दावा गलत है. वीडियो बिहार का नहीं बल्कि मध्य प्रदेश का है और ये महिला एक काउंटिंग एजेंट है, ना कि मतगणना अधिकारी. महिला एक कांग्रेस प्रत्याशी की बेटी है जो हाल ही में हुए एमपी उपचुनावों की मतगणना को लेकर नाखुश थी.

इस वीडियो को भ्रामक दावे के साथ फेसबुक और ट्विटर पर जमकर शेयर किया जा रहा है. ये पोस्ट हजार से भी ज्यादा बार शेयर हो चुकी है. वायरल पोस्ट का आर्काइव यहां देखा जा सकता है.

क्या है सच्चाई?

वीडियो को इन-विड टूल की मदद से खोजने पर हमें एमपी कांग्रेस का एक ट्वीट मिला. इस ट्वीट में वीडियो का लंबा वर्जन मौजूद था. ट्वीट के मुताबिक, ये वीडियो इंदौर की सांवेर सीट के लिए हो रही मतगणना के समय का है. इस सीट से उपचुनाव के लिए कांग्रेस के उम्मीदवार प्रेमचंद गुड्डू थे और तुलसी सिलावट बीजेपी के प्रत्याशी थे. एमपी कांग्रेस ने इस वीडियो को ट्वीट करते हुए कहा था कि इस सीट पर मतगणना में धांधली हो रही है और बीजेपी को जिताया जा रहा है.

खोजने पर पता चला कि वीडियो में दिख रही महिला प्रेमचंद गुड्डू की बेटी रश्मि बौरासी हैं. इस वीडियो को लेकर हमारी बात रश्मि के भाई अजीत बौरासी से हुई. अजीत ने ये बात स्पष्ट कर दी कि वीडियो के साथ किया जा रहा दावा गलत है. अजीत का कहना था ये वीडियो उनकी बहन रश्मि का है और 10 नवंबर को इंदौर में मतगणना स्थल पर वो और उनकी बहन काउंटिंग एजेंट के तौर पर मौजूद थे. काउंटिंग एजेंट चुनाव उम्मीदवार की तरफ से मतगणना वाली जगह पर मौजूद रहता है, जिससे काउंटिंग की प्रक्रिया निष्पक्ष हो सके. वहीं मतगणना अधिकारी चुनाव आयोग की तरफ से होते हैं जिनकी देख रेख में काउंटिंग होती है.  

रश्मि और अजीत का आरोप था कि मतगणना में गड़बड़ी हो रही है और काउंटिंग निष्पक्ष तरीके से नहीं हो रही. इसके बाद मतगणना स्थल पर हंगामा हो गया था. वायरल वीडियो भी इसी दौरान का है. इस उपचुनाव पर आखिर में जीत बीजेपी के तुलसी सिलावट की हुई थी.

यहां साबित हो जाता है कि वायरल पोस्ट भ्रामक है. ये वीडियो मध्य प्रदेश का है और वीडियो में दिख रही महिला एक काउंटिंग एजेंट के तौर पर मतगणना में हेराफेरी का आरोप लगा रही थी.

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

वीडियो में मतगणना अधिकारी बता रही हैं कि कैसे बिहार चुनाव में काउंटिंग में गड़बड़ी हो रही है.

निष्कर्ष

वीडियो बिहार का नहीं बल्कि मध्य प्रदेश का है. वीडियो में दिख रही महिला कांग्रेस प्रत्याशी प्रेमचंद गुड्डू की बेटी रश्मि बौरासी हैं जो हाल ही में हुए एमपी उपचुनावों की मतगणना को लेकर नाखुश थीं.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें