scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: जगमगाते जहाजों का ये वीडियो भारतीय नौसेना की दिवाली नहीं दिखाता

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम ने पाया कि वायरल वीडियो साल 2016 में विशाखापट्टनम में हुए ‘इंटरनेशनल फ्लीट रीव्यू’ नाम के आयोजन से जुड़ा है. दिवाली पर्व से इसका कोई लेना-देना नहीं है.  

रोशनी से जगमगाते पानी के जहाज रोशनी से जगमगाते पानी के जहाज

रोशनी से जगमगाते पानी के जहाज और उसके ऊपर आतिशबाजी से नहाया आसमान... इस खूबसूरत नजारे वाला एक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब शेयर हो रहा है. कई लोग कह रहे हैं कि ये साल 2020 में भारतीय नौसेना के दिवाली मनाने का वीडियो है.

इस पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है. इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि वायरल वीडियो साल 2016 में विशाखापट्टनम में हुए ‘इंटरनेशनल फ्लीट रीव्यू’ नाम के आयोजन से जुड़ा है. दिवाली पर्व से इसका कोई लेना-देना नहीं है.  

वीडियो शेयर करते हुए एक यूजर ने अंग्रेजी में कैप्शन लिखा, जिसका हिंदी अनुवाद है, “भारतीय सेना साल 2020 में दिवाली मनाते हुए”.

यह वीडियो फेसबुक पर काफी वायरल है. ट्विटर और इंस्टाग्राम पर भी इसे काफी लोग शेयर कर रहे हैं.  

क्या है सच्चाई

हमने पाया कि वायरल वीडियो दिवाली पर्व का नहीं बल्कि विशाखापट्टनम में फरवरी 2016 में आयोजित ‘इंटरनेशनल फ्लीट रीव्यू’ का है. इस आयोजन में 50 देशों की नौसेनाओं ने हिस्सा लिया था. वीडियो के कीफ्रेम्स को इनविड टूल की मदद से निकालकर उन्हें रिवर्स सर्च करने पर हमें एक यूट्यूब वीडियो मिला. इसमें वायरल वीडियो से मिलते-जुलते कई दृश्य हैं. यहां वीडियो के साथ अंग्रेजी में कैप्शन लिखा है, जिसका हिंदी अनुवाद है, “बंगाल की खाड़ी में भारतीय नौसेना के जगमगाते वॉरशिप”.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यूट्यूब चैनल पर भी इस आयोजन से जुड़ा वीडियो 7 फरवरी 2016 को शेयर किया गया था. इस वीडियो का कुछ हिस्सा ही वायरल वीडियो में नजर आता है.  

हमने ये भी पाया कि जहां असल वीडियो में आयोजन से जुड़ी कमेंट्री चल रही है, वहीं वायरल वीडियो में तेज म्यूजिक की आवाज है. साफ पता चलता है कि वायरल वीडियो में ये म्यूजिक इसलिए डाला गया है, ताकि कमेंट्री सुनकर कोई इस आयोजन की असलियत न जान जाए.

प्रधानमंत्री मोदी के यूट्यूब चैनल पर मौजूद वीडियो के एक स्क्रीनशॉट की तुलना हमने हमने वायरल वीडियो के स्क्रीनशॉट से की. हमें दोनों में कई समानताएं नजर आईं.

इस आयोजन से जुड़ी तस्वीरें ‘इकोनॉमिक टाइम्स’ की इस रिपोर्ट में देखी जा सकती हैं. यानी ये बात साफ है कि वायरल वीडियो भारतीय नौसेना के दिवाली मनाने को नहीं दिखाता, बल्कि ये विशाखापट्टनम में साल 2016 में हुए ‘इंटरनेशनल फ्लीट रीव्यू’ आयोजन से जुड़ा है.
 

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

लाइटों से सजे पानी के जहाजों और आतिशबाजी के साथ भारतीय नौसेना ने दिवाली पर्व मनाया.

निष्कर्ष

वीडियो में दिख रहा नजारा साल 2016 में विशाखापट्टनम में हुए ‘इंटरनेशनल फ्लीट रीव्यू’ आयोजन से जुड़ा है.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें